nayaindia सरकार विरोधी सितारों पर छापा - Naya India
मनोरंजन | बॉलीवुड| नया इंडिया|

सरकार विरोधी सितारों पर छापा

मुंबई। केंद्र सरकार और सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी की नीतियों पर सवाल उठाने और उनका विरोध करने वाले कई फिल्मी सितारों पर बुधवार को आय कर विभाग की टीम ने छापा मारा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ सोशल मीडिया में मुखर रहे फिल्मकार अनुराग कश्यप से लेकर भाजपा की करीबी कंगना रनौत से सोशल मीडिया में भिड़ने वाली अभिनेत्री तापसी पन्नू के घर और दफ्तर पर छापा मारा गया। इनके अलावा फिल्मकार विकास बहल और विक्रमादित्य मोटवानी और सेलिब्रिटी मैनेजमेंट कंपनी चलाने वाले मधु मंटेना के कुल 30 परिसरों पर छापे मारे गए।

बुधवार को हुई छापेमारी फैंटम फिल्म्स से जुड़ी है। आय कर विभाग को फैंटम फिल्म्स कंपनी के कामकाज और लेन-देन में गड़बड़ी का शक है। छापेमारी में मिले दस्तावेज और सबूतों के आधार पर जांच का दायरा बढ़ सकता है। इसमें कई और बड़े नाम सामने आ सकते हैं। बताया जा रहा है कि चार फिल्मी हस्तियों के अलावा मधु मंटेना की टैंलेट मैनेजमेंट कंपनी क्वान के दफ्तर पर भी आय कर अधिकारी पहुंचे हैं। यह कंपनी भी फैंटम फिल्म्स से जुड़ी थी।

गौरतलब है कि अनुराग और तापसी देश में चल रहे मुद्दों पर अपनी बेबाक राय रखने के लिए जाने जाते हैं। नागरिकता संशोधन कानून से लेकर किसान आंदोलन तक इनका रुख सरकार विरोध का रहा है। बहरहाल, फैंटम फिल्म्स कंपनी को अनुराग कश्यप, विक्रमादित्य मोटवानी, मधु मंटेना और विकास बहल ने 2010 में लांच किया था। 2018 में विकास बहल पर यौन शोषण का आरोप लगने के बाद यह कंपनी बंद कर दी गई थी। इसके बाद ये चारों पार्टनर अलग हो गए थे। इन चारों पर आरोप है कि फैंटम फिल्म से हुई कमाई का सही से ब्योरा आय कर विभाग को नहीं दिया गया और इसे कम दिखाया गया।

विपक्ष ने सरकार को घेरा

हिंदी फिल्म जगत की मशहूर हस्तियों के यहां आय कर विभाग के छापे को लेकर विपक्षी पार्टियों ने केंद्र सरकार को निशाना बनाया है। विपक्ष ने इसे बदले की कार्रवाई बताते हुए कहा कि सरकार अब कलाकारों को चुप कराने का प्रयास कर रही है। महाराष्ट्र सरकार के मंत्री और राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा है- ये रेड कोई नई बात नहीं हैं। आजकल तो यह रोज का मामला हो गया है। जो भी केंद्र सरकार के खिलाफ बोलता है, उस पर दबाव बनाने के लिए सरकार यह तरीका अपनाती है। सरकार ऐसे माध्यम से लोगों की आवाज बंद करने का काम कर रही है।

महाराष्ट्र की महिला और बाल विकास मंत्री यशोमती ठाकुर ने भी सरकार की आलोचना करते हुए कहा- देश में लोकतंत्र बचा ही नहीं है। केंद्र अपनी एजेंसियों का इस्तेमाल लोगों को परेशान करने के लिए कर रहा है। केंद्र के खिलाफ बोलने की वजह से इन कलाकारों के घरों पर रेड की गई है। बिहार के नेता विपक्ष और राज्य के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने केंद्र को निशाना बनाते हुए कहा- उन्‍होंने पहले आईटी, सीबीआई और ईडी को मुखर और ईमानदार राजनीतिक प्रतिद्वंद्वियों के चरित्र हनन के लिए तैयार किया। अब नाजी सरकार सामाजिक कार्यकर्ताओं, पत्रकारों और कलाकारों के पीछे पड़ गई है। निंदनीय कार्रवाई!

शिव सेना की राज्यसभा सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने आय कर विभाग को बंधुआ मजदूर बताते हुए उसकी आलोचना की। मशहूर सामाजिक कार्यकर्ता प्रशांत भूषण ने ट्विट किया- फिल्मकार अनुराग कश्यप, अभिनेत्री तापसी पन्नू पर आय कर विभाग का छापा पड़ा। भाजपा की ए टीम उन लोगों को डराने, प्रताड़ित करने और चुप कराने के काम में लगी है, जो सरकार की लाइन पर नहीं चल रहे हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published.

five × 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
अमरावती मामले में एनआईए की जांच शुरू
अमरावती मामले में एनआईए की जांच शुरू