• [EDITED BY : Harimohan Saini] PUBLISH DATE: ; 09 May, 2019 07:24 PM | Total Read Count 106
  • Tweet
वैदिक मंत्रोचरण के साथ केदारनाथ के कपाट खुले

देहरादून/रूद्रप्रयाग। उत्तराखण्ड के चारों धामों में से एक एवं 12 ज्योर्तिलिंगों में शामिल भगवान केदारनाथ धाम के कपाट को गुरुवार को सुबह शुभ महुर्त में वैदिक मंत्रोचार एंव विधि विधानों के साथ श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया।

भगवान भोलेनाथ की डोली बुधवार केदार घाटी पहुंच गई थी। अब छह माह तक भगवान केदारनाथ यहां विराजेगें। हर-हर महादेव और बम बम भोले के जयकारों के बीच सुबह 5 बज कर 35 मिनट पर भगवान भोलेनाथ के मंदिर के कपाट खोले गये।  केदारनाथ मंदिर को आज विशेष फूलों से सजाया गया। केदारनाथ में पूरोहितों ने भी इस बार निर्विघ्न यात्रा सम्पन्न होने के लिए भगवान केदारनाथ से प्रार्थना की और यहां आने वाले तीर्थ यात्रियों की मनोकामना पूर्ण करने हेतु विशेष आग्रह भगवान के समक्ष अपने मंत्रोचारण से किया।  दो दिन पहले उखीमठ से केदारनाथ के लिए बाबा की डोली गाजेबाजे के साथ रवाना हुई थी। जो कल यहां पहुंची। प्रशासन ने भी इस बार केदारनाथ में करीब 6000 यात्रियों के ठहरने की व्यवस्था और प्राथमिक उपचार के लिए अस्थाई चिकित्सालय भी बनाये गए है।

इसी बीच भगवान बद्रीनाथ के कपाट खुलने की भी प्रक्रिया शुरु हो गयी है। जोशी मठ से बुधवुार को रवाना हुई भगवान बद्रीनाथ की तेल कलश यात्रा भी बद्रीनाथ पहुंच गयी है। शुक्रवार को भगवान बद्रीनाथ के कपाट खुलने के बाद चारो धामों बदरी, केदार, गंगोत्री और यमनोत्री मंदिर के कपाट खुलने से यात्रियों की संख्या तेजी से बढ़ने की उम्मीद है।

चारों धामों की यात्रा में हरिद्वार, ऋषिकेश, देवप्रयाग , रूद्रप्रयाग , जोशीमठ , श्रीनगर , उत्तरकाशी सहित सभी अन्य प्रमुख स्थानो पर भी यात्रियों की सुविधा हेतु विशेष प्रबंध किये गये है।  उत्तराखंड उच्च न्यायालय की हरी झंडी मिलने के बाद केदारनाथ व अन्य स्थानो के लिए हेलिकाप्टर सेवा शुरू होने से यात्रियों को सुविधा होगी।

 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories