निर्देशक बनना चाहते थे अजय देवगन

मुम्बई। बॉलीवुड के सिंघम स्टार अजय देवगन ने अपने दमदार अभिनय से सिने प्रेमियों को अपना दीवाना बनाया है लेकिन कम लोगों को पता होगा कि वह पहले निर्देशक बनना चाहते थे। अजय का मूल नाम विशाल देवगन है। उनका जन्म दिल्ली में दो अप्रैल 1969 को हुआ था उनके पिता वीरू देवगन हिंदी फिल्मों के नामी स्टंटमैन थे जबकि उनकी मां वीणा देवगन ने एक-दो फिल्मों का निर्माण किया था।

घर में फिल्मी माहौल के होने कारण अजय की रूचि भी फिल्मों की ओर हो गयी और वह फिल्म निर्देशक बनने का सपना देखने लगे। उन्होंने स्नातक की पढ़ाई मुंबई के मिठी भाई कॉलेज से पूरी की। इसके बाद वह फिल्म निर्देशक शेखर कपूर के साथ सहायक निर्देशक के रूप में काम करने लगे। इसी दौरान उनकी मुलाकात कुक्कु कोहली से हुयी जो उन दिनों नई फिल्म ‘फूल और कांटे’ के निर्माण में व्यस्त थे और एक ऐसे अभिनेता की तलाश में थे जो रूमानी भूमिका के साथ-साथ एक्शन दृश्य भी कर सके।

इस दौरान उन्होंने अजय के बारे में सुना कि वह एक्शन और नृत्य करने में माहिर है और उन्होंने उनसे फिल्म का नायक बनने की पेशकश की। अपनी पहली ही फिल्म की सफलता के बाद अजय दर्शकों के बीच अपनी पहचान बनाने में कामयाब हो गये। फूल और कांटे की सफलता के बाद अजय देवगन की छवि एक्शन हीरो के रूप में बन गयी। इस फिल्म के बाद निर्माता निर्देशकों ने अधिकतर फिल्मों में उनकी एक्शन हीरो वाली छवि को भुनाया। इन फिल्मों में जिगर, प्लेटफार्म, शक्तिमान और एक ही रास्ता जैसी फिल्में शामिल थीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares