पंजाब में सुखबीर सीएम का चेहरा

आखिरकार पंजाब में अकाली दल की राजनीति में बड़े बदलाव का समय आ गया दिख रहा है। पंजाब में अकाली दल की राजनीति अब तक प्रकाश सिंह बादल के ईर्द-गिर्द घूमती रही है। हालांकि उन्होंने सबसे पहले अपनी पार्टी में उत्तराधिकार का फैसला किया और अपने बेटे सुखबीर बादल को कमान सौंपी थी। इससे नाराज होकर उनके भतीजे मनप्रीत बादल ने पार्टी छोड़ी थी। अब वे कांग्रेस के साथ हैं। सुखबीर के उत्तराधिकारी घोषित होने के बाद भी पार्टी दो चुनाव प्रकाश सिंह बादल के नाम पर ही लड़ी। पर अब उम्र और सेहत के हवाले सीनियर बादल सक्रिय राजनीति से दूर हो गए हैं और कमान सुखबीर के हाथ में आ गई है।

पहली बार लोकसभा सांसद चुने गए सुखबीर बादल ने खुद ऐलान किया है कि अगले चुनाव में वे मुख्यमंत्री पद के दावेदार होंगे। पार्टी उनके चेहरे पर चुनाव लड़ेगी। पंजाब में अगला चुनाव 2022 में होना है। जब तक कांग्रेस के नेता और मौजूदा मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह की उम्र भी 80 साल के आसपास होगी। तभी कहा जा रहा है कि कांग्रेस भी चेहरा बदल सकती है। सुखबीर से मुकाबले के लिए कांग्रेस भी कोई नया चेहरा आगे कर सकती है। माना जा रहा है कि पूर्व मुख्यमंत्री दिवंगत बेअंत सिंह के पोते और पार्टी के सांसद रवनीत सिंह बिट्टू को पंजाब में कांग्रेस का चेहरा बनाया जा सकता है। हालांकि उसके लिए पार्टी को अमरिंदर सिंह को तैयार करने में बहुत मशक्कत करनी पड़ेगी। बहरहाल, जो हो राज्य की राजनीति में बडा बदलाव होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares