Loading... Please wait...

सोचा नहीं था नौवें रणजी फाइनल में खेलूंगा: जाफर

इंदौर। दो महीने से भी कम समय में 40 बरस के होने वाले वसीम जाफर प्रथम श्रेणी क्रिकेट में इतना कुछ हासिल कर चुके हैं जो अधिकांश खिलाडी हासिल नहीं कर पाते लेकिन इसके बावजूद बल्लेबाजी क्रीज पर वह दुनिया में सबसे अधिक सहज और शांति महसूस करते हैं।

टीम में तीन अनुभवी पेशेवर खिलाडियों में से एक जाफर ने विदर्भ को पहला रणजी खिताब दिलाने में अहम भूमिका निभाई जो उनका नौवां रणजी खिताब है। मुंबई का प्रतिनिधित्व करते हुए जाफर ने जो अपार अनुभव हासिल किया उसका विदर्भ को काफी फायदा मिला और उन्होंने लगभग 600 रन बनाने के अलावा युवा खिलाडियों के लिए मेंटर की भूमिका भी निभाई।

जाफर ने स्वीकार किया कि उनमें अब काफी अधिक साल का क्रिकेट बाकी नहीं है लेकिन इस पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज ने कहा कि वह जब तक फिट रहेंगे तब तक खेलते रहेंगे। प्रथम श्रेणी क्रिकेट में लगभग 18000 रन बना चुके जाफर ने कहा, संभवत: किसी ने भी नहीं सोचा होगा कि मैं एक और रणजी फाइनल में खेलूंगा लेकिन मैंने नौवां रणजी ट्राफी खिताब जीता। विदर्भ के अभियान में जबकि वह अन्य खिलाडियों के योगदान को नहीं भूले हैं।

इस अनुभवी बल्लेबाज ने कहा, विदर्भ के पास प्रतिभा थी लेकिन मुझे लगता है कि (कोच) चंद्रकांत पंडित काफी अनुशासन, सख्ती लेकर आए और उन्होंने खिलाडियों को जोखिम उठाना सिखाया जिसकी मुझे लगता है कि जरूरत थी। उन्होंने कहा, इन खिलाडियों में प्रतिभा है लेकिन कभी कभी उनसे अधिक प्रयास कराने होते हैं क्योंकि उन्हें अपनी सीमा नहीं पता। इसलिए मेरी, (गेंदबाजी कोच) सुब्रतो (बनर्जी) और चंदू की मौजूदगी में आप देख सकते हैं कि वे क्या कर सकते हैं।

325 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech