nayaindia RSS coordination meetings उठापटक के बीच संघ की समन्वय बैठकें
गेस्ट कॉलम | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| RSS coordination meetings उठापटक के बीच संघ की समन्वय बैठकें

उठापटक के बीच संघ की समन्वय बैठकें

rss

भोपाल। प्रदेश में राजनैतिक उठापटक चल रही है। कहीं ओबीसी आरक्षण को लेकर तो कहीं पंचायत के चुनाव को लेकर लेकिन इन सबके बीच संमिधा में संघ बारी बारी से मंत्रियों के साथ बैठकर कर रहा है। जिसमें मंत्रियों से उनके विभागों में किए जा रहे नवाचार संबंधी जानकारी तो पूछी ही जाती है साथ ही संघ के विभिन्न प्रकल्पों की क्या स्थिति है यह भी पूछा जा रहा है।

दरअसल, संघ के लगभग 140 के करीब अनुषांगिक संगठन है उसी में राजनीतिक क्षेत्र में काम करने वाला संगठन भाजपा है लेकिन जमीनी स्तर पर सेवा भारती संस्कार भारती विद्या भारती और भारतीय मजदूर संघ जैसे अनुषांगिक संगठन मजबूत पकड़ रखते हैं और इन्हीं के माध्यम से संघ सरकार और संगठन का फीडबैक लेता रहता है। संघ ने मंत्रियों के बारे में भी जानकारी जुटाई है और यह जो समन्वय बैठकर शुरू हुई है। उसमें संघ मंत्रियों के बारे में उन्हें बताता है इन बैठकों में भाजपा की ओर से प्रदेशाध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा और संगठन महामंत्री सुहास भगत उपस्थित रहते हैं तो संघ की ओर से क्षेत्र प्रचारक दीपक विस्पुते और सेवा भारती संस्कार भारती विद्या भारती भारतीय मजदूर संघ के प्रतिनिधि विशेष रूप से मौजूद रहते हैं।

बहरहाल, मंत्रियों के साथ समन्वय बैठक की शुरुआत मंत्री जगदीश देवड़ा, विजय शाह, विजेंद्र सिंह और इंदर सिंह परमार के साथ शुरू हुई। जिसमें इनके विभागों से संबंधित नवाचार पूछे गए और कुछ सुझाव भी दिए गए मंत्रियों ने भी उन कार्यों को सामने रखा जो संघ की प्राथमिकता में है। मसलन वन मंत्री विजय शाह ने वन भूमि में आदिवासियों को दिए जाने वाले पट्टों और वनवासियों की सुविधा के लिए सरकार द्वारा किए जा रहे कार्यों को गिनाया संघ कि इस कार्य में रुचि भी थी क्योंकि संघ के अनुषांगिक संगठन वनवासी कल्याण परिषद लंबे समय से इस क्षेत्र में काम कर रहा है और इसी तरह की मांग आदिवासियों के बीच से आई थी। वित्त मंत्री जगदीश देवड़ा ने आदिवासियों के लिए सरकार द्वारा लाई जा रही नई शराब नीति के बारे में बताया। वहीं स्कूल शिक्षा मंत्री इंदर सिंह परमार ने शिक्षा के क्षेत्र में सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी जबकि खनिज मंत्री विजेंद्र सिंह ने विभाग द्वारा जो नई पॉलिसी बनाई गई है उसको बताया।

कुल मिलाकर संघ द्वारा अनुषांगिक संगठनों के माध्यम से जो फीडबैक जुटाया गया है। उसी के आधार पर मंत्रियों के साथ बैठकों का दौर शुरू हो चुका है आगे भी यह चलता रहेगा और लगभग सभी मंत्रियों के साथ एक दौर की बैठक होगी। जिसमें संघ की प्रकल्प पर तू चर्चा होगी ही मंत्रियों द्वारा विभाग में किए जा रहे नवाचारों के बारे में भी पूछा जाएगा और भविष्य में संघ कुछ पॉलिसी बनाकर संगठन के माध्यम से सरकार तक पहुंचाएगा जिस पर अमल करके मैदानी स्तर पर आदिवासियों के बीच दलितों के बीच गरीबों के बीच मजबूत पैठ बनाई जा सके। संघ एक मंदिर एक कुआं एक पाठशाला का हिमायती रहा है और यह भी हो सकता है कि भविष्य में मंदिरों की निगरानी संघ करें खासकर उन मंदिरों की जहां भारी संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं। संघ मंदिरों को सकारात्मक ऊर्जा का केंद्र बनाना चाहता है जहां से समाज को मजबूती मिल सके इन सब बातों को अमलीजामा पहनाने के लिए संघ के संबंध में बैठकों को महत्वपूर्ण माना जा रहा है।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published.

4 × 2 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
लालू के 17 ठिकानों पर CBI ने मारी Raid, नौकरी लगाने के बदले जमीन लेने का आरोप…
लालू के 17 ठिकानों पर CBI ने मारी Raid, नौकरी लगाने के बदले जमीन लेने का आरोप…