ये है ट्रंपवाद का नतीजा

ट्रंपवादी सियासत की मार अब आप्रवासी भारतीयों पर पड़ी है। जब उग्र राष्ट्रवाद से प्रेरित नेतृत्व सत्ता में आ रहा है और देश अपने यहां घेरा डाल रहे हैं, तो उसका परिणाम देर-सबेर सबको भुगतना होगा। अब भारतीयों के साथ जो हुआ है, वह दुखद और अपमानजनक है। खबर यह है कि अमेरिका और मेक्सिको के बीच आप्रवासियों को लेकर चल रहे विवाद के बीच मेक्सिको ने 311 भारतीयों को डिपोर्ट कर दिया है। यानी उन्हें जबरन वापस भारत भेज दिया गया है। इन लोगों में 310 पुरुष और एक महिला शामिल है। इन सभी लोगों को मेक्सिको के अलग-अलग शहरों से लाकर वापस भेजा गया।

अमेरिका और मेक्सिको के बीच में मेक्सिको की सीमा पार कर अमेरिका पहुंच रहे आप्रवासियों को लेकर विवाद चल रहा है। 311 भारतीय को बोइंग 747 विमान में तोलुका अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से नई दिल्ली भेज दिया गया। इन लोगों के पास मेक्सिको में नियमित रूप से रुके रहने की इजाजत नहीं थी। ये लोग मेक्सिको के ओआजाका, बाजा कैलिफोर्निया, वेराक्रूज, चिआपास, सोनोरा, मेक्सिको सिटी, डुरांगो और तबास्को राज्यों में रह रहे थे। इन सभी को आप्रवासन नियमों के तहत ही वापस भेजा गया है। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने जून में मेक्सिको से कहा था कि अगर मेक्सिको की सीमा से लगातार अमेरिका में घुस रहे आप्रवासियों पर कड़ी कार्रवाई नहीं की गई, तो अमेरिका मेक्सिको पर आर्थिक प्रतिबंध लगा देगा।

मेक्सिको ने सीमा की सुरक्षा बढ़ाने और आप्रवासियों को वापस भेजने की अपनी नीति में सुधार करने पर हामी भरी थी। इन आप्रवासियों को वापस भेजने पर जारी की गई प्रेस रिलीज के मुताबिक मेक्सिको की तरफ से पहली बार इतनी बड़ी संख्या में आप्रवासियों को हवाई मार्ग से उनके देश वापस भेजा गया है। अमेरिका के साथ हुए समझौते के बाद से मेक्सिको से आप्रवासियों को वापस भेजने में तेजी आ गई है। मई की तुलना में जून के में ही आप्रवासियों को वापस भेजने में 33 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई थी।

मई में जहां 16,507 ऐसे लोगों को अपने देश वापस भेजा गया, वहीं जून में यह संख्या 21,912 हो गई थी। साथ ही मेक्सिको ने अमेरिका के साथ लगी सीमा पर सुरक्षा भी कड़ी कर दी है। मेक्सिको में दिसंबर 2018 में लेफ्ट पार्टी की सरकार बनी थी। तब लेफ्ट पार्टी का रुख आप्रवासियों को शरण देने का था। लेकिन ट्रंप के आर्थिक प्रतिबंधों की धमकी देने के बाद मेक्सिको ने आप्रवासियों पर कार्रवाई शुरू कर दी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares