तो अब नेस वाडिया की दास्तां


[EDITED BY : Super Admin] PUBLISH DATE: ; 09 May, 2019 08:15 AM | Total Read Count 143
तो अब नेस वाडिया की दास्तां

पाकिस्तान के जनक व संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना ने अपने जीवन काल में कभी इस बात की कल्पना भी नहीं की होगी कि एक दिन उनका परनाती नशीली दवाओं के साथ जापान कि जेल में पकड़ा जाएगा व उसे दो साल की जेल की सुनाई जाएगी। देश की जानी-मानी कंपनी बांबे डाइंग के प्रबंध निदेशक नेस नुस्ली वाडिया इन दिनों इसी कारण से चर्चा में है। वे बांबे डाइंग समेत ब्रिटेनिया, बांबे बर्मन ट्रेडिंग कंपनी लि. गो एयर के बोर्ड में है और ऐसी कंपनियों के मालिक हैं। वे आईपीएल की किंग इलेवन पंजाब टीम के स्थापनकर्ता में से भी है। 

इस पारसी उद्योगपति का जन्म इंग्लैंड में 30 मई 1970 को हुआ था। वह जाने-माने उद्योगपति नुस्ली वाडिया के बेटे हैं व उनकी मां मौरीन एयर होस्टेज रह चुकी है। उनकी मां का नाम दीना वाडिया व पिता का नाम नेवेली वाडिया था जोकि जिन्ना की बेटी थी। व दादी टाटा परिवार की पारसी महिला रतनबाई पेटिट थीं। 

पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना द्वारा एक पारसी महिला से प्रेम विवाह करने के कारण पारसी समाज ने रतनबाई का बहिष्कार कर दिया था। बाद में जिन्ना की इकलौती बेटी दीना वाडिया भी उनके खिलाफ हो गई और पाकिस्तान में हिंदुस्तान के महात्मा गांधी सरीखी हैसियत रखने वाले मोहम्मद अली जिन्ना के जीते-जी वह कभी वहां नहीं गई। वह अपने पारसी समाज के सामाजिक आर्थिक उत्थान के लिए बहुत काम करते आए हैं।

इस खरबपति उद्योगपति का जानी-मानी फिल्मी हस्ती प्रीति जिंटा के साथ 2005-2009 तक ईश्क चला और दोनों काफी चर्चा में रहे। हालांकि 2014 में प्रीति ने उन पर आईपीएल मैच के दौरान उन्हें छेड़ने का आरोप लगाया। चार साल तक मुकदमा चलने के बाद नेस ने उनसे माफी मांग ली व अदालत ने उन्हें इस मामले में बरी कर दिया। मगर लगता है कि उनका दुर्भाग्य समाप्त होने का नाम ही नहीं ले रहा है। इस साल 25 मार्च को छुट्टी मनाने जापान गए नेस वाडिया को वहां 25 ग्राम गांजे के साथ पकड़ा गया और अदालत ने उन्हें 2 साल की सजा सुनाते हुए सजा पांच साल के लिए स्थगित कर दी है। 

जापान के कानून के मुताबिक पहली बार अपराध करने वाले को सजा सुनाकर ही स्थगित कर देते हैं। अगर वह तय अवधि में कोई दोबारा अपराध नहीं करता है तो उसे सजा नहीं काटनी पड़ती है। कुछ समय तक हिरासत में बिताने के बाद वे भारत लौट आए। हालांकि वाडिया समूह का कहना है कि उसके मालिक नेस वाडिया की गिरफ्तारी से समूह पर कोई असर नहीं पड़ेगा। नेस के भाई का नाम जहांगीर वाडिया है। वह भी उनकी तरह ही पारिवारिक कामकाज संभाल रहे हैं। नेस वाडिया 48 साल के होने के बावजूद अभी तक अविवाहित हैं। 

