गंगूबाई के गोद लिये बेटे ने संजय लीला भंसाली, आलिया और हुसैन जैदी के खिलाफ दर्ज कराया केस - Naya India
आज खास | ताजा पोस्ट | मनोरंजन | बॉलीवुड| नया इंडिया|

गंगूबाई के गोद लिये बेटे ने संजय लीला भंसाली, आलिया और हुसैन जैदी के खिलाफ दर्ज कराया केस

Mumbai : संजय लीला भंसाली (Sanjay Leela Bhansali) की फिल्मा ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ (Gangubai Kathiawadi) की  परेशानियां कम होती नजर नहीं आ रही हैं. लगातार विरोध के बीच मुंबई की मझगांव अदालत (Mumbai Mazgaon Court Summons) ने आलिया भट्ट (Alia Bhatt), संजय लीला भंसाली और फिल्म के लेखक को समन भेजा कर हाजिर होने के आदेश दिए हैं. मुंबई की एक चीफ मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रे ट ने सभी को 21 मई को कोर्ट में हाजिर होने के लिए कहा है.

दावा- मैं गंगूबाई का गोद लिया हुआ बेटा

बीते दिनों फिल्मम के विरोध में महाराष्ट्र विधानसभा में भी चर्चा हुई थी. कांग्रेस विधायक अमीन पटेल ने फिल्मल के नाम का विरोध किया था. ताजा मामले में मजिस्ट्रे ट ने यह समन क्रिमिनल मानहानि केस (Criminal Defamation Case) के तहत भेजा है. बाबू रावजी शाह नाम के एक शख्स ने मानहानि का यह केस दर्ज करवाया था. बाबू रावजी का दावा है कि वह गंगूबाई के गोद लिए हुए बेटे हैं. याचिकाकर्ता का कहना है कि फिल्मो के कारण उनके परिवार की बदनामी हो रही है.

इसे भी पढ़ें- IPL 2021:   CSK की नई जर्सी हुई लांच, धोनी ने जर्सी लॉन्च कर सेना को दिया सम्मान

‘झूठे तथ्यों पर आधारित है कहानी और किताब’

बाबू रावजी ने कहा है कि हुसैन जैदी (Hussain Zaidi) की किताब ‘माफिया क्वीहन्सम ऑफ मुंबई’ (Mafia Queens of Mumbai) में लिखी बातें सच नहीं हैं. ऐसे में संजय लीला भंसाली ने झूठे तथ्योंह को आधार बनाकर फिल्मu का निर्माण किया है. ऐसे में उन्होंेने फिल्मं के निर्देशक के साथ ही उपन्याुस के लेखक के खिलाफ भी मानहानि का दावा किया है.
बाबू रावजी इससे पहले सेशंस कोर्ट भी गए थे. उन्होंेने वहां फिल्म‍ के प्रोमो और ट्रेलर पर रोक लगाने की मांग की थी. कोर्ट ने उनकी गुहार को खारिज करते हुए कहा कि ऐसा नहीं किया जा सकता है, क्योंहकि किताब 2011 में रिलीज हुई थी और वह अब 2020 में शिकायत दर्ज करवा रहे हैं.

दिसंबर, 2020 में दर्ज करवाई थी शिकायत

कोर्ट ने हालांकि यह बात जरूर मानी थी कि बाबू रावजी शाह और उनके परिवार को किताब और प्रोमो की वजह से मानसिक परेशानी से गुजरना पड़ा है. शाह ने इस बाबत 11 दिसंबर 2020 को नागपाड़ा थाने में श‍कायत दर्ज करवाई थी. श‍िकायत के बाद सभी आरोपियों को नोटिस भी जारी किया गया, लेकिन सिर्फ एक आरोपी ने इसका जवाब दिया था.

इसे भी पढ़ें- Film Industri : अभिनेत्री नारायणी शास्त्री को फिल्मों (Films) की जगह टीवी धारावाहिक (TV Serial) में काम करना पसंद

नहीं दे पाए बेटे होने का सबूत

दिलचस्प बात यह भी है कि बाबू रावजी शाह इस बात का कोई सबूत नहीं दे पाए थे कि वह वाकई गंगूबाई के गोद लिए हुए बेटे हैं. फिल्मा के मेकर्स और लेखकों ने यह बात सामने रखी कि कैसे गंगूबाई की फैमिली के साथ कभी शाह को नहीं देखा गया है. सेशंस कोर्ट में अपनी दलील खारिज होने के बाद बाबू रावजी शाह ने क्रिमिनल ऐक्शखन में फिल्म मेकर्स और लेखकों के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दायर किया था.

इसे भी पढ़ें –  पत्नी पर अश्लील फब्तियों से परेशान अध्यापक ने की आत्महत्या, सोशल मीडिया में पोस्ट की सुसाइड नोट

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *