खतरे में लाखों प्रजातियां


[EDITED BY : Super Admin] PUBLISH DATE: ; 09 May, 2019 08:20 AM | Total Read Count 151
खतरे में लाखों प्रजातियां

अगर दीर्घकालिक नजरिया अपनाएं तो ये बेहद चिंता की खबर है। धरती पर मौजूद 10 लाख से ज्यादा जीवों पर लुप्त होने का खतरा मंडरा रहा है। संयुक्त राष्ट्र और 130 देशों की मदद से तैयार एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है। रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि अगर जैव विविधता को खो दिया गया, तो इंसान के अस्तित्व के लिए इसका असर जलवायु परिवर्तन के खतरे जैसा ही होगा। अध्ययनकर्ताओं के मुताबिक होगा यूं कि जैव विविधता को गंवाते गए तो गरीबी घटाने, पर्याप्त भोजन, पानी की व्यवस्था करने, इंसान की सेहत सुधारने की हमारी क्षमता कम हो जाएगी। नतीजतन कोई नहीं बचेगा। 2005 के बाद अपनी तरह की इस पहली रिपोर्ट में इंटर-गवर्नमेंटल पैनल ऑन बायोडाइवर्सिटी एंड ईकोसिस्टम सर्विसेज (IPBES) ने इंसान के सामने आ सकने वाले खतरनाक नतीजों की बात की है। दुनिया भर के 400 से भी अधिक विशेषज्ञों ने इस पर मिल कर काम किया है। वे सब मानते हैं कि अगर जीवों की किस्मों और ईकोसिस्टम में हो रही गिरावट को नहीं रोका गया, तो हर उस चीज का अकाल झेलना पड़ेगा जो इंसान के अस्तित्व के लिए जरूरी हैं। पिछले 50 सालों में धरती और सागर के इस्तेमाल के तरीकों में इतने बदलाव आए हैं, जिनसे जलवायु परिवर्तन, प्रदूषण और प्रजातियों के नष्ट होने की दर बढ़ी है। रिसर्चरों ने इसमें सामूहिक रूप से खपत बढ़ाने और सरकारों का संसाधनों पर ध्यान ना देने जैसे इंसान के बदलते व्यवहार का बड़ा हाथ पाया है।

आने वाले दशकों की सबसे बड़ी चुनौती ये होगी कि मानव जीवन में प्रकृति के अमूल्य योगदान का संरक्षण हो सके। जैव विविधता का आशय उन सब जीवों से है जो हमारी धरती पर पाए जाते हैं। इसमें बैक्टीरिया से लेकर, पौधे, जानवर, वर्षावन, कोरल रीफ सब कुछ आता है। जितना इन्हें गिनना मुश्किल है, उतना ही इनके योगदान को मापना भी। फिलहाल करीब 15 लाख प्रजातियों की पहचान की जा चुकी है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि कुल प्रजातियों की संख्या एक करोड़ से दो अरब के बीच कुछ भी हो सकती है। कई जीव तो इतने छोटे होते हैं जिन्हें डीएनए के क्रम के आधार पर पहचाना जा सकता है। नदियों को मैला करने, जंगलों को मिटाने, बेहिसाब मछलियां पकड़ने से, कीड़े मारने से इंसान प्रकृति पर बहुत ज्यादा दबाव डाल रहा है। अब मुद्दा यही है कि दुनिया को इन बातों की कितनी फिक्र है? 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories