तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों के कारण कांग्रेस लड़ाई में


[EDITED BY : Super Admin] PUBLISH DATE: ; 14 May, 2019 09:23 AM | Total Read Count 290
तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों के कारण कांग्रेस लड़ाई में

कांग्रेस पार्टी ने कई राज्यों में अपने दिग्गज नेताओं को चुनाव लड़ाने का फैसला किया। कई जगह नेताओं के इनकार के बावजूद उनको उम्मीदवार बनाया गया। ऐसे ही दिग्गज नेताओं में तीन पूर्व मुख्यमंत्री भी हैं, जिनको कांग्रेस ने चुनाव लड़ाया और उनकी वजह से तीन राज्यों में कांग्रेस अच्छी लड़ाई में लौटी। दिल्ली, हरियाणा और मध्य प्रदेश में कांग्रेस ने अपने तीन पूर्व मुख्यमंत्रियों को चुनाव में उतारा। इनकी वजह से कांग्रेस ने भाजपा को कड़ी टक्कर दी है। 

मध्य प्रदेश में दिग्विजय सिंह के चुनाव में उतरने से पहले माहौल भाजपा के पक्ष में एकतरफा दिख रहा था। पर दिग्गी राजा की वजह से कांग्रेस चुनावी मुकाबले में आई। उन्होंने अपनी और पार्टी दोनों की छवि बदलने का भरपूर प्रयास किया है। नर्मदा परिक्रमा से उनकी छवि काफी हद तक बदली थी। भोपाल में नामांकन करने के बाद उन्होंने इतने मंदिरों के चक्कर लगाए और इतने यज्ञ, हवन आदि कराए कि उन पर और कांग्रेस पर लगा मुस्लिम तुष्टिकरण का आरोप खत्म हो गया। और भी कई कारणों से उनके लड़ने का फायदा कांग्रेस को हुआ। 

इसी तरह हरियाणा में भूपेंद्र सिंह हुड्डा के चुनाव में उतरे से लड़ाई काफी हद तक बदल गई। पहले कांग्रेस को हरियाणा की दस में से सिर्फ एक सीट की पार्टी माना जा रहा था और अब वह तीन से चार सीट जीतने की स्थिति में बताई जा रही है। हुड्डा पिता-पुत्र दो अलग सीटों से लड़ रहे हैं। ऐसे ही राजधानी दिल्ली में शीला दीक्षित को चुनाव मैदान में उतार कर कांग्रेस ने मुकाबले को त्रिकोणात्मक बना दिया। इससे पहले तीन चुनावों यानी 2013 के विधानसभा, 2014 के लोकसभा और फिर 2015 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस हाशिए की पार्टी थी और लड़ाई भाजपा व आप के बीच थी। पर शीला दीक्षित के आने से लड़ाई भाजपा और कांग्रेस की हो गई है। 

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories