nayaindia MP Government मप्र: समस्याओं का समाधान और परफारमेंस सुधारने पर जोर
गेस्ट कॉलम

मप्र: समस्याओं का समाधान और परफारमेंस सुधारने पर जोर

Share

भोपाल। मुख्यमंत्री निवास पर विकास यात्रा की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने मंत्रियों से कहा कि वे समस्याओं का समाधान करें और अपना परफारमेंस सुधारने के लिए तेज प्रयास करें। उन्होंने कहा विकास यात्रा के दौरान जो भी समस्याएं आ रही हैं उनका तुरंत निराकरण करें कार्यकर्ताओं से संवाद स्थापित करें।

दरअसल, पिछले कुछ दिनों से खासकर जब से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सरसंघचालक मोहन भागवत से मुलाकात के बाद 19 फरवरी को दिनभर मंत्रियों को भोपाल में रहने के निर्देश दिए थे तब से विभिन्न प्रकार के कयास लगाए जा रहे थे और 18 तारीख की रात को ही अधिकांश मंत्री भोपाल पहुंच गए थे। इसके पहले अपने अपने स्तर पर मंत्री बुलाने के कारण भी तलाशते रहे तब यह बात सामने आई थी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को प्रतिदिन पौधा लगाते हुए 19 फरवरी को 2 साल पूरे हो रहे हैं और इस उपलक्ष में सभी मंत्री एक साथ मुख्यमंत्री के साथ वृक्षारोपण करेंगे और हुआ भी यही।

10:00 एयरपोर्ट के पास रामबन में लगभग 7 50 पौधे लगाए गए। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा पौधारोपण से नहीं होगा बल्कि खाने और सोने की तरह समय निकालना होगा। मैंने पिछले 2 वर्ष में यही किया है यहां तक कि कोरोना काल में भी पौधे लगाए हैं। पौधारोपण के बाद मुख्यमंत्री निवास पर मंत्रियों के साथ एक बैठक की जिसमें विकास यात्रा की समीक्षा की गई। सूत्रों की माने तो मुख्यमंत्री चौहान ने मंत्री और से अपना परफारमेंस सुधारने के लिए कहा है। खासकर जिंनकी रिपोर्ट विकास यात्रा के दौरान सकारात्मक नहीं रही है। उन्होंने मंत्रियों से कहा जितने भी आवेदन विकास यात्रा के दौरान मिल रहे हैं। उन सभी की समस्याओं का निराकरण तत्परता से करें और कार्यकर्ताओं से भी सीधा संवाद स्थापित करें। बैठक के दौरान मंत्रियों ने अपने-अपने प्रभार जिला की रिपोर्ट मुख्यमंत्री को सौंपी जिसमें विकास यात्रा के दौरान तैयार की गई है।

मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री ने मंत्रियों से वर्किंग स्टाइल सुधारने को कहा अगली बार जब समीक्षा होगी तब सकारात्मक रिपोर्ट आनी चाहिए अन्यथा फेरबदल के दौरान बदलाव भी हो सकता है। शाम को हुई कैबिनेट की बैठक में शराब नीति के संबंध में महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए जिसमें अब शराब दुकानों में बैठकर लोग पी नहीं सकेंगे आते बंद होंगे।

बैठक के बाद निर्णय की जानकारी देते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने बताया कि शराब पीकर वाहन चलाने वालों के ड्राइविंग लाइसेंस निलंबित करने के प्रावधान खड़े किए जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि अब शैक्षणिक संस्थाओं के आसपास शराब दुकान में नहीं रहेंगे। 50 मीटर के दायरे को बढ़ाया जा रहा है। कहा कि शराब को हतोत्साहित करने की दिशा में मुख्यमंत्री लगातार आगे बढ़ रहे हैं। सभी आहाते और सभी शाप बार बंद किए जा रहे हैं।

कुल मिलाकर रविवार को सुबह से लेकर देर शाम तक मंत्रिमंडल की सक्रियता बनी रहे और जिस तरह के निर्णय लिए जा रहे हैं मैदानी सक्रियता भी मंत्रियों की बढ़ेगी और सरकार का सकारात्मक संदेश बनाने के प्रयास भी तेज होंगे।

By विनीत नारायण

वरिष्ठ पत्रकार और समाजसेवी। जनसत्ता में रिपोर्टिंग अनुभव के बाद संस्थापक-संपादक, कालचक्र न्यूज। न्यूज चैनलों पूर्व वीडियों पत्रकारिता में विनीत नारायण की भ्रष्टाचार विरोधी पत्रकारिता में वह हवाला कांड उद्घाटित हुआ जिसकी संसद से सुप्रीम कोर्ट सभी तरफ चर्चा हुई। नया इंडिया में नियमित लेखन। साथ ही ब्रज फाउंडेशन से ब्रज क्षेत्र के संरक्षण-संवर्द्धन के विभिन्न समाज सेवी कार्यक्रमों को चलाते हुए। के संरक्षक करता हैं।

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

और पढ़ें

Naya India स्क्रॉल करें