Loading... Please wait...

समस्या सारे देश की

दिल्ली में वायु प्रदूषण की समस्या गहरी है और सारी इस दुनिया इस बात से परिचित है। लेकिन ये मसला सिर्फ भारत की राजधानी में ही नहीं है। यह आम अनुभव है और इसकी पुष्टि अब एक नए अध्ययन से भी हुई है कि देश की ज्यादातर आबादी दूषित हवा में सांस ले रही है। 1.3 अरब की आबादी वाले भारत की दो तिहाई जनसंख्या गांवों में रहती है। आम तौर पर गांवों की आबोहवा को शहरों के मुकाबले साफ सुथरा माना जाता है, लेकिन ताजा अनुसंधान से ये बात भी गलत साबित हुई है। आईआईटी बॉम्बे और हेल्थ इफेक्ट्स इंस्टीट्यूट के साथ मिलकर अंतरराष्ट्रीय वैज्ञानिकों की एक टीम ने भारत में पर्यावरण की हालत पर शोध किया। अमेरिकी न्यूज चैनल सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक नए शोध में पता चला कि 2015 में प्रदूषण के चलते भारत में जितनी मौतें हुईं, उनमें से 75 फीसदी मामले गांवों के थे। शोध में शामिल वैज्ञानिकों ने सीएनएन को बताया कि वायु प्रदूषण राष्ट्रीय यानी पूरे भारत की समस्या है। यह सिर्फ शहरी इलाकों या महानगरों तक ही सीमित नहीं है। दरअसल, अनुपात देखा जाए तो इसका असर ग्रामीण भारत पर शहरी भारत से कहीं ज्यादा है। वायु प्रदूषण को जानलेवा धूल के बहुत ही छोटे कण बनाते हैं। इन कणों को पीएम 2.5 कहा जाता है। 

ग्रामीण इलाकों और शहरी इलाकों में पीएम 2.5 कणों का स्तर करीब एक जैसा मिला। वैज्ञानिकों के मुताबिक आबादी ज्यादा होने और कमजोर स्वास्थ्य सेवाओं के चलते गांवों में मौतें भी ज्यादा हुईं। रिसर्च के दौरान हर राज्य के आंकड़े जुटाए गए। 2015 में भारत में वायु प्रदूषण के चलते करीब 10 लाख लोगों की मौत हुई। बीते 25 साल में आर्थिक विकास के साथ साथ भारत में प्रदूषण की समस्या भी बढ़ती चली गई। नई रिसर्च के मुताबिक खेतों में पुआल और घरों में लकड़ी या गोबर के उपले जलाने से सबसे ज्यादा वायु प्रदूषण होता है। दूसरे नंबर पर गाड़ियों से निकलने वाला धुआं है। इस प्रदूषण के खिलाफ तुरंत प्रभावी कदम नहीं उठाए गए तो 2020 तक भारत में हर साल वायु प्रदूषण 16 लाख लोगों की जान लेगा। यानी समस्या गहरी है। इसके बावजूद आम नजरिया इसकी अनदेखी का ही है। सच्चाई तो यह है कि दिल्ली में भी जब गहरा धुआं छाता है, तब खूब चिंता जताई जाती है, फिर सब कुछ सामान्य हो जाता है। तो फिर बाकी देश की क्या बात करें? 

330 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech