टीकाकरण अभियान में मुश्किल

भारत का संकट 138 करोड आबादी के हिसाब से वैक्सीन की अरबों खुराक-डोजेज खरीदना है। फिलहाल साफ नहीं है कि टीका कितनी अवधि तक वायरस को रोकने-खत्म रखने में कारगर होगा? छह महिने-साल-डेढ साल ही टीका प्रभावी रहा तो अमेरिका-योरोप जैसे विकसित देशों में लगातार टीकाकरण-एकसाथ टीकाकरण का इंफ्रास्ट्रक्चर बनाना भले संभव हो मगर भारत में क्या यह संभव है?  तब कैसा महंगा होगा?

भारत का प्रमुख मसला यह है कि हम 2021 व 2022 में वैक्सीन के कितने करोड डोज खरीद सकेंगे? क्या पूरी आबादी के अनुसार खरीद की जा सकते है? नहीं। इसलिए कि फिलहाल वैश्विक पैमाने पर वैक्सीन निर्माण, एडवांस खरीद के हुए सौदों की जो रिपोर्ट है उसमें वॉल स्ट्रीट जरनल की एक रिपोर्ट के अनुसार अमीर और मध्य आय के देशों ने वैक्सीन निर्माता कंपनियों के साथ एडवांस में जो सौदे किये है उसकी सप्लाई मैन्यूफैक्चरर सन् 2021 के आखिर तक पूरी कर पाएंगे। इन देशों ने 3.8 बिलियन डोज का आर्डर दिया है। भारत ने 1.5  बिलियन डोज खरीद का आर्डर दिया है। पर यह अमेरिका-योरोप या दूसरे देशों की प्राथमिकता से पहले भारत को मिलेगा या भारत का आर्डर रूस की स्पूतनिक जैसी वैक्सीन के भरोसे है, यह स्पष्ट नहीं है। फिलहाल इतना ही कह सकते है कि जैसे भारत सरकार ने पिछले नौ महिनों में टेस्टींग के नाम पर रैपिड टेस्ट कीट से हल्ला बनाया वैसा आगे वैक्सीन के मामले में भी संभव है। यदि रूस से निर्मित स्पूतनिक या चीन में बनी रही वैक्सीन के भरोसे अपना टीकाकरण का कार्यक्रम बना तो मामला अलग बनेगा।

आने वाले महिनों में यह बवाल भारी होगा कि कौनसी वैक्सीन ज्यादा प्रभावी है? रूस, चीन सहित दुनिया के कई देशों में हौड है। एक रिपोर्ट अनुसार वैक्सीन विकास की 150 कोशिशे अलग-अलग चरण में है। भारत में भी यह काम हो रहा है तो ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन यदि पूणे की फर्म सीरम इंस्टीट्यूट से जल्दी मिलना शुरू हो जाए और उससे यदि दस करोड डोज से बी टीकाकरण काम शुरू हो तो पूरे प्रोग्राम की एक दिशा बनेगी। मतलब क्वालिटी आधार पर वैक्सीन का फैसला हो सकेगा। किस तकनीक ( रूस की स्पूतनिक, ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका, मोडर्ना, फाइजर की वैक्सीनों में तकनीक, सुरक्षा, डोज के असर की अवधि, वैक्सीन के संग्रहण, कब-कब डोज, कीमत आदि के फर्क है।), को अपनाएगें, उसमें सस्ते-आसानी का जुगाड़ होगा या क्वालिटी का, यह जून-जुलाई 2021 तक ही स्पष्ट हो पाएगा।

तभी वैक्सीन टीकाकरण का रोडमैप बनना महिनों बाद की बात है। अमेरिका, योरोप, चीन, जापान जैसे विकसित देश पहले नार्मल-सामान्य होने के कगार पर पहुंचे तब संभव होगा यह सोचना कि भारत सन् 2022 में या 2023 या कब इतना सामान्य बनेगा जो विदेशी पर्यटक वापिस भारत घूमने आने लगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares