nayaindia Chhath Puja 2022 लोकपर्व छठ अब वैश्विक हो चुका है
kishori-yojna
गेस्ट कॉलम| नया इंडिया| Chhath Puja 2022 लोकपर्व छठ अब वैश्विक हो चुका है

लोकपर्व छठ अब वैश्विक हो चुका है

यह पर्व न सिर्फ मनाया जा रहा है, बल्कि पीढ़ी दर पीढ़ी स्थानांतरित भी हो रहा है। इसने बिहार की सांस्कृतिक विरासत को न सिर्फ थामे रखा है, बल्कि बढ़ा भी रहा है। छठ हमें अपनी मिट्टी से जोड़ता है। उससे जुड़ाव की अनुभूति देता है।.. छठ पर्व की संस्कृति दूर देश में भी जीवित है। छठ पूजा जिस आस्था के साथ अपने यहां मनाई जा रही है, सात समंदर पार भी लोग इस महापर्व को उतनी ही आस्था से मनाते हैं।

सूर्योपासना के छठ महापर्व पर विशेष

सूर्योपासना का पर्व छठ दरअसल प्रकृति की अनंत, अक्षय विराटता की उपासना है। कभी क्षेत्रीय स्तर पर मनाया जानेवाला यह लोकपर्व अब वैश्विक पहचान बनाने लगा है। खास बात यह है कि ग्लोबल दुनिया में छठ पर्व की धार्मिक-सांस्कृतिक मान्यताएं एवं स्थापनाएं पूर्ववत हैं और विरासत का विस्तार निरंतर हो रहा है। ग्लोबल दुनिया में यह पर्व बिहार की अस्मिता को अलग पहचान देता है। छठ पर्व की संस्कृति दूर देश में भी जीवित है। छठ पूजा जिस आस्था के साथ अपने यहां मनाई जा रही है, सात समंदर पार भी लोग इस महापर्व को उतनी ही आस्था से मनाते हैं। दुबई, नेपाल, फिजी, सूरिनाम, मॉरीशस, सिंगापुर, तंजानिया, केन्या से लेकर इंगलैंड, ऑस्ट्रेलिया, अमेरिका तक में भी छठ मनाया जा रहा है।

यह पर्व न सिर्फ मनाया जा रहा है, बल्कि पीढ़ी दर पीढ़ी स्थानांतरित भी हो रहा है। इसने बिहार की सांस्कृतिक विरासत को न सिर्फ थामे रखा है, बल्कि बढ़ा भी रहा है। छठ हमें अपनी मिट्टी से जोड़ता है। उससे जुड़ाव की अनुभूति देता है। उत्तर प्रदेश के गोरखपुर की रहने वालीं और अब मॉरीशस में प्राइवेट सेक्टर में नौकरी कर रहीं रेखा पासवान कहती हैं- छठ अपनी लोकरंजकता और नगरीकरण के साथ गांवों से शहर और विदेशों में पलायन के चलते न सिर्फ भारत के तमाम प्रांतों में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहा है बल्कि मॉरीशस, नेपाल, त्रिनिडाड, सूरीनाम, दक्षिण अफ्रीका, हालैंड, ब्रिटेन, कनाडा और अमेरिका जैसे देशों में भी भारतीय मूल के लोगों द्वारा अपनी छाप छोड़ रहा है।

कहते हैं कि यह पूरी दुनिया में मनाया जाने वाला अकेला ऐसा लोकपर्व है, जिसमें उगते सूर्य के साथ डूबते सूर्य की भी विधिवत आराधना की जाती है। यही नहीं इस पर्व में न तो कोई पुरोहिती, न कोई मठ-मंदिर, न कोई अवतारी पुरुष और न ही कोई शास्त्रीय कर्मकांड होता है। मॉरीशस में इकट्ठा होकर लोग ये पर्व मनाते हैं और अपने बच्चों को इसके बारे में बताते हैं। कोई भी त्योहार हर किसी के चेहरे पर मुस्कुराहट लाता है वहीं ये त्योहार भारतीय बाजार और आर्थिक कारोबार को भी बढ़ाता है। देश की आर्थिक उन्नति में इन पर्व त्योहारों का बड़ा योगदान होता है। छठ का पर्व भी हमारे बाजार के छोटे छोटे कारोबारियों के जीवन में खुशियां लेकर आता हैं। यह दिवाली के छठे दिन मनाया जाता है।

