nayaindia election-for-congress : कांग्रेस के लिए चुनाव किसी परीक्षा से कम नहीं
गेस्ट कॉलम | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| election-for-congress : कांग्रेस के लिए चुनाव किसी परीक्षा से कम नहीं

कांग्रेस के लिए चुनाव किसी परीक्षा से कम नहीं

PKs presentation

भोपाल। जिला कांग्रेस के अध्यक्ष एवं जिला प्रभारियों की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने दो टूक कहा है कि चुनाव के लिए केवल 18 महीने रह गए हैं। यह चुनाव किसी परीक्षा से कम नहीं है। “घर चलो, घर – घर चलो” अभियान फरवरी में शुरू हो रहा है और इसमें सभी को जी जान से मैदान में जुटना है। ( election-for-congress)

also read: जनरल बिपिन रावत के भाई विजय रावत भाजपा में शामिल, सीएम धामी की मौजूदगी में थामा ‘कमल’

दरअसल, देश में पांच राज्यों के चुनाव हो रहे हैं लेकिन मध्यप्रदेश में 18 महीने पहले ही चुनावी माहौल बनने लगा है। सत्ताधारी दल भाजपा हो या फिर प्रमुख विपक्षी दल कांग्रेस दोनों ही चुनावी मोड में आ गए हैं और भाजपा में जहां बूथ विस्तारक कार्यक्रम के माध्यम से घर घर पहुंचने की योजना बनाई है। वही कांग्रेस में सीधे तौर पर “घर चलो, घर घर चलो” अभियान फरवरी से प्रारंभ करने का फैसला किया है।

बहरहाल, मंगलवार को प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ में अपने निवास पर प्रदेश के सभी जिला कांग्रेस अध्यक्ष एवं जिला प्रभारियों की बैठक बुलाई जिसमें उन्होंने कहा आज की राजनीति में बुनियादी परिवर्तन आ चुका है। अब जनता से सीधे संपर्क व संवाद रखने वाला नेता ही आगे भविष्य में टिक पाएगा। हमें इस सच्चाई को समझना होगा बगैर मजबूत संगठन के चुनाव नहीं जीत सकते हैं। हमें अपने मंडल, सेक्टर और बूथ इकाइयों को मजबूत बनाना होगा। प्रदेश के उपचुनाव में हमारी जीत का कारण हमारा संगठन नहीं है। आगामी विधानसभा चुनाव उल्टी गिनती प्रारंभ हो चुकी है। 18 माह शेष बचे हैं। उन्होंने कहा कि हमारे मंडल, सेक्टर बूथ इकाइयों के पुनर्गठन के में तेजी लाना होगी।

नए मतदाताओं को जोड़ना होगा। जिन लोगों के नाम छूट गए हैं उन्हें भी जोड़ने की दिशा पर ध्यान देना होगा। फर्जी एवं बोगस नामों को मतदाता सूची से हटवाना होगा। उन्होंने कहा 1 फरवरी से प्रदेश में “घर चलो घर-घर चलो” अभियान का शुभारंभ होगा जिसके तहत ब्लॉक स्तर पर जनता से सीधा संवाद और संपर्क करना है। साथ ही यह भी कोशिश करें कि हम 1 दिन में कम से कम 5 बूथों तक हर हाल में पहुंच सके। कांग्रेस की रीति – नीति को जन-जन तक पहुंचाएं और समय-समय पर इसकी समीक्षा भी होगी। उन्होंने यह भी बताया कि प्रदेश के सभी जिलों में जिला समन्वय समिति का गठन किया जाएगा और समय-समय पर प्रशिक्षण शिविर भी आयोजित होंगे। ( election-for-congress )

“घर चलो घर-घर चलो” अभियान के प्रभारी विधायक रवि जोशी में इस अभियान के बारे में विस्तृत रूप से जानकारी दी। वहीं पूर्व विधानसभा अध्यक्ष एवं मंडल, सेक्टर एवं बूथ प्रभारी एनपी प्रजापति ने प्रदेश के विभिन्न जिलों से प्राप्त मंडल, सेक्टर बूथ इकाइयों की जानकारी देते हुए बताया कि जिन जिलों की अभी तक सूची नहीं आई है कि तत्काल प्रदेश कांग्रेस कार्यालय को सूचित कराये। वहीं प्रदेश बाल कांग्रेस के प्रभारी पूर्व मंत्री बाला बच्चन में बाल कांग्रेस के गठन उसके उद्देश्य की जानकारी देते हुए बताया कि बाल कांग्रेस में जुड़ने के लिए इस प्रकार युवाओं का उत्साह सामने आ रहा है। वहीं बाल कांग्रेस द्वारा आयोजित होने वाले आगामी कार्यक्रमों की जानकारी दी। वहीं पूर्व मंत्री पी. सी. शर्मा ने पार्टी द्वारा आगामी समय में होने वाले आंदोलनों की कार्यक्रमों की रूपरेखा सभी को बताई।

कुल मिलाकर जिस तरह से 2018 के विधानसभा के चुनाव के 6 महीने पहले कांग्रेस अध्यक्ष मनोनीत होने के बाद कमलनाथ में बूथ, मंडल और सेक्टर को मजबूत बनाने पर फोकस बनाया था। इस बार 2023 के विधानसभा के आम चुनाव के 18 महीने पहले से फोकस बनाना शुरू कर दिया है और इस बार कमलनाथ कार्यकर्ताओं और पार्टी नेताओं को पूरा भरोसा दिला रहे हैं कि 2023 में प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनेगी और यह कहने से नहीं दिख रहे हैं यह चुनाव किसी परीक्षा से कम नहीं यदि इस बार सरकार नहीं बनी तो हालत उत्तर प्रदेश जैसी भी हो सकती है जहां सरकार बनाने का इंतजार लंबे समय से हो रहा है। (election-for-congress)

Leave a comment

Your email address will not be published.

1 × 1 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
अमरकंट में अब नहीं होगा कोई नया निर्माण
अमरकंट में अब नहीं होगा कोई नया निर्माण