फीडबैक से उपजेगे फासले दूर करने के उपाय
गेस्ट कॉलम | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| फीडबैक से उपजेगे फासले दूर करने के उपाय

फीडबैक से उपजेगे फासले दूर करने के उपाय

five state elections :

भोपाल। सत्तारूढ़ दल भाजपा को हाल ही में संपन्न हुए एक लोकसभा और तीन विधानसभा के उपचुनाव में 4 में से भले ही क्षेत्रों में जीत मिल गई हो लेकिन पार्टी को जो जमीनी हकीकत चुनाव के दौरान देखने सुनने को मिली उसके बाद अब पार्टी संगठन के माध्यम से मिले फीडबैक से विधायकों को अवगत कराएगी एवं सभी से कार्यकर्ताओं और आम जनता से जो भी फासला हो उसको दूर करने के उपाय भी बताएगी और केंद्र एवं राज्य सरकार की उपलब्धियों को जन जन तक पहुंचाने का कार्यक्रम भी बनाएगी इस लिहाज से 24 25 और 26 नवंबर की बैठक को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

दरअसल शून्य से शिखर तक पहुंची भारतीय जनता पार्टी का कारण यही है कि वह लगातार समीक्षा बैठक करती रहती है जिसके माध्यम से कमजोर कड़ियों को दूर करने की कोशिश होती रहती है चाहे देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा तीनों कृषि कानून वापस लेने की घोषणा हो या फिर योगी के गले में हाथ डाल कर चहल कदमी करने का मामला हो पार्टी परिस्थितियों के अनुसार निर्णय लेने में संकोच नहीं करती प्रदेश में भी 24 25 और 26 नवंबर को पार्टी के विधायकों पदाधिकारियों और प्रदेश कार्यसमिति की बैठक होने जा रही है जिसमें पिछले दिनों प्रदेश में संपन्न हुए खंडवा लोकसभा और जोबट पृथ्वीपुर एवं रैगांव विधानसभा के उपचुनाव के परिणाम भले ही पार्टी के पक्ष में आए हो लेकिन पार्टी को जितनी कसरत करने पड़ी और खंडवा लोकसभा में उसकी जीत का अंतर कम हुआ रैगांव जैसी परंपरागत सीट से हार का सामना करना पड़ा हो उसके बाद पार्टी में जो फीडबैक बना है उसके आधार पर इन 3 दिनों में विधायकों को अवगत कराया जाएगा और संगठन पदाधिकारियों के साथ मैदानी स्तर पर पार्टी को मजबूत करने के उपायों पर चर्चा की जाएगी

बहरहाल भाजपा प्रदेश संगठन द्वारा 24 और 25 नवंबर को राजधानी भोपाल में एक बैठक बुलाई गई है जिसमें विधायकों के अलावा संगठन के पदाधिकारी और पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष पूर्व जनपद अध्यक्ष पूर्व नगरपालिका अध्यक्ष पूर्व नगर निगम अध्यक्ष पूर्व महापौर को भी आमंत्रित किया गया है भाजपा संगठन अब विधायकों के कामकाज की समीक्षा करने के साथ पंचायत और नगरी निकाय चुनाव में पार्टी का बेहतर प्रदर्शन कैसे हो इसके लिए प्लान बनाएगी इसके लिए पार्टी इसी सप्ताह अलग-अलग ग्रुप बनाकर संभाग बार भाजपा विधायकों के साथ बैठक करने जा रही है जिसमें विधायकों से नगरी निकाय चुनाव को ध्यान में रखते हुए क्षेत्रीय समस्याएं पूछने के साथ-साथ पार्टी अफसरों और अधिकारियों कर्मचारियों के बारे में भी फीडबैक लेगी साथ ही संगठन आधार पर मिले फीडबैक से कमजोर परफारमेंस वाले विधायकों को बताएगी और उन्हें कमजोरी दूर करने के उपाय भी सुझाए गी फिलहाल प्रदेश संगठन 24 और 25 को भोपाल में विधायकों की बैठक संभाग और जिलों के आधार पर तय की गई है 2 दिन चलने वाली बैठक में शामिल होने के लिए सभी विधायकों को सूचना दी गई है।

माना जा रहा है की कुछ दिन पहले ही भाजपा प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा ने दिल्ली में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की थी इसमें संगठन गतिविधियों को लेकर चर्चा हुई शर्मा द्वारा उपचुनाव के दौरान संगठनों जनप्रतिनिधियों के काम की रिपोर्ट भी लड्डा को सौंपी गई इस मुलाकात में यह तय हुआ कि जो कि अब चुनाव के लिए 2 साल का समय बचा है ऐसे में क्षेत्र में विधायकों की सक्रियता उनके जनसंपर्क का फीडबैक लिया जाए इसके बाद संगठन ने तय किया कि 2 दिन तक विधायकों की बैठक बुलाकर उन्हें पार्टी की फीडबैक से अवगत कराने के साथ-साथ उनके कामकाज की रिपोर्ट भी दी जाएगी इन बैठकों के बाद अगले ही दिन 26 नवंबर को प्रदेश कार्यसमिति की बैठक होशंगाबाद रोड पर एक होटल में रखी गई है जिसमें 2 दिन की बैठकों के बाद मिले फीडबैक पर चर्चा होगी एवं आगामी दिनों सत्ता और संगठन के बीच समन्वय जो लंबे समय से विभिन्न निगम मंडलों में नियुक्तियां टाली जा रही है उन पर चर्चा एवं पार्टी कार्यकर्ताओं एवं आम जनता के बीच भाजपा के जनप्रतिनिधियों और पदाधिकारियों का जो फैसला बन रहा है उसको दूर कैसे किया जाए इसके उपायों पर भी चर्चा होगी कुल मिलाकर प्रदेश भाजपा संगठन 3 दिनों में कसरत करके आगामी दिनों होने वाले पंचायती राज और नगरी निकाय के चुनाव की रूपरेखा तो बनाएगी ही साथ ही मिशन 2023 के लिए भी तैयारियां तेज करेगी

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
पंचाब का रण! कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की सूची, चन्नी-सिद्धू यहां से संभालेंगे चुनावी मोर्चा
पंचाब का रण! कांग्रेस ने जारी की 86 उम्मीदवारों की सूची, चन्नी-सिद्धू यहां से संभालेंगे चुनावी मोर्चा