nayaindia amit shah bhopal visit शाह का शहंशाही दौरा
गेस्ट कॉलम | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| amit shah bhopal visit शाह का शहंशाही दौरा

शाह का शहंशाही दौरा

amit shah bhopal visit

भोपाल। केंद्रीय मंत्री अमित शाह का राजधानी भोपाल का एक दिवसीय द्वारा शहंशाही अंदाज में संपन्न हुआ उनके स्वागत में सत्ता और संगठन जहां में पलक पावडे बिछाए वही शाह ने भी पीठ थपथपाई और शाह जहां जाते हैं वहां विपक्षी दल में भी खलबली मच जाती है प्रदेश में भी कांग्रेस के और विधायकों की पार्टी छोड़ने की खबरें जोर पकड़ने लगीI amit shah bhopal visit

दरअसल भाजपा में अमित शाह की क्या अहमियत है यह एक बार फिर भोपाल दौरे ने सिद्ध कर दिया इसके पहले जब शाह 3 दिन राजधानी भोपाल में थे तब वे राष्ट्रीय अध्यक्ष थे लेकिन इस बार वे अन्य मंत्रियों की तरह केंद्रीय गृह मंत्री हैं लेकिन उन की धमक भाजपा के सर्वे सर्वा के रूप में बनी हुई है क्योंकि वे पार्टी के ऐसे रणनीतिकार माने जाते हैं जहां जहां मुश्किल होती है वहां वहां वे सरकार बनाते हैं और प्रदेश में 2018 में भाजपा की सरकार ना बन पाने के कारण पार्टी के राष्ट्रीय नेतृत्व प्रदेश के प्रति तभी से सतर्क और सावधान हैंI

हालांकि डेढ़ साल में ही कुछ ऐसा ताना-बाना बुना गया कि कांग्रेस की सरकार गिरा कर भाजपा ने अपनी सरकार प्रदेश बना ली और अब 2023 के लिए पार्टी कोई रिस्क नहीं लेना चाहती शायद इसी कारण समय से पहले प्रदेश की चुनावी रणनीति की कमान अमित शाह ने अपने हाथों में ले ली शुक्रवार को उनके दौरे मैं जिस तरह से सत्ता और संगठन से जुड़े तमाम नेताओं ने स्वागत में कोई कसर नहीं छोड़ी उससे एक बार फिर भाजपा में अमित शाह की अहमियत देखी गईI

बहरहाल कांग्रेश जब एकजुटता दिखा रही जब प्रदेश के चुनाव में चुनावी रणनीति का प्रशांत किशोर की सेवाएं लेने की चर्चा कर रही और एक तरह से यह संदेश दे रही है कि 2023 का चुनाव वह 2018 से भी अधिक ताकत और योजना के साथ लड़ेगी उसी समय भाजपा के रणनीतिकार और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की राजधानी दौरे ने कांग्रेस के गुब्बारे में छेद कर दिया क्योंकि पूरे समय राजधानी भोपाल में आगामी दिनों कुछ कांग्रेसी विधायकों के पार्टी छोड़ने और भाजपा में शामिल होने की चर्चा चलती रहे खासकर जब नगरी प्रशासन मंत्री भूपेंद्र सिंह का बयान आया जिसमें उन्होंने कहा कि जिस दिन भाजपा अपने दरवाजे खोल देगी उस दिन कांग्रेश खाली हो जाएगी कांग्रेस के लगभग आधा दर्जन विधायक भाजपा ज्वाइन करने के लिए भाजपा के संपर्क में है इसके बाद तुरंत ही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ का बयान आ गया जिसमें उन्होंने कहा कि भाजपा के पास पैसा पुलिस और प्रशासन है जनता नहीं है यह लोग ऐसे ही बातें करते हैंI

Read also अरबपतियों के लिए नहीं बुलडोजर

कुल मिलाकर ऐसे ही भाजपा की रणनीति कहें या इत्तेफाक अमित शाह के दौरे के समय ही कांग्रेस में बगावत की चर्चाएं चली अमित शाह का ट्रैक रिकार्ड ही कुछ ऐसा है कि जहां जहां वह जाते हैं वहां विपक्षी दल में खलबली मच जाती है कई जगह उनके दौरे के बाद सत्ता परिवर्तन जैसे बड़े खेल भी हुए भाजपा ने भी अपने धाकड़ नेता अमित शाह किसान शौकत बढ़ाने वाले स्वागत कार्यक्रम में जहां कोई कसर नहीं छोड़ी वहीं जंबूरी मैदान में तेंदूपत्ता संग्राहकों की बोनस वितरण में भारी भीड़ जमा करके और आदिवासी वर्ग के हित में घोषणाएं करके शाह का शहंशाही अंदाज़ बरकरार रखा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और प्रदेश अध्यक्ष कार्यकर्ता की तरह शाह के आगे पीछे होते रहे वही केंद्रीय मंत्रियों और प्रदेश के मंत्रियों ने स्वागत सत्कार में और आदर सत्कार में कोई कमी नहीं रहने दी तभी शाह के इस दौरे को एक बार फिर शहंशाही दौरा कहा जा रहा हैI

Leave a comment

Your email address will not be published.

12 + fourteen =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
बाल ठाकरे के नाम की राजनीति चलेगी
बाल ठाकरे के नाम की राजनीति चलेगी