नेस कुछ भी दावे करते रहे पर उनकी गिरफ्तारी की खबर आते ही वाडिया समूह के कंपनियों के शेयर 17 फीसदी गिर गए। इस आयु में अविवाहित रहने व सपन्न होने के कारण उनका महिलाओं के प्रति आकर्षित होना स्वाभाविक है। वैसे भी जिस मुल्क की नानी ने आजादी के पहले ही जाति धर्म के हथकंडों से जूझ रहे भारत में उस सबको दरकिनार करते हुए पारसी होते हुए भी मोहम्मद अली जिन्ना से प्रेम विवाह करने का फैसला किया हो तो कुछ कर दिखाने व प्यार करने का डीएनए तो उसके खून में होना स्वाभाविक हैं। कुछ समय तक वे अभिनेत्री नरगिस फाखरी के साथ देखे गए व फिर उनका द क्वीन फिल्म की अभिनेत्री लीसा हेडन के साथ ईश्क फरमाने की खबरें चर्चा में रहीं। 

वे नुस्ली वाडिया के बेटे हैं जिन्होंने इंडियन एक्सप्रेस की मदद से जाने-माने उद्योगपति रिलायंस इंडस्ट्रीज की करतूतो का खुलासा किया था। उनकी कंपनी ब्रिटेनिया इंडस्ट्रीज सौ साल की हो गई। उन्होंने टाटा समूह के रतन टाटा से भी टकराव लिया क्योंकि टाटा ने 2016 में उन्हें अपनी तीन कंपनियों के बोर्ड से हटा दिया था। कपड़ा बनाने वाली कपड़ा बांबे डाइंग से लेकर हवाई कंपनी गो एयर तक में उनका दखल रहा है। उन्हें तो आए दिन कानूनी लडाईयां लड़ते रहने के कारण कारपोरेट समूह राईट उद्योग जगत का योद्धा कहा जाता है। उनके वाडिया समूह ने तो 1736 में पानी के जहाजो का निर्माण करना शुरू कर दिया था। 

मोहम्मद अली जिन्ना ने भले ही एक अलग राष्ट्र पाकिस्तान का धर्म के आधार पर गठन करवा दिया हो मगर वे धर्म व अपने परिवार को लेकर बेहद परेशान रहे। मुंबई के सबसे महंगे व पॉश इलाके मलाबार हिल्स में उनकी कोठी थी जिसे की उन्होंने बहुत मन व पैसा लगाकर बनवाया था। जब उनकी इकलौती बेटी दीना वाडिया से मुंबई के व्यापारी नेवेली वाडिया से शादी करने का फैसला किया तो वे काफी नाराज हो गए। उन्होंने उससे कहा बताते हैं कि मुंबई में इतने पैसे वाले व सुंदर मुसलमान थे मगर तुझे शादी करने के लिए पारसी नेवेली ही मिला तो उसने जवाब दिया कि यहां इतनी सारी सुंदर पढ़ी लिखी मुस्लिम महिला हैं मगर दशको पहले भी आपको शादी करने के लिए मेरी मां पारसी रतन बाई पेटिट ही मिली। 

देश के विभाजन के बाद दीना वाडिया कभी पाकिस्तान नहीं गई। अपने पिता की मौत के बाद वह अपने बेटों के साथ उनकी मजार पर गई। वे बहुत लंबे अरसे से न्यूयार्क में रह रही थी। जीवन भर वे अपने पिता की संपत्ति के लिए सरकार से मुकदमा लड़ती रही और नवंबर 2017 में इस दुनिया से चली गई। जिन्ना एक अलग देश बनाने में तो कामयाब हो गए मगर उनकी प्यारी पत्नी मौत के बाद मुंबई में दफना दी गई। उनकी प्यारी कोठी मुंबई में ही रह गई व उनके इकलौते बेटे ने उनसे मुलाकात नहीं की और अब परनाती जापान में जेल काट कर आया है।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

Categories