• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

महामारी में ‘मृत्यु’ ही है विषय!

Must Read

हरिशंकर व्यासhttp://www.nayaindia.com
भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था।आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य।संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

अच्छा नहीं लगा, एक पुण्यात्मा की स्मृति में चंद लोगों को देख कर। वजह? शायद महामारी काल! मतलब मृत्यु काल! वक्त का यह रूप सभी सभ्यताओं में मौत का प्रतिबिंब है। और जब वह सन् बीस-इक्कीस की हकीकत है तो लोग चिंता में जीये, यह स्वभाविक है। उस नाते हिंदी के दोनों शब्द ‘महामारी’ और ‘संक्रमण’ वक्त की सटीक अभिव्यक्ति हैं। इसलिए ऐसे समय व्यक्ति अपनी चिंता करते हुए किसी की मृत्यु के बाद उसकी स्मृति शेष के सामूहिक शोक में शामिल होने से बचा रह सकता है। मसला समझ आता है। बावजूद इसके दिमाग कुलबुलाया कि यदि मृत्यु शोक में लोग न हो, उठावना, गरूड़ पुराण और श्राद्ध क्रिया-कर्म का प्रोटोकॉल और प्रियजनों का संताप नहीं हो तो उस जीवन के साथ क्या अन्याय नहीं होगा, जिसके सानिध्य में, रिश्ते से जीवन हुआ या है! आखिर रिश्तों से ही मानव, मानव है, जीवन है, विश्व है और मनुष्य जीवन का सार। उस नाते सन् बीस का नीच काल रिश्तों को जहां मारता हुआ है वहीं महायुद्धों, विपदाओं से भी ज्यादा खराब। लड़ाई में, विश्वयुद्ध की मौत में मानवीय रिश्तों, संवेदनाओं का कंधा होता है जबकि आज के महामारी काल में संताप बिना कंधों का!

क्या नहीं? महामारी से अकाल मृत्यु और अंतिम सफर बिना कंधों के अकेले! प्रियजन दूर और रिश्तों की बुनावट की भावनाओं व संवेदनाओं में लाचारगी। न जीवन विशेष की सांसों के बस में कुछ और न प्रियजनों के बस में कुछ!

ठीक बात कि महामारी के आगे 21वीं सदी के मानव समाज की सामूहिकता वायरस से निपटने का प्रण लिए हुए है। सामर्थ्य बतलाते हुए है। लेकिन निज जीवन, व्यक्ति और परिवार के अनुभवों में उसका क्या अर्थ?  वह तो बेमौत मौत की अंतिम यात्रा को कंधा देने का साहस भी लिए हुए नहीं। पीड़ा, भावना, संवेदना व्यक्त करना ही जब दूर से है तो गमी में शरीक होने और स्मृतियों से श्रद्वांजलि में जाने का साहस इंसान कहां से लाए? कोई जीवन आईसीयू के आइसोलेशन वार्ड में पहुंचा नहीं कि वह फिर वेंटिलेटर धड़कनों के सुपुर्द। तब मशीनीकृत प्राणवायु को जिजीविषा, भावनाओं का भला क्या सहारा मिलता होगा! सोचें, पिछले साल आईसीयू और वेंटिलेटर की ध़डकनों से जूझते जिन पच्चीस लाख लोगों ने दम तोड़ा उन्हें क्या तो जिजीविषा का बल मिला होगा और डॉक्टरों, नर्सों, अस्पतालकर्मियो से लेकर कब्रिस्तान,चर्च की प्रार्थनाओं में किसका-कितना कंधा था? महामारी में मौत कैसी मशीनीकृत व लावारिस होती है और भावाव्यक्ति और संवेदनाओं का कैसा टोटा बनता है, यह दुनिया में सभी और दिख रहा है। सभी तरफ का लब्बोलुआब बिना रूदाली के मृत्यु और वह भी जैसे पात गिरे तरुवर से!

