Good News: बच्चों के लिए कारगर दिखे दो कोविड-19 टीके, नन्हें बंदरों पर किया गया था टेस्ट - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | विदेश| नया इंडिया|

Good News: बच्चों के लिए कारगर दिखे दो कोविड-19 टीके, नन्हें बंदरों पर किया गया था टेस्ट

न्यूयॉर्क | देश में कम होते कोरोना के साथ ही अब एक और राहत वाली खबर आई है. जानकारी के अनुसार अमेरिका की मॉडर्ना कोरोना की वैक्सीन बच्चों पर कारगर मजर आ रही है. शुरुआती परीक्षणों में ही टीके से आतेो सकारात्मक प्रभावों को देखकर वैज्ञानिकोें में काफी उत्साह है. बताया जा रहा है कि ये वैक्सीन सार्स-कोव-2 वायरस से लड़ने में कारगर एंटीबॉडी उत्पन्न करने वाले साबित हुई है. जर्नल ‘‘साइंस इम्यूनोलॉजी’’ में मंगलवार को प्रकाशित खभर इस बात का ओर संकेत करता है कि बच्चों के लिए टीका महामारी की विभीषिका को कम करने में कारगर हथियार साबित हो सकता है.

बच्चों से भी हो सकता है संक्रमण का प्रसार

अमेरिका के न्यूयॉर्क-प्रेस्बाइटेरियन कॉमनस्काई चिल्ड्रेन हॉस्पिटल की सेली पर्मर ने इस संबंध में कहा कि कम उम्र के बच्चों के लिए सुरक्षित और प्रभावी टीके से कोविड-19 के प्रसार को सीमित करने में मदद मिलेगी. उन्होंने कहा कि हम जानते हैं कि, भले ही बच्चे सार्स-कोव-2 के संक्रमण से बीमार हों या बिना लक्षण वाले हों, वे इसका प्रसार कर सकते हैं. उन्होंने कहा कि इससे भी बड़ी बात है कि कई बच्चे बीमार हुए और यहां तक कि संक्रमण की वजह से कई की मौत तक हो गई. संक्रमण को रोकने के लिए लगाई गई पाबंदियों से बच्चों पर कई और नकारात्मक असर पड़े. इसलिए बच्चे कोविड-19 से बचाए जाने के लिए टीके के हकदार हैं.

इसे भी पढें- ऐसा तो हैवान भी नहीं करते..एक बेटे ने अपनी मां के किए 1000 टुकड़े, बेड पर बिछाकर खाता अपनी मां का मांस

????????????????????????????????????

बंदरों पर किया गया था परिक्षण

इस शोध को 16 नन्हें बंदरों पर किया गया था. बताया गया है कि टीके की वजह से वायरस से लड़ने की क्षमता 22 हफ्तों तक बनी रही. फिलहाल वैज्ञानिक इस साल टीके से लंबे समय तक संभावित सुरक्षा कवच उत्पन्न करने के लिए चुनौती पूर्ण अध्ययन कर रहे हैं. अमेरिका स्थित नॉर्थ कैरोलिना विश्वविद्यालय में प्रोफेसर क्रिस्टीना डी पेरिस ने कहा कि हम संभावित एंटीबॉडी का स्तर वयस्क मैकाक से तुलना कर देख रहे हैं, हालांकि, मैकाक के बच्चों को महज 30 माइक्रोग्राम टीके की खुराक दी गई जबकि वयस्कों के लिए यह मात्रा 100 माइक्रोग्राम थी.

इसे भी पढें-  कोरोना से संक्रमित मरीज की महिला कर्मचारी ने गला घोंटकर कर दी हत्या, बताया ये कारण

Latest News

बूचड़खानों पर रोकः बुनियादी सवाल ?
उत्तराखंड की सरकार ने हरिद्वार में चल रहे बूचड़खानों पर रोक लगा दी थी। वहां के उच्च न्यायालय ने इस रोक को…

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

});