Fine Collected in Delhi : 2 महीने में वसूला गया 51.7 करोड़ का जुर्माना.....
कोविड-19 अपडेटस | देश | दिल्ली| नया इंडिया| Fine Collected in Delhi : 2 महीने में वसूला गया 51.7 करोड़ का जुर्माना.....

हम नहीं सुधरेंगे ! दिल्ली में कोरोना गाइडलाइन की अनदेखी करने पर 2 महीने में वसूला गया 51.7 करोड़ का जुर्माना

Fine Collected in Delhi

नई दिल्ली | Fine Collected in Delhi : देश में कोरोना की दूसरी लहर ने किस करह का उत्पाद मचाया था ये किसी से भी छिपा हुआ नहीं है. उन हालातों को देखने के बाद भी लोगों में अब भी जागरूकता का अभाव देखने को मिल रहा है. देश की राजधानी दिल्ली की बात करें तो लापरवाही को दिखाने वाले कुछ आंकडें डराने वाले हैं. पिछले 2 महीनों की बात करें तो सिर्फ दिल्ली में लापरवाही करने वालों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए अब तक 51.7 करोड़ का फाइन नसूला गया है. मतलब साफ है कि सरकार द्वारा दी जा रही छूटों के बाद अब लोग एक बार फिर से लापरवाह होते जा रहे हैं. यहीं हालात रहे तो एक बार फिर से देश कोरोना की तीसरी लहर के पास जा सकता है. सबसे बड़े आश्च्य की बात है कि इन परिस्थितियों में भी लोग सिर्फ पुलिस और प्रशासन की डर से मास्क पहनते हैं. बता दें कि ये आंकड़ा 23 अप्रैल से 7 जुलाई के बीच का है.

Fine Collected in Delhi
सबसे ज्यादा लोगों पर मास्क के कारण लगा फाइन

Fine Collected in Delhi : 51.7 करोड़ का जो आंकड़ा जारी किया गया है इसमें सबसे ज्यादा फाइन मास्क के बिना सड़कों पर निकलने वाले लोगों से लिया गया है. बता दें कि इन दो महीने में दिल्ली में 2.7 लाख लोगों से फाइन मास्क ना पहनने के काऱण लिया गया है. इसके साथ ही 27 हजार से ज्यादा लोगों से सोशल डिस्टेंसिंग ना बनाए रखने के लिए फाइन वसूले गये हैं. इनके अलावा 11,000 से अधिक लोगों पर खुले में थूकने के लिए जुर्माना लगाया गया. और तो और कोरोना काल में भी लापरवाही की हद पार कर सार्वजनिक स्थलों पर गुटखा और तंबाकू चबाने वाले 3 हजार से ज्यादा लोगों से फाइन लिया गया.

इसे भी पढें-toofan Boycott : रिलीज होने से पहले ही फरहान अख्तर की ‘तूफान’ बनी बॉयकॉट का कारण, लेकिन क्यों..

Fine Collected in Delhi
जून में सबसे ज्यादा वसूला गया जुर्माना

फाइन के संबंध में जानकारी देते हुए एक अधिकारी ने बताया कि ज्यादातर लोगों से जुर्माना जून में वसूला गया है. बता दें कि जून से कोरोना का कहर कम होना शुरू हो गया था. इसके साथ ही वैज्ञानिकोें द्वारा लगातार लोगों को तीसरी लहर के लिए आगाह किया जा रहा था. जून में वसूले गये जुर्माने को ऐसे भी समझ सकते हैं कि लोग इस दौरान सबसे ज्यादा सड़कों पर निकले थे. इसके पीछे का कारण है कि दिल्ली में 31 मई से दिल्ली में लॉकडाउन में छूट दी गई थी.

इसे भी पढें-राजस्थानः नई शिक्षा नीति का क्या असर होगा छात्रों पर CBCS यूनिवर्सिटी और कॉलेज में लागू होने से..

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
डा कादिर खानः पाक के हीरो या जीरो?
डा कादिर खानः पाक के हीरो या जीरो?