nayaindia democracy लोकतंत्र की मंडी में सब कुछ बिकाऊ!
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप| नया इंडिया| democracy लोकतंत्र की मंडी में सब कुछ बिकाऊ!

लोकतंत्र की मंडी में सब कुछ बिकाऊ!

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक बार बड़े गर्व से बताया था कि वे गुजराती हैं और उनकी नस नस में बिजनेस है। सो, अब देश में हर चीज बिजनेस है। हर चीज को खरीद-फरोख्त के नजरिए से देखा जा रहा है। हर चीज की एक कीमत है। लोकतंत्र एक मंडी बना हैं, जहां हर चीज बिकने के लिए उपलब्ध है। किसी की कीमत कम है किसी की ज्यादा है। किसी ने सही कहा है कि लालची के गांव में ठग भूखे नहीं मरते। इस देश के लोगों की लालच बेमिसाल है। जो अधिकारी 35-40 साल तक सरकारी नौकरी करता है, ठसके से राज करता है उसे भी एक-दो साल अतिरिक्त नौकरी चाहिए होती है। इस एक-दो अतिरिक्त साल के लालच में वह सारे धतकरम करता है। नौकरी में रहते हुए वह अपने आका के सामने सिर झुकाए रखता है और आंख मूंद कर हर आदेश मानता है ताकि उसे रिटायर होने के बाद साल-दो साल और नौकरी में बने रहने का मौका मिल जाए।

नौकरी से मन भर गया है और राजनीति में जाकर ‘सेवा’ करनी है तो उसके लिए भी दरवाजे खुले हैं। नौकरी में रहते आका को खुश करो और फिर टिकट लेकर चुनाव में उतर जाओ। सोचें, उत्तर प्रदेश में ऐसे कितने ‘लोक सेवक’ नौकरी छोड़ कर जनता की सेवा के लिए चुनाव मैदान में उतरें हैं। उन्होंने नौकरी में रहते कितने ‘पुण्य कर्म’ किए होंगे, जो इतना बड़ा मौका मिला! आप आईपीएस अधिकारी हैं और दलितों में उस जाति से आते हैं, जिस जाति से मायावती आती हैं तब तो आपके लिए सोने पर सुहागा मौका है। आप प्रदेश के मुखिया की जाति से आते हैं तब भी आपके लिए बहुत मौका है और अगर आप देश के प्रधान के प्रदेश में सेवा दे चुके हैं तब तो आपके लिए मौका है ही। सोचें, कितनी छोटी कीमत है?

नेताओं की कीमत तो और दो कौड़ी की हो गई है। उनकी तो पूरी मंडी सजी हुई है और देश की सत्तारूढ़ पार्टी और उसके खरीदे हुए चैनल शान से बताते हैं कि जीते कोई सरकार तो भाजपा की ही बनेगी। अभी जिन पांच राज्यों में चुनाव हो रहा है उन्हीं में से दो राज्यों में पिछले चुनाव में कांग्रेस जीती थी लेकिन सरकार भाजपा की बनी थी। गोवा में 21 सीट से घट कर भाजपा 12 सीट पर आ गई थी और कांग्रेस ने 17 सीटें जीती थीं लेकिन सरकार भाजपा ने बनाई। बाद में कांग्रेस के 17 में से 15 विधायक भाजपा में चले गए। कैसे चले गए, उसे मास्टरस्ट्रोक बताने के नैरेटिव से अलग हट कर सोचेंगे तब पता चलेगा कि भारतीय राजनीति का कैसा पतन हुआ है। कांग्रेस और दूसरी पार्टियां छोड़ने वालों में से दो-चार को ही मंत्री पद मिला, बाकी किस लालच में गए यह कहने की जरूरत नहीं है। इसी तरह मणिपुर में कांग्रेस 28 सीटों पर जीती थी और भाजपा 21 सीट पर लेकिन सरकार भाजपा ने बनाई और कांग्रेस के अनेक विधायक भाजपा में चले गए।

five state election 2022

Read also जाट लड़े, जिताए और रोए भी!

जीते कोई सरकार तो भाजपा की बनेगी, इस जुमले की कथा अनंत है। कर्नाटक में कांग्रेस और जेडीएस के विधायकों को अपने साथ मिला कर भाजपा ने सरकार बनाई। कांग्रेस और जेडीएस छोड़ने वाले सारे विधायक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश सेवा की प्रेरणा से भाजपा में गए। इसी प्रेरणा से मध्य प्रदेश में भी कांग्रेस के करीब दो दर्जन विधायक भाजपा में चले गए और सरकार भाजपा की बन गई। सोचें, बदले में किसको क्या मिला? यह इस बात की मिसाल है कि कितनी कम कीमत चुका कर कितना कुछ हासिल किया जा सकता है। एक राज्यसभा की सीट और एक मंत्री पद, राज्य में सरकार बनवा सकता है।

लोकतंत्र की मंडी में सिर्फ अधिकारी और नेता ही सज-संवर कर नहीं बैठे हैं कि उनकी कीमत लगाई जाए। मीडिया भी है। आज मीडिया की स्थिति ऐसी है कि कोई नेता किसी पत्रकार को ईमानदार कह देता है तो वह भड़क जा रहा है। किसी को निष्पक्ष बता देता है तो वह इसे अपने लिए अपमानजनक मानता है। चोर की दाढ़ी में तिनका पहले सुना जाता था, अब चैनलों पर दिख रहा है। अखिलेश यादव ने एक पत्रकार को ईमानदार कह दिया तो वह पत्रकार ऐसे भड़की जैसे उसका इससे बड़ा अपमान नहीं हो सकता। ‘मोर लