Loading... Please wait...

ट्रंप की आक्रामक कार्रवाई

अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस ने एक सयुंक्त कार्रवाई में सीरिया के कई ठिकानों पर हमले किए। बताया जाता है कि वे ठिकाने रासायनिक हथियारों के अड्डे थे। ये हमला बीते हफ़्ते सीरियाई कस्बे दूमा में हुए संदिग्ध रासायनिक हमले की प्रतिक्रिया के रूप में किया गया। पेंटागन स्थित एक अमेरिकी अधिकारी के मुताबिक़ जिन सीरियाई ठिकानों पर हमला किया गया, उनमें शामिल हैं- दमिश्क में स्थित एक वैज्ञानिक शोध संस्थान जो कथित रूप से रासायनिक और जैविक हथियारों के उत्पादन से जुड़ा था। होम्स शहर के पश्चिमी इलाके में स्थित रासायनिक हथियारों को रखने का ठिकाना। होम्स शहर में एक अहम सैन्य ठिकाना जहां रासायनिक हथियारों से जुड़ी सामग्री को रखा जाता था। अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा कि फ्रांस और ब्रिटेन की सशस्त्र सेनाओं के साथ एक साझा ऑपरेशन चला। इसका उद्देश्य रासायनिक हथियारों के इस्तेमाल, प्रसार और उत्पादन पर अंकुश लगाना है। सीरियाई राष्ट्रपति बशर अल असद के कृत्यों के बारे में अमेरिकी राष्ट्रपति ने कहा- ये किसी इंसान नहीं, बल्कि एक शैतान के अपराध हैं। उधर ब्रिटेन के रक्षा मंत्रालय ने कहा कि उसकी ओर से चार टोरनाडो जेट्स ने होम्स शहर के नज़दीक स्थित के सैन्य ठिकाने पर हमला किया। ऐसा माना जाता है कि इस ठिकाने पर रासायनिक हथियारों से जुड़ी सामग्री रखी जाती थी।

फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमेनुअल मैक्रों ने इस कार्रवाई में फ्रांस के शामिल होने की पुष्टि की। उधर सीरिया की सरकारी मीडिया ने इन हवाई हमलों को अंतरराष्ट्रीय कानूनों का घोर उल्लंघन बताया है। अधिकारिक न्यूज़ एजेंसी सना ने एक सरकारी सूत्रों के हवाले से कहा कि जब चरमपंथी हार गए, तो अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन ने आक्रामककार्रवाई की है। मगर सीरिया के ख़िलाफ़ अमेरिका, फ्रांस और ब्रिटेन का ये आक्रमण विफल होगा। ख़बरों के मुताबिक  मिसाइल हमले में दमिश्क स्थित शोध केंद्र समेत राजधानी के ही कई अन्य सैन्य ठिकानों पर हमला किया गया। होम्स में होने वाले मिसाइल हमले में तीन आम लोग घायल हुए। गौरतलब है कि सीरिया ने रासायनिक हमले में शामिल होने से इनकार किया था। उधर सीरिया के सहयोगी- रूस ने चेताया था कि सीरिया के ख़िलाफ़ पश्चिमी देशों की किसी सैन्य कार्रवाई से युद्ध शुरू हो सकता है। ये चेतावनी दुनिया को ध्यान में रखनी चाहिए। ट्रंप ने बिना संयुक्त राष्ट्र को भरोसे में लिए एकतरफ़ा कार्रवाई की है। इससे सीरिया को लेकर वैश्विक विवाद भड़क सकता है। इसके लिए ट्रंप ही जिम्मेदार होंगे।

285 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech