• डाउनलोड ऐप
Friday, May 14, 2021
No menu items!
spot_img

वैक्सीन में देशी कंपनियां

Must Read

हरिशंकर व्यासhttp://www.nayaindia.com
भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था।आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य।संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

भारत में भी वैक्सीन की कोशिश चल रही है। भारत बायोटेक, आईसीएमआर और एनआईवी मिलकर वैक्सीन बना रहे है। क्लीनिकल ट्रायल चल रहा है। इसके अलावा जायडस-कैडिला और अरविंदों फार्मा भी वैक्सीन परीक्षण कर रही है। लेकिन भारत की यह कोशिश ज्यादा सार्थक है जो वह दुनिया में इस लॉबिंग में है कि अमेरिकी-योरोपीय कंपनियां जो वैक्सीन बना रही है वे मानवता के तकाजे में बिना पेंटेंट के हो। फाइज़र/बायोएनटेक मॉडर्ना, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका आदि कंपनियां तमाम देशों और कंपनियों को तकनीक-फार्मूला दे कर फ्री में वैक्सीन बनाने दे। यदि ऐसा हो जाए भारत के मजे होंगे। 138 करोड़ आबादी के कारण भारत को इतने अधिक डोज चाहिए कि वह वैक्सीन बनाने की देशी क्षमता का भरपूर उपयोग और विस्तार दोनों कर सकती है। ऐसा हो सकना संभव नहीं लग रहा है। भारत को महंगे दाम पर वैक्सीन खरीदनी होगी। भारत की दवा कंपनियों की वैक्सीन के भरोसे 138 करोड़ लोगों के टीकाकरण का प्रोग्राम नहीं चल सकता है। अपना मानना है कि स्वास्थ्य मंत्री ने जुलाई-अगस्त 2021 तक चालीस-पचास करोड डोज उपलब्ध होने की जो बात कही है उसमें विदेशी कंपनियों से खरीद अधिक होगी। फिर भले वह रूस से खरीदी हुई हो या ब्रितानी कंपनी से।

दिक्कत यह है कि वैश्विक वैज्ञानिकों-मीडिया में फाइज़र/बायोएनटेक मॉडर्ना, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका वैक्सीन की भले धूम हो लेकिन ये भारत की गर्मी, इंफ्रास्ट्रक्चर के अनुकूल नहीं है। ये और इनके साथ रूस की वैक्सीन का भंडारण बहुत कम तामपान में होना चाहिए।। किसी को माइनस 38 सेंटीग्रेड के तापमान में तो किसी को बीस डिग्री से कम तामपान पर। उस नाते सोचा जा रहा है कि एमआरएनए, डीएनए, वायरल वेक्टर आधारित वैक्सीन के बजाय प्रोटीन आधारित वैक्सीन का भारत में टीकाकरण मिशन बन। ऐसे वैक्सीन भी अमेरिका की नौवावेक्स, सेनोपी कंपनियां बना रही है लेकिन इसके रिजल्ट, इसके परीक्षण, मूल्य आदि में फिलहाल सबकुछ अनिश्चित है। तभी अपने यहां कैसी वैक्सीन बनेगी, किस वैक्सीन को चुना जाएगा और उसकी कीमत के फैसले आसान नहीं है। फिलहाल सबकुछ रामभरोसे माना जाए!

- Advertisement -spot_img

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

साभार - ऐसे भी जाने सत्य

Latest News

सत्य बोलो गत है!

‘राम नाम सत्य है’ के बाद वाली लाइन है ‘सत्य बोलो गत है’! भारत में राम से ज्यादा राम...

More Articles Like This