यह एक ऐसा त्योहार है, जो उत्तर भारत में मुख्य रूप से उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, और असम के कुछ हिस्सों, पश्चिम बंगाल आदि राज्यों में विशेष रूप से मनाया जाता है। आजकल लोग आजीविका के लिए अलग अलग राज्यों में जाते हैं, जिसके परिणामस्वरूप इस त्योहार को पूरे देश में मनाते हुए देखा जा सकता है। इस पूजा में, लोग भगवान सूर्य और उनकी बहन छठ माता की आराधना करते हैं। छठब्रती तीन दिनों का उपवास रखते हैं और साथ में प्रार्थना भी करते हैं। वे उगते सूरज के साथ-साथ अस्त होते हुए सूर्य की भी विधि विधान से प्रार्थना करते हैं। छठ पूजा का महत्व इसलिए और ज्यादा बढ़ जाता है क्योंकि इस त्योहार में बहुत सारे लोग हर साल अपने मूल स्थान पर जाते हैं, जहां उनके परिवार, गांव, समाज के लोग रहते हैं इस पर्व में सामूहिकता और सामाजिकता का अद्भुत दृश्य दिखाई देता है। गांव में या अपने पैतृक निवास पर वर्षों से छूटे सभी रिश्तों में नई ताजगी आ जाती है। सभी लोग मिल जुलकर पारंपरिक लोक भक्ति गीत गाते हैं एवं प्रसाद तैयार करते हैं।

प्रसाद तैयार करने के लिए आम की लकड़ियों की व्यवस्था की जाती है। प्रसाद को हाथ से बने चूल्हे पर अलग से पका कर बनाया जाता है। इन तीन दिनों तक समूचा परिवार और समाज एकाकार होकर पूरा आनंद लेते हैं। परिवार के सभी सदस्य व्रतियों एवम् अन्य महिलाओं के साथ प्रार्थना करने के लिए घाट पर जाते हैं। वास्तव में यह एक अद्भुत अनुभव है और हम सभी हर साल इस त्योहार का इंतजार करते हैं। छठ पूजा मनाने के पीछे अनेकों पौराणिक, लोक प्रचलित कथाएं सुनाई जाती हैं। ऐसा माना जाता है कि जब पांडवों ने अपना सब कुछ खो दिया था, तब द्रौपदी ने इस व्रत को किया और एक बार फिर से सब कुछ धन्य हो गया। सूर्यपुत्र कर्ण भी भगवान सूर्य की प्रार्थना करने के लिए उनका ध्यान करते थे और परिणामस्वरूप, उन्होंने उन उपयोगी पाठों को सीखा। राम जी और सीता जी ने भी वनवास से लौटने पर तीन दिनों तक उपवास रखा और छठ माता की प्रार्थना की थी।

एक अन्य कथा के अनुसार, एक राजा जिसका नाम प्रियव्रत था और वह बहुत निराश था क्योंकि उसकी कोई संतान नहीं थी, फिर एक महर्षि ने संतान प्राप्ति के लिए यज्ञ किया और राजा से अपनी पत्नी को यज्ञ की खीर देने को कहा। उसकी पत्नी ने वह खाया लेकिन जब उनके बच्चे का जन्म हुआ लेकिन वह मृत पैदा हुआ। राजा पूरी तरह से निराश हो गया, जब वह अपने बेटे की अंतिम यात्रा के लिए श्मशान गया, तो वह खुद को भी मारना चाहता था। तभी अचानक वहां एक दिव्य महिला प्रकट हुई, वह देवसेना जो षष्टी या छठी के नाम से जानी जाती थी, और उसने राजा से खुद को मारने के बजाय छठ माता की प्रार्थना करने के लिए कहा। फिर प्रियव्रत ने भी छठ पर्व किया भगवान सूर्य की कृपा से उन्हें एक संतान की प्राप्ति हुई जिसे पाकर वह धन्य हो गया।

लोक मान्यतानुसार छठ माता की प्रार्थना और व्रत करने से भक्तों के घर में सुख समृद्धि आती है सूर्य नारायण और षष्ठी माता भक्तों की सभी इच्छाओं को पूरा करते हैं और आशीर्वाद देते हैं। लोगों का बहुत दृढ़ विश्वास है, इसलिए हर साल वे इस अवसर को बहुत ही पवित्रता और स्वच्छता से मनाते हैं। यह त्योहार दिनों दिन सभी जगह लोकप्रिय होते जा रहा है। छठ पर्व भारत के कृषि संस्कृति का प्रतिबिंब है। छठ पूजा उत्तर भारत के सबसे पारंपरिक त्योहारों में से महत्वपूर्ण पर्व है। नई पीढ़ी को संस्कार सीखना चाहिए और अपनी परंपराओं का पालन करना चाहिए और सूर्य उपासना के इस पर्व से भारतीय संस्कृति की पहचान पूरी दुनिया में फैलानी चाहिए।  (लेखक साहित्य अकादमी के सदस्य हैं और मैथिली भोजपुरी अकादमी दिल्ली सरकार के पूर्व उपाध्यक्ष रहे हैं।)

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

8 − 5 =

kishori-yojna
kishori-yojna
ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
कोरोना अब भी ग्लोबल इमरजेंसी: डब्लुएचओ
कोरोना अब भी ग्लोबल इमरजेंसी: डब्लुएचओ