तेल की बेलगाम खपत

संपादकीय-2
ALSO READ

दुनिया में तेल की खपत कुछ हफ्तों में 10 करोड़ बैरल प्रतिदिन पर पहुंचने वाली है। यानी मांग बढ़ती ही जा रही है। मतलब यह कि पेट्रोलियम की खपत घटाने का मकसद फिलहाल दूर होता जा रहा है। जबकि कार्बन की वजह से जलवायु में परिवर्तन के सबूत हर दिन सामने आ रहे हैं। अरबों डॉलर की सब्सिडी पवन और सौर ऊर्जा जैसे वैकल्पिक स्रोतों के लिए दी जा रही है। लेकिन आधुनिक दुनिया तेल पर इतनी ज्यादा निर्भर है कि इसकी मांग हर साल करीब डेढ़ फीसदी की दर से बढ़ रही है। इस बात पर कोई सहमति नहीं बन पा रही है कि तेल की मांग कब अपने सर्वोच्च स्तर पर पहुंचेगी, लेकिन यह साफ है कि यह ग्लोबल वार्मिंग पर सरकारों के रुख पर बहुत हद तक निर्भर करेगा। तेल निर्यातक देशों के संगठन ओपेक ने इसी महीने कहा कि तेल की वैश्विक खपत इसी साल 10 करोड़ बैरल प्रतिदिन पर पहुंच जाएगी। तेल निकालने, रिफाइन करने और उन्हें दुनिया के अलग अलग हिस्से तक पहुंचाने के लिए परिष्कृत बुनियादी ढांचे के विकास के साथ यह ऊर्जा का इतना बड़ा स्रोत बन गया है कि परिवहन के कुछ साधनों के लिए तो एक तरह से अपरिहार्य है। हर दिन खर्च होने वाले 10 करोड़ बैरल में से करीब 60 फीसदी परिवहन पर खर्च होता है।

इसका विकल्प बनने की कोशिश कर रहे इलेक्ट्रिक कार जैसे साधनों की हिस्सेदारी अभी बहुत कम है। बाकी बचे तेल की खपत पेट्रोकेमिकल उद्योग में प्लास्टिक बनाने के लिए हो रही है, जिसके पास कच्चे माल के बहुत कम विकल्प हैं। तेल, गैस और कोयला जैसे हाइड्रोकार्बन के इस्तेमाल को सीमित करने के लिए सरकार पर दबाव बढ़ने के बीच कुछ विश्लेषक मान रहे हैं कि अगले दशक में तेल की मांग कम होगी। हालांकि अंतरराष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी आईईए का कहना है कि अगर मौजूदा नीतियां जारी रहीं तो तेल की मांग कम से कम अगले 20 साल तक बढ़ती रहेगी और सदी के मध्य तक यह 12.5 करोड़ बैरल प्रति दिन तक पहुंच जाएगी।

तेल की मांग उन देशों में ज्यादा तेजी से और लगातार बढ़ रही है जो आर्थिक सहयोग और विकास संगठन यानी ओईसीडी के बाहर हैं। पिछले दो दशक में ओईसीडी के बाहर देशों में तेल की मांग लगभग दो गुनी हो गई है। इसके लिए खासतौर से एशिया, मध्य और दक्षिण अमेरिका और अफ्रीका में उद्योगों के विकास को जिम्मेदार माना जा रहा है। 

447 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।