आप्रावासी क्यों बने भारतीय?

अमेरिकी कस्टम एंड बॉर्डर पेट्रोल विभाग के मुताबिक 2018 में मेक्सिको के रास्ते अवैध तरीके से अमेरिका घुसने की कोशिश में करीब 9000 भारतीय लोगों को पकड़ा गया। 2017 के मुकाबले यह संख्या करीब तीन गुनी ज्यादा थी। इस साल अमेरिका की दक्षिण पश्चिमी सीमा के रास्ते अवैध तरीके से देश में घुसते पकड़े जाने वालों में सबसे बड़ा समुदाय भारतीयों का था। अमेरिका की आईबीआई कंसल्टेंट्स फर्म में आप्रवासन विशेषज्ञों का कहना है कि ज्यादातर भारतीय जो लातिन अमेरिका जाते हैं, वो इक्वाडोर या ब्राजील के रास्ते मेक्सिको पहुंचते हैं। इन दो देशों में वीजा के कानून कमजोर हैं। यहां से ये लोग उत्तर की तरफ हाईवे के रास्ते से बढ़ना शुरू करते हैं और कोलंबिया और मध्य अमेरिका से होते हुए अमेरिकी सीमा पर पहुंचते हैं। इनमें से ज्यादातर आप्रवासी आम तौर पर आर्थिक मौके की तलाश में या फिर अपने परिवार के सदस्यों के साथ रहने के लिए यहां आते हैं। पंजाब और हरियाणा जैसे राज्यों से आने वाले कई आप्रवासियों ने कहा कि वो धार्मिक उत्पीड़न से बचने के लिए आए हैं जबकि कुछेक लोग राजनीतिक दमन की भी बात कहते हैं।

कानूनी जानकारों का कहना है कि भारत के राजनीतिक असंतुष्ट, अल्पसंख्यक और समलैंगिक समुदाय के लोग दूसरे देशों में शरण पाने की सबसे ज्यादा कोशिश करते हैं। लातिन अमेरिका में भारतीय आप्रवासियों की तादाद पिछले पांच सालों में कई गुना बढ़ गई है। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने जब से अवैध आप्रवासियों को नहीं रोक पाने के लिए मेक्सिको पर आयात शुल्क लगाने की धमकी दी है, तब मेक्सिको के अधिकारी इन लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने के लिए मजबूर हुए हैं। जानकार कहते हैं कि इस वजह से भारतीय आप्रवासी असुरक्षित हो गए हैं। ज्यादातर भारतीय अब अमेरिका की सीमा में आधिकारिक बंदरगाहों के बाहर से प्रवेश कर रहे हैं। अनाधिकृत रास्तों का इस्तेमाल करने वाले आप्रवासी ना सिर्फ अपनी बल्कि अपने परिवारवालों की जिंदगी भी खतरे में डाल देते हैं। हाल ही में जबरन भारत भेजे गए कुछ भारतीय लोगों ने इक्वाडोर से अमेरिकी सीमा तक की अपनी यात्रा को भयानक बताया था। दूसरे लोगों ने बताया कि अमेरिका के डिटेंशन कैंपों में तो हालत उनकी यात्रा से भी बुरे थे। वहां पानी की सप्लाई बस एक घंटे के लिए आती थी और पर्याप्त मेडिकल केयर की व्यवस्था नहीं थी। भारत में सामाजिक संगठन मांग कर रहे हैं कि सरकार अवैध आप्रवासन के खतरों के बारे में लोगों को आगाह करने के लिए पूरे देश में कार्यक्रम चलाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares