एनडीए के सहयोगियों दलों में भी बदलाव

ऐसा लग रहा है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी सरकार में फेरबदल करेंगे तो कैबिनेट का स्वरूप बदलेगा। कुछ लोग हटेंगे और कुछ नए चेहरे आएंगे। सभी सहयोगी पार्टियों को सरकार में जगह मिल सकती है। बिहार में भाजपा की सहयोगी जदयू पहली बार नरेंद्र मोदी की सरकार में शामिल होगी। इसके अलावा एक चर्चा यह भी है कि बिहार में भाजपा की दूसरी सहयोगी लोक जनशक्ति पार्टी की ओर से भी सरकार में नया चेहरा शामिल होगा। सेहत के आधार पर रामविलास पासवान सरकार से रिटायर हो सकते हैं और उनकी जगह उनके बेटे चिराग पासवान को मंत्री बनाया जा सकता है। इस बदलाव से पहले चिराग पासवान को पार्टी का राष्ट्रीय अध्यक्ष बना दिया गया है। असल में पासवान पहले ही चिराग को मंत्री बनाना चाहते थे पर उनको लग रहा था कि शायद प्रधानमंत्री उनको कैबिनेट मंत्री नहीं बनाएंगे। अब उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष हो जाने के बाद संभव है कि वे कैबिनेट मंत्री बन जाएं।

पिछली बार केंद्र सरकार में मंत्री रहीं अपना दल की नेता अनुप्रिया पटेल भी इस बार मंत्री नहीं बन पाई हैं। संभव है कि अगली फेरबदल में उनको भी सरकार में जगह मिले। एक-दो सांसदों वाली पार्टियों में अकाली दल और आरपीआई को सरकार में जगह मिल गई थी। सिर्फ अनुप्रिया पटेल का ही मंत्री बनना रह गया था। यह भी कहा जा रहा है कि अगर शिव सेना के साथ भाजपा की बात हो जाती है तो उसे भी अतिरिक्त मंत्री पद मिल सकता है। ध्यान रहे केंद्र सरकार में प्रतिनिधित्व के मसले पर शिव सेना का मामला पिछली सरकार से ही अटका हुआ है। पिछली बार भी उसका एक ही कैबिनेट मंत्री था। इस बार भी 28 सांसद होने के बावजूद एक ही कैबिनेट मंत्री है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares