• [EDITED BY : Super Admin] PUBLISH DATE: ; 02 May, 2019 07:40 AM | Total Read Count 69
  • Tweet
परित्यक्ताओं की किसे फिक्र?

ताजा आंकड़ों से जाहिर होता है कि ये समस्या बढ़ती जा रही है। समस्या है भारत में शादी करने के बाद पत्नियों को यहीं छोड़कर भाग जाने वाले एनआरआई पतियों की। 2018-19 में भगौड़े एनआरआई पतियों की शिकायतों के मामले पिछले कुछ सालों की तुलना में ज्यादा सामने आए। इस दौरान भगौड़े एनआरआई पतियों की कुल 828 शिकायतें मिली हैं। सबसे ज्यादा 96 शिकायतें दिल्ली, 95 पंजाब, 94 उत्तर प्रदेश और 68 हरियाणा में दर्ज हुईं। वैसे दक्षिण और पश्चिम भारत में भी ऐसी शिकायतों में कमी नहीं है। 2017 में महिला आयोग को कुल 528 शिकायतें मिली थीं। तब सबसे ज्यादा उस समय यूपी, दिल्ली, महाराष्ट्र और पंजाब से थीं। राष्ट्रीय महिला आयोग ने दस साल पहले सितंबर 2009 में एनआरआई सेल का गठन किया था। 2008 में महिला सशक्तीकरण पर गठित संसदीय समिति की सिफारिशों पर एनआरआई शादियों से जुड़े मुद्दों के लिए आयोग को को-ऑर्डिनेटिंग एजेंसी बनाया गया था। तबसे कुल उसके पास ऐसे पतियों की 4,274 शिकायतें आ चुकी हैं, जो शादी कर चंपत हो जाते हैं। अपनी नवविवाहिता पत्नी को वो ससुराल वालों और रिश्तेदारों के पास या अपने हाल पर छोड़ जाते हैं। महिला आयोग के पास उपलब्ध सूचना के मुताबिक विदेश मंत्रालय ने पिछले साल से अब तक 61 पुरुषों के पार्सपोर्ट या तो स्थगित या रद्द कर दिए हैं।

अन्य 14 मामलों की जांच जारी है। महिलाएं अब लोकलाज के डर से रिपोर्ट कराने में संकोच नहीं कर रही हैं। उनकी कथा से पता चलता है कि महिलाओं को आखिर घर हो या बाहर कितनी भयानक यातनाओं, मुसीबतों और असुरक्षाओं का सामना करना पड़ रहा है। हकीकत यह है कि केंद्र सरकार इस मामले पर देर में जागी। इस साल फरवरी जाकर में बजट सत्र के दौरान राज्यसभा में "द रजिस्ट्रेशन ऑफ मैरेज ऑफ नॉन रेजिडंट इंडियन बिल 2019" पेश किया गया। कड़े प्रावधानों के वाला यह बिल जहां का तहां ही अटका रह गया। यानी अब नई लोकसभा में इसे फिर से पास कराना होगा। पिछले अक्टूबर में एनआरआई पतियों के खिलाफ पीड़िताओं ने एक याचिका कोर्ट में डाली थी। हिंसा और परित्यक्तता के अलावा अदालती समन की पतियों द्वारा अनदेखी, भारत आने पर अपनी पत्नियों के वीजा रद्द कराने, कोई संपर्क न रखने, शादी कर विदेश लौट जाने वाले और वहां पहुंचकर पत्नी से सारे संपर्क काट देने, उसे वीजा न दिलाने जैसी शिकायतें भी सामने आती रही हैं। लेकिन अब तक ये महिलाएं बेसहारा ही रही हैं।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories