कोरोना से परेशान एशिया - Naya India
बेबाक विचार | लेख स्तम्भ | संपादकीय| नया इंडिया|

कोरोना से परेशान एशिया

भारत में कम से कम कोरोना वायरस पीड़ित होने के तीन मामलों की पुष्टि हो चुकी है। चीन के अलावा कोरोना के मामले हांगकांग, जापान, मकाऊ, नेपाल, सिंगापुर, श्रीलंका, दक्षिण कोरिया, ताइवान और थाइलैंड में भी सामने आ चुके हैं। इस वायरस के चलते अब तक पौने चार सौ से अधिक लोगों की मौत हो गई है। चीन में इस वायरस के करीब 15 हजार मामले सामने आ चुके हैं। एशियाई देशों की सरकारें इस वायरस को फैलने से रोकने के लिए कई उपाय कर रही हैं, लेकिन कई मुश्किलें भी सामने आ रही हैं। एशियाई देशों में पश्चिमी देशों जैसी व्यवस्था नहीं है, जहां संदिग्ध मरीजों को हवाई अड्डों से ही देश में नहीं घुसने दिया जा रहा है। संभावित मरीजों को मेडिकल सहायता उपलब्ध करवाई जा रही है। एशियाई देशों में इस वायरस का प्रसार महामारी का रूप ले सकता है। कई एशियाई देशों ने कोरोना वायरस से प्रभावित चीनी इलाकों की यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया है। इन इलाकों से आ रहे लोगों की भी कड़ी स्क्रीनिंग की जा रही है। कई देश कोरोना वायरस से प्रभावित चीनी इलाकों से अपने देश के नागरिकों को निकाल रहे हैं। भारत समेत कई देशों ने वुहान से अपने नागरिकों को निकाला है। बाकी देश भी ऐसे कदम उठाने पर विचार कर रहे हैं। अपने नागरिकों को वुहान से निकालना एक चुनौती के साथ-साथ एक नैतिक दुविधा भी है। अगर इन लोगों को वुहान में छोड़ा जाता है तो इनकी जान को खतरा होगा। लेकिन इन्हें वापस लाया जाता है तो इस वायरस के ज्यादा लोगों में फैलने का खतरा भी है। मेडिकल जनरल ‘द लांसेट’ के मुताबिक अधिकतर दक्षिण एशियाई देशों में स्वास्थ्य सुविधाओं की स्थिति अच्छी नहीं है। इसलिए इन देशों में कोरोना वायरस के फैलने और इसके चलते मौतों की आशंका बहुत ज्यादा है। विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि उसकी सबसे बड़ी चिंता कमजोर स्वास्थ्य सेवाओं वाले इन देशों में इस वायरस फैलने को लेकर है। पत्रिका फॉरेन पॉलिसी के मुताबिक कई वजहें हैं, जिनसे दक्षिण एशियाई देश कोरोना वायरस के लिए आसान शिकार हो सकते हैं। पहली वजह है कि ये देश बड़ी जनसंख्या वाले हैं। यहां शिक्षा दर भी कम है, साफ-सफाई को लेकर जागरूकता भी कम है। साथ ही साफ पानी, दस्ताने और मास्क भी ज्यादा संख्या में उपलब्ध नहीं हैं। निजी अस्पताल छोटे और महंगे हैं, जबकि सरकारी अस्पतालों में उस स्तर की सुविधाएं नहीं हैं कि इस वायरस से लड़ सकें।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Jio और Airtel के रिचार्ज में बढोतरी से हैं परेशान, तो देख लें BSNL के ये प्लान…
Jio और Airtel के रिचार्ज में बढोतरी से हैं परेशान, तो देख लें BSNL के ये प्लान…