Loading... Please wait...

देश का सबसे मंहगा चुनाव!

मानने में हर्ज नहीं कि गुजरात विधानसभा का 2017 का चुनाव आजाद भारत के इतिहास का सर्वाधिक खर्चा लिए हुए होगा। ठीक आज से 14 दिसंबर तक गुजरात में चुनाव के लिए जितना पैसा खर्च होना है उसकी आप कल्पना नहीं कर सकते। नरेंद्र मोदी-अमित शाह ने गुजरात के चप्पे-चप्पे में कॉरपेट बमबारी के नुस्खे से प्रचार का जो संकल्प लिया है या पचास हजार मतदान केंद्रों में घर-घर पहुंचने का जो रोडमैप बनाया है वह चना-मूंगफली खा कर नहीं है बल्कि काजू-पीस्ता-मलाई की भरपूर पहलवानी से है। इस बात का अर्थ समझिए और कल्पना कीजिए कि गुजरात में 14 दिसंबर तक काले धन की सुनामी कैसे बूथ-बूथ पर, घर-घर में असर डाले हुए होगी।

मैं सोच सकता हूं, आप भी सोच सकते हैं कि नरेंद्र मोदी की एक जनसभा का कितना खर्चा बैठता होगा? अपना मानना था कि गुजरात के लिए नरेंद्र मोदी और अमित शाह दोनों पर्याप्त हंै। मगर इन्होने प्रमोद महाजन के बनवाएं फार्मूले याकि कॉरपेट बमबारी में असंख्य नेताओं से बूथ स्तर तक चप्पे-चप्पे में राशन-पानी-बंदूक दे कर वोट डलवाने की जो रणनीति बनाई है तो सीधी बात है कि देश के सर्वाधिक अमीर राज्य गुजरात में सर्वाधिक खर्चे का इस चुनाव में रिकार्ड बनना है। वह काले में बने या सफेद में, इसका मतलब नहीं है।

पूछ सकते हैं कि क्या चप्पे-चप्पे के बंदोबस्तों से, नेताओं की फौज को उतारने से नरेंद्र मोदी का अपना करिश्मा घटा हुआ नहीं दिखेगा? 

यह सवाल गलत है। मसला सिर्फ चुनाव जीतना है। उस नाते उत्तरप्रदेश जैसी स्थिति भी बनती लगती है। यूपी में भी चुनाव मुश्किलों से उठता हुआ लगा था लेकिन चुनाव के बनारस पहुंचते-पहुंचते बंदोबस्तों से जो हवा बनी तो उसमें अखिलेश- राहुल के रोड शो की भीड़ भी हवा –हवाई हुई और विश्लेषकों के अनुमान धरे गए। अंत में मतलब निकलेगा मोदी से जीत का। 18 दिसंबर को भाजपा की जीत हुई तो पैसो का, असंख्य भाजपा नेताओं की कॉरपेट बमबाजी से हिसाब नहीं लगेगा बल्कि सिर्फ इतना भर कहा जाएगा कि देखा मोदी का जादू और अमित शाह का मैनेजमेंट। 

जादू और मैनजमेंट का इस दफा गुजरात में मतलब संसाधन और पैसा है। विपक्ष याकि कांग्रेस हर तरह से वहां दिवालिया है। न पैसा है और न नेता हैं। नेता के नाम पर अकेले राहुल गांधी हंै और पैसे के नाम पर उम्मीदवारों का अपना खर्चा। नरेंद्र मोदी-अमित शाह ने भारत की राजनीति में यह एक और पुख्ता बंदोबस्त कर दिया है कि नकद नारायण में विपक्ष नंगा रहे और सत्तापक्ष की सरस्वती की खबर ही न पड़े। 

तभी न जाने क्यों-क्यों बार-बार लग रहा है कि गुजरात का यह विधानसभा चुनाव कई मायनों में ऐतेहासिक होगा। तीन लड़कों और नौजवानों ने कैसा गजब धमाल मचाया है जिससे राजनीति के पैरामीटर ही बदलते दिख रहे हैं। इन लड़कों को मूर्ख, बेअसर प्रमाणित करने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमित शाह के लिए जहा जीवन-मरण का सवाल है वही लग रहा है कि इन लड़कों ने क्या गजब नाक में दम किया है! लड़को के पास कुछ नहीं है फिर भी अपने को बचाने के लिए नरेंद्र मोदी को सेना उड़ेल देनी पड़ रही है, खजाना खोल देना पड़ रहा है। साम,दाम,दंड, भेद के सभी शस्त्र-अस्त्र इस्तेमाल करने पड़ रहे हैं। 

जो हो, फिलहाल इतना ही सोचंे कि गुजरात में कितना पैसा खर्च हो रहा होगा?

Tags: , , , , , , , , , , , ,

356 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

मुख मैथुन से पुरुषों में यह गंभीर बीमारी

धूम्रपान करने और कई साथियों के साथ मुख और पढ़ें...

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd