Swara Bhaskar Farm Law : दारू का ग्लास सर पर रखकर जमकर नाची Swara
मनोरंजन | बॉलीवुड| नया इंडिया| Swara Bhaskar Farm Law : दारू का ग्लास सर पर रखकर जमकर नाची Swara

दारू का ग्लास सर पर रख जमकर नाची Swara bhaskar, कहा- काले कानून वापस हुए तो ‘पार्टी’ तो बनती है… (Watch Video)

Swara Bhaskar Farm Law :

मुंबई । Swara Bhaskar Farm Law : बॉलीवुड में ऐसे काफी कम एक्टर है जो खुलकर अपनी बात मीडिया के सामने रखते हैं. इन एक्टरों में नाम आता है स्वरा भास्कर का भी. कई बार संवेदनशील मुद्दों में जब बॉलीवुड के बड़े कलाकारों ने अपनी प्रतिक्रिया देने से इनकार कर दिया उन परिस्थितियों में भी स्वरा भास्कर सामने आई और अपनी बेबाक राय रखी. हालांकि आग में बात कर रहे हैं स्वरा भास्कर के एक मजेदार वीडियो का जिसमें वह सर के ऊपर दारू की ग्लास रखकर पंजाबी गाने में डांस कर रही हैं. स्वरा भास्कर का वीडियो पीएम मोदी के कृषि कानून वापस लेने के बाद सामने आया है. वो इस बात पर खुश है कि कृषि कानून वापस ले लिए गए हैं.

 

 

View this post on Instagram

 

A post shared by Swara Bhasker (@reallyswara)

आलोचनाओं का नहीं पड़ता फर्क

Swara Bhaskar Farm Law : स्वरा भास्कर हमेशा अपने बेबाक अंदाज के लिए जानी जाती हैं. हालांकि कई बार इस कारण उन्हें आलोचनाओं का सामना भी करना पड़ता है. इसके बाद दिव्या अपनी बात पूछो तरीके से सामने रखती है. एक बार फिर से स्वरा भास्कर ने दारू की खाली ग्लास सर पर रखी और नाचने लगी. स्वरा भास्कर ने बताया कि इस खुशी के पीछे एक बड़ी वजह है. उन्होंने कहा कि यह पार्टी की ट्रिक उन्होंने अपने पिता से सीखी है. स्वरा भास्कर ने कहा कि पीएम मोदी ने कृषि कानून वापस लेकर जो खुशी प्रदान की है उसके लिए सेलिब्रेशन तो बनता है.

इसे भी पढ़ें-अब किसान-शासन संवाद जरुरी

वापस हो गया कृषि कानून

Swara Bhaskar Farm Law : देशभर में पिछले 1 साल से तीन कृषि कानूनों पर बवाल मचा हुआ था. किसान लगातार आंदोलन कर रहे थे और केंद्र सरकार से बात कर रही थी कि वह कानूनों को वापस नहीं लेगी. किसानों और केंद्र सरकार के बीच कई दौर की वार्ताएं भी हुई लेकिन कोई बीच का रास्ता नहीं निकल पाया. ऐसे में केंद्र सरकार को तीनों कृषि कानून वापस लेनी पड़े. पीएम मोदी ने इस संबंध में घोषणा करते हुए कहा कि हम किसानों को कानूनों का फायदा समझाने में विफल रहे.

इसे भी पढ़ें-पेट्रोल, डीजल और कृषि कानूनों के आगे क्या

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
झुनझुना थमाने की राजनीति
झुनझुना थमाने की राजनीति