Corona Alert: इंसानों में मिला कुत्तों वाला कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात - Naya India
कोविड-19 अपडेटस | ताजा पोस्ट | देश | विदेश| नया इंडिया|

Corona Alert: इंसानों में मिला कुत्तों वाला कोरोना वायरस, वैज्ञानिकों ने कही ये बात

New Delhi: विश्वभर में कोरोना के कारण अब देश की सरकारें सतर्क हैं. लगभग सभी देशों के वैज्ञानिक अभी भी कोरोना पर लगातार रिसर्च कर रहे हैं. आसे में अब वैज्ञानिकों ने निमोनिया से पीड़ित कुछ लोगों में कुत्तों में पाए जाने वाले एक नयी तरह के कोरोनावायरस का पता लगाया है. यह कहने, सुनने में भले खतरनाक लग सकता है, लेकिन इसका विश्लेषण करने के बाद लगता है कि इसकी वजह से आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है.
मलेशिया के सरवाक के एक अस्पताल में आठ लोगों में कुत्तों का कोरोनावायरस पाए जाने के बारे में अत्यधिक सम्मानित अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों के एक समूह ने नैदानिक ​​​​संक्रामक रोगों से संबंधित विभाग को सूचित किया है. तो क्या इसका यह मतलब निकाला जाए कि कुत्ते इंसानों में कोरोनावायरस फैला सकते हैं.

कुत्तों के कोरोना वायरस पूरी तरह से अलग

सबसे पहले स्पष्ट करने वाली बात यह है कि कुत्तों का कोरोनावायरस क्या है. यह जान लेना महत्वपूर्ण होगा कि यह सार्स-कोवी-2, जो वायरस कोविड-19 का कारण बनता है,से काफी अलग है,. कोरोनावायरस परिवार को वायरस के चार समूहों में विभाजित किया जा सकता है: अल्फा, बीटा, गामा और डेल्टा कोरोनावायरस.
सार्स-कोवी-2 बीटाकोरोनावायरस समूह में आता है, जबकि कुत्तों के कोरोनावारस पूरी तरह से अलग अल्फ़ाकोरोनावायरस समूह से हैं.

इसे भी पढें- वैक्सीन से बनी एंटीबॉडी कोरोना के नए-नए वैरिएंट को जन्म देगी- प्रोफेसर ल्यूक मॉन्टैग्नियर

वैज्ञानिक को 50 वर्षों से है इसकी जानकारी 

वैज्ञानिकों को लगभग 50 सालों से कुत्तों में फैलने वाले कोरोना वायरस की जानकारी है. इस अवधि के अधिकांश समय में ये वायरस अपने एक अनजान अस्तित्व के साथ मौजूद रहे और केवल पशु चिकित्सक और कभी-कभी कुत्तों को पालने वाले लोग इनमें रूचि रखते थे. इन वायरस के इन्सानों को संक्रमित करने के बारे में पिछली कोई जानकारी नहीं है. लेकिन अब अचानक दुनिया में सब तरफ कोरोनावायरस पर सबकी नजर रहने से उन जगहों पर भी कोरोनावायरस की मौजूदगी के निशान मिल रहे हैं, जहां इन्हे पहले कभी नहीं देखा गया था. बता दें कि वैज्ञानिक विशेष रूप से सिर्फ कुत्तों के कोरोनावायरस की तलाश नहीं कर रहे थे, शोधकर्ता एक ऐसा परीक्षण विकसित करने की कोशिश कर रहे थे जो एक ही समय में सभी प्रकार के कोरोनावायरस का पता लगा सके – एक तथाकथित पैन-सीओवी परीक्षण. वैज्ञानिकों ने कहा है कि कुत्तों के कोरोना वायरस से हमें परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि ये इंसानों को ज्यादा प्रभावित नहीं कर सकता है.

इसे भी पढें- सारे जहां से है प्यारी मेरे भारत की बेटी…….. पुलवामा में शहीद सैन्यकर्मी की पत्नी सेना में हुई शामिल, लेफ्टिनेंट जनरल ने कंधे पर स्टार लगा दिया सम्मान

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
बनारस दक्षिणी सीट के विधायक की चिंता
बनारस दक्षिणी सीट के विधायक की चिंता