नसीहतों की कार्यसमिति
गेस्ट कॉलम | देश | मध्य प्रदेश| नया इंडिया| नसीहतों की कार्यसमिति

नसीहतों की कार्यसमिति

bjp state working committee

भोपाल। कोरोना महामारी के कारण लगभग दो वर्षों के बाद प्रत्यक्ष रूप से हुई प्रदेश भाजपा कार्यसमिति की बैठक में नसीहतों की बौछार लगी रही। वहीं मुख्यमंत्री और प्रदेशाध्यक्ष सत्ता और संगठन ने उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुए आगे और भी एकजुटता और सक्रियता से काम करने की बातें की। bjp state working committee

दरअसल, लंबे अर्से बाद भाजपा प्रदेश कार्यसमिति के पहले दो दिन भाजपा विधायकों की संभाग बार संपन्न हुई बैठकों में राष्ट्रीय संगठन महामंत्री शिवप्रकाश और प्रदेश प्रभारी मुरलीधर राव ने भाजपा विधायकों को सक्रिय रहने और काम करके दिखाने की नसीहत देते हुए कहां यदि ऐसा नहीं करेंगे तो टिकट कट जाएंगे। इसी तरह मोर्चा प्रकोष्ठ अध्यक्ष को भी हिदायत दी गई यदि काम करना चाहते हैं तो ही पदों पर रहे खासकर भाजयुमो महिला मोर्चा और किसान मोर्चा के प्रमुखों को विशेष रुप से इशारा किया।

बहरहाल, कार्यसमिति के अंतिम सत्र में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष जहां संगठन की बखान किया, वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने भी कोरोना से लेकर अब तक की सरकार की उपलब्धियों को एक-एक करके गिनाया और आगे मुख्यमंत्री के साथ – साथ पार्टी के लिए विस्तारक के रूप में कार्य करने के लिए आधा समय देने की बात कही। उन्होंने अपना वक्तव्य समाप्त करने के पूर्व मिंटो हॉल का नाम कुशाभाऊ ठाकरे के नाम पर करने की घोषणा की जबकि पिछले दो दिन से मिंटो हॉल का नाम डॉ हरिसिंह गौर के नाम पर करने की मांग की जा रही थी।

आज डॉक्टर सिंह गौर की जयंती थी। इस कारण बुंदेलखंड क्षेत्र से पुरजोर मांग उठाई जा रही थी। भाजपा प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल से लेकर मंत्री भूपेंद्र सिंह ने इस मांग को प्रमुखता से रखा लेकिन पूर्व मंत्री उषा ठाकुर ने इस साल का नाम वीर सावरकर के नाम से करने की मांग की तो पूर्व महापौर व प्रदेश उपाध्यक्ष आलोक शर्मा ने मिंटो हॉल का नाम स्वामी विवेकानंद के नाम पर यह जाने की मांग की और भाजपा नेताओं में ही किसी एक नाम पर सहमति नहीं बन पा रही थी और शाम को मुख्यमंत्री ने अचानक से कुशाभाऊ ठाकरे पर साल का नाम रखने की घोषणा कर दी।

कुल मिलाकर प्रदेश की राजनीति में जिस तरह की बयान बाजी हो रही है और आरोप-प्रत्यारोप के दौर चल रहे हैं ऐसे समय भाजपा की 3 दिन सभी बैठकों में प्रदेश प्रभारी ने जहां बड़बोले नेताओं को निष्क्रिय पदाधिकारियों को और कसौटी पर अरे ना उतरने वाले विधायकों को विभिन्न तरह से नसीहते दी। वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं प्रदेश अध्यक्ष विष्णु दत्त शर्मा सत्ता और संगठन की उपलब्धियों का गुणगान किया।

Tags :

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
चार राज्यों में कांग्रेस ही मुकाबला में!
चार राज्यों में कांग्रेस ही मुकाबला में!