हां, वर्ष 2020-21 की महामारी में असंख्य फोटो जीवन के अंतिम क्षणों, अंतिम यात्रा के निपट अकेलेपन की असहायता के साथ गुमनामी को बतलाते हुए हैं।

सही है मृत्यु कुल मिला कर अकेले का अंतिम सफर है। जिसकी सांसे खत्म, जो सद्गति प्राप्त हुआ उसे क्या मतलब कि उसके शोक में चंद लोग थे या भीड़? उसकी अकाल मृत्यु हुई या सहज मृत्यु? उसके लिए क्या उठावना, क्या गरूड़ पुराण और क्या श्राद्ध क्रिया-कर्म!  जब तक सांस थी तभी तक तो दिमागी कुलबुलाहट, सोचना-समझना है। फिर तो सब खत्म!  मानव समाज सामूहिकता में जीवन और मृत्यु पर भले सतत विचार करता रहे और उससे वह जीवन को उत्तरोत्तर दीर्घायु बनाने में सफल होता हुआ है लेकिन एक व्यक्ति याकि जीवन विशेष का मृत्यु बाद (पहले भी) विचारना कहां संभव? ज्योंहि अनुभव-स्मृति शेष विलुप्त त्योंहि पेड़ से टूट पड़ा पता! न पेड़ को उस पते का भान और न जग मेले के दर्शनार्थी की बची ऐसी कोई चेतना जो कुछ बूझती हुई हो।  उस नाते क्रियाकर्म के समाज जनित उठावने या शोकाकुलों के स्मृति शेष कार्यक्रमों का मसला कुल मिला कर फिजूली है।

तब क्यों सोचना? इसलिए कि मृत्यु सबसे बड़ा सत्य है। इस सत्य पर सत्यता से विचार न हो तो किस पर हो? कहने वाले कहेंगे शुभ, शुभ सोचो और मृत्यु पर कतई न सोचो! पर महामारी के मृत्यु सत्य पर न सोचें तो फिर मनुष्य होना ही क्या! पते की बात है कि सहज जगदर्शन के चिरंतन जीवन में महामारी वह अनहोना वक्त है, जिस पर जितना सोचेंगे कम होगा। और अपना मानना है कि सन् बीस में मृत्यु, मौत, भय, आंशका पर मानवता ने जितना सोचा है और सोच रही है शायद ही कभी पहले उतना सोचा गया। सोचना सभ्यतागत अलग-अलग जीवन पद्धतियों के अनुसार अलग-अलग हो सकता है लेकिन ‘यम के दूत बड़े मज़बूत, यम से पड़ा झमेला’ पर विचारना सर्वत्र एक सा है।

सब मृत्यु पर सोचते हुए हैं लेकिन सोचने और व्यवहार में फर्क है। अमेरिका और विकसित देशों में जैसे सोचना है वैसा क्या भारत, विकासशील- पिछड़े देशों में है? फर्क मिलेगा। यह फर्क जीने के अंदाज, जीवन पद्धति और बुद्धि के विकास में फर्क के चलते है। महामारी, मृत्यु, यम दूतों को ले कर डर और चिंता एक सी लेकिन व्यवहार में फर्क! भला क्यों और कैसे? जवाब एक ही है। दुनिया दो तरह को लोगों की है। एक हिस्सा सत्यवादी और वैज्ञानिकता के संस्कारों में जीता हुआ है और इसके ठीक विपरीत दूसरा जन समूह वह है जो जन्म से मृत्यु तक झूठ और अवैज्ञानिकता में सांस लेते हुए मूढ़ता में जीवन जीता है। बात फैल गई है। सो, आगे अगले सप्ताह विचार।

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

क्या खुद को फांसी पर लटका ले?

बेंगलुरू। देश की अलग अलग उच्च अदालतों और सर्वोच्च अदालत की ओर से कोरोना वायरस की महामारी और टीकाकरण...

More Articles Like This