नीतीश क्या कांग्रेस को मैसेज कर रहे हैं?

जनता दल यू के उपाध्यक्ष प्रशांत किशोर की राजनीति ने सबको हैरानी में डाला है। उन्होंने संशोधित नागरिकता कानून, सीएए के मसले पर कांग्रेस पार्टी को धन्यवाद दिया। प्रियंका और राहुल गांधी को खासतौर से उन्होंने धन्यवाद कहा। उन्होंने यह भी दावा किया कि बिहार में नागरिकता कानून और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर लागू नहीं होंगे। सवाल है कि ये सारी बातें प्रशांत किशोर खुद से कह रहे हैं और अपनी कोई राजनीतिक बिसात बिछा रहे हैं या उनके जरिए नीतीश कुमार किसी नई राजनीति का इशार कर रहे हैं? क्या प्रशांत किशोर के जरिए नीतीश कुमार कांग्रेस पार्टी को मैसेज कर रहे हैं या पीके से कांग्रेस की तारीफ करवा कर नीतीश भाजपा के ऊपर दबाव बढ़ा रहे हैं?

पीके ने सीएए को मुद्दा बना कर बिहार की राजनीति को दिलचस्प बना दिया है। अभी तक बिहार की राजनीति का पाला खींचा हुआ दिख रहा है। एक तरफ नीतीश के नेतृत्व में भाजपा और लोजपा हैं तो दूसरी राजद की कमान में कांग्रेस, रालोसपा आदि पार्टियां हैं। पर प्रशांत किशोर ने सीएए के मसले पर भाजपा विरोधी लाइन पकड़ कर और अब कांग्रेस की तारीफ करके मामले को उलझा दिया है। एक तो पहले से मामला इस वजह से भी उलझा हुआ है कि प्रशांत किशोर दिल्ली में आम आदमी पार्टी के लिए काम कर रहे हैं। अगर दिल्ली में आम आदमी पार्टी जीतती है और अरविंद केजरीवाल तीसरी बार मुख्यमंत्री पद की शपथ लेते हैं तो इसके बाद बिहार में भी राजनीति बदलेगी। कैसे बदलेगी, यह देखने वाली बात होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares