अजब-गजब: कोरोना काल के कारण डिप्रेशन में गये अमेरिकी कर रहे हैं कुछ ऐसा कि यकीन करना है मुश्किल - Naya India
ताजा पोस्ट | पते की बात | मनोरंजन | विदेश| नया इंडिया|

अजब-गजब: कोरोना काल के कारण डिप्रेशन में गये अमेरिकी कर रहे हैं कुछ ऐसा कि यकीन करना है मुश्किल

New Delhi: भारत में पालतू जानवरों से खेलना कोई बहुत बड़ी बात नहीं है. ग्रामीण इलाकों में मवेशी जानवरों के साथ ही सांप और अन्य पक्षियों के साथ खेलते बच्चे आसानी से मिल जाते हैं. लेकिन अगर हम आपको ऐसा कहे कि कोरोना ने हालात कुछ ऐसे कर दिए हैं कि अब लोग ऐसा करने के लिए पैसे खर्च करने को तैयार है तो आपको कैसा लगेगा. जी हां, यह पूरी तरह सच है अमेरिका में अब ऐसे हालात बन गए हैं कि लोग पालतू जानवरों के साथ खेलने के लिए पैसे खर्च करने को तैयार हैं. अमेरिका में जन्मे इस नए कल्चर को वैलनेस ट्रेंड या Cow Cuddling का नाम दिया गया है.

क्यों पनपा ये ट्रेंड

अमेरिका में यह ट्रेंड पनपने के पीछे का कारण माना जा रहा है कि को रोना काल में लंबे समय तक लोग घरों में कैद रहे. इस दौरान अमेरिका के लोग पालतू जानवरों के साथ अपना मन हल्का कर रहे थे. मनोवैज्ञानिकों की मानें भी तो मासूम जानवरों और बच्चों के स्पर्श से इंसानी दिमाग और शरीर को काफी सुकून मिलता है. इसके साथ ही छोटे बच्चों या फिर पालतू जानवरों के साथ खेलने से लंबे समय का स्ट्रेस और डिप्रेशन भी दूर होता है. यही कारण है कि अमेरिका में यह ट्रेंड काफी तेजी से आगे बढ़ रहा है.

इसे भी पढ़ें- CM Arvind Kejriwal ने तैयारियों की ओर बढ़ाया एक और कदम चीन से मंगवाए 6000 ऑक्सीजन सिलेंडर 

पहले यहां शुरू हुआ था यह ट्रेंड

माना जा रहा है कि इस ट्रेंड की शुरुआत अमेरिका में नहीं बल्कि नीदरलैंड में हुई थी. जानकारों की माने तो सबसे पहले नीदरलैंड के मनोचिकित्सक कौन है लोगों को को रोना काल में यह समझाया कि एक दूसरे से गले मिलना तो इन हालातों में संभव नहीं है लेकिन अगर आप अपने पालतू पशुओं के साथ समय बिताएं तो आपका डिप्रेशन कम होगा इसके साथ ही आपको मानसिक तनाव की शिकायत भी नहीं होगी.

इसे भी पढ़ें- World Schizophrenia Day 2021: क्या है सिजोफ्रेनिया?? आइये जानते है सिजोफ्रेनिया होने की मुख्य वजह और इलाज

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
Maharashtra में कोरोना की तीसरी लहर दिसंबर में! मुकाबले के लिए सरकार ने पूरी की तैयारियां
Maharashtra में कोरोना की तीसरी लहर दिसंबर में! मुकाबले के लिए सरकार ने पूरी की तैयारियां