Loading... Please wait...
ताजा पोस्ट सुर्खिया
काबुल में विस्फोट, 20 मरे, 300 घायल
चैंपियंस ट्रॉफी: भारत ने बांग्लादेश को 240 रनों से हराया
यूपी में डॉक्टरों की रिटायरमेंट उम्र दो साल बढ़ी
केरल में पशु वध पर सोनिया, राहुल से माफी की मांग
आरसीए चुनाव के परिणाम दो जून को घोषित किये जाये
बाबरी मामला : आडवाणी, जोशी व अन्य को जमानत मिली
बांग्लादेश में तूफान ‘मोरा’ ने दी दस्तक
आडवाणी, जोशी कोर्ट में पेश होने के लिए लखनऊ रवाना
सीरिया में रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल खतरे की घंटी: मैक्रोन
जापान में बस दुर्घटनाग्रस्त, 8 घायल
रूस में तूफान, 11 मरे
मोदी ने की मर्केल से मुलाकात
भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट सीरीज नहीं हो सकती: खेल मंत्री
बैल काटे जाने पर कांग्रेस के 4 कार्यकर्ता निलंबित
पीएम मोदी चार देशों की यात्रा पर रवाना

गपशप कॉलम

मोदी राजः साख सबकी खाक!

और मेरे जैसे राष्ट्रवादी हिंदू के लिए यह डुब मरने वाली बात है। मैं हिंदू हूं और चार साल पहले मैंने डुगडुगी बजाई थी कि राष्ट्रवादियों को मौका मिलना और पढ़ें....

निपटे अमित शाह अब!

खत्म है उनके प्रधानमंत्री बनने के अवसर! उन्हे अरूण जेटली ने वैसे ही निपटाया है जैसे एक वक्त नितिन गडकरी को निपटाया। कोई माने या न माने अपना मानना है कि यह और पढ़ें....

लोकतंत्र की सभी संस्थाएं खतरे में!

हां, यह लोकतंत्र के लिए खतरे का समय है। सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस के बाद चार सबसे वरिष्ठ जजों ने कहा कि स्वतंत्र न्यायपालिका लोकतंत्र की अहम जरूरत है और और पढ़ें....

न्यायपालिका में संकट!

देश की न्यायपालिका अपनी साख और अस्तित्व के सबसे गहरे संकट से जूझ रही है। सवाल है कि क्या यह संकट सरकार की दखल के कारण है? चीफ जस्टिस के बाद देश के चार सबसे और पढ़ें....

चीफ जस्टिस और गंभीर सवाल!

सुप्रीम कोर्ट के मौजूदा चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के कामकाज पर गंभीर सवाल खड़े हुए हैं। अब इस संस्था की साख और उसकी निष्पक्षता बचाने की जिम्मेदारी भी और पढ़ें....

समर्थन और विरोध की राजनीति!

सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा के बाद सबसे वरिष्ठ चार जजों की प्रेस कांफ्रेंस के तुरंत बाद इनके समर्थन और विरोध की राजनीति शुरू हो गई है। जजों और पढ़ें....

मोदी-शाह को कितनी संघ की जरूरत?

साल आखिर और शुरुआत में संघ पदाधिकारियों से अमित शाह- अरुण जेटली की मुलाकात ने सुर्खियां बनवाईं। कंफ्यूजन और हल्ला हुआ कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और और पढ़ें....

गुजरात के सवाल कायम

कोई माने या न माने, विजय रूपानी को गुजरात का फिर मुख्यमंत्री बनाना मोदी-शाह की भारी चूक है। इस फैसले से दोनों ने फिर संघ पदाधिकारियों याकि प्रवीण तोगडिया और पढ़ें....

पुराने समीकरण की फिराक में कांग्रेस 

कांग्रेस फिर अपना पुराना समीकरण बनाने की कोशिश में है। पुराना समीकरण मतलब वह फार्मूला, जो इंदिरा गांधी के समय बना था और जिस फार्मूले पर कांग्रेस दशकों और पढ़ें....

दलित वोट में भाजपा की मुश्किल बढ़ी!

उत्तर प्रदेश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव में भाजपा की भारी भरकम जीत की एक व्याख्या भाजपा नेता इस रुप में करते हैं कि मायावती के दलित वोट टूट रहे हैं और और पढ़ें....

← Previous 123456789
(Displaying 1-10 of 285)

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd