• [EDITED BY : Super Admin] PUBLISH DATE: ; 06 May, 2019 07:43 AM | Total Read Count 142
  • Tweet
गंगा की ऐसी सेवा!

नरेंद्र मोदी ने खुद को गंगा पुत्र बताया था। यह 2014 की बात है। तब उन्होंने गंगा को साफ करने का संकल्प लिया और देश ने उस पर भरोसा किया था। लेकिन असल में क्या हुआ? हालांकि हाल के समय में कई अध्ययनों और रिपोर्टों हकीकत बताई है, लेकिन हर आने वाली रिपोर्ट उतनी ही अहम है। ताजा रिपोर्ट एक अंग्रेजी अखबार में छपी। उसमें अखबार आधिकारिक रिकॉर्ड के हवाले से बताया गया है कि केंद्र सरकार ने 2015 में जब नमामि गंगे मिशन शुरू किया, तब 100 सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट प्रोजेक्ट शुरू हुए थे। उनमें से अब तक सिर्फ 10 पूरे हो सके हैं। नमामि गंगे मिशन का मुख्य उद्देश्य सीवेज का ट्रीटमेंट और सीवर लाइन बिछाना है, ताकि गंगा में गिरने वाले गंदे पानी से निजात पाई जा सके। इस काम के लिए कुल 28 हजार करोड़ रुपये जारी किए गए। इसमें 23 हजार करोड़ रुपये केवल सीवेज प्रबंधन के लिए जारी हुए थे। बाकी के पैसे गंदगी की सफाई और घाटों के सौंदर्यीकरण के लिए जारी किए गए थे। लेकिन इस दौरान काम इतना सुस्त रहा कि 28 हजार करोड़ में से महज 6,700 करोड़ रुपये खर्च हुए। गंगा में गंदे पानी की मिलावट सबसे ज्यादा उत्तर प्रदेश में होती है। कुल गंदगी का लगभग तीन चौथाई हिस्सा इसी राज्य से गंगा में मिलता है।

नमामि गंगे मिशन के शुरू होने के बाद यहां 33 सीवेज ट्रीटमेंट प्रोजेक्ट शुरू हुए, लेकिन इनमें से सिर्फ एक पूरा हो सका है। इस सरकार से पहले उत्तर प्रदेश में कुल 18 प्रोजेक्ट चल रहे थे, जिनमें से 13 पूरे हो चुके हैं। दूसरी तरफ नरेंद्र मोदी सरकार ने गंगा का उद्धार कर दिखाने का दावा किया। 20 हजार करोड़ रुपये शुरुआत में ही जारी भी कर दिए गए थे। लेकिन सिर्फ पैसे जारी कर देना काम पूरा होने की गारंटी नहीं होती। आंकड़ों से ये बात साफ हो चुकी है। मार्च तक उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक अब तक इस प्रोजेक्ट के लिए कुल 28 हजार करोड़ रुपये जारी हो चुके हैं। लेकिन इसमें से सिर्फ 25 फीसदी धन खर्च किया गया है। ये करीब 6,700 करोड़ होता है। पिछले साल मार्च तक 20 फीसदी धन खर्च हुआ था। नतीजतन, राज्य और केंद्र प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मुताबिक गंगा जिस भी शहर से गुजरती है, कहीं भी उसका पानी पीने या नहाने लायक नहीं है। तो यह सवाल जरूर पूछा जाएगा कि गंगा पुत्र ने आखिर गंगा मां के लिए क्या किया?

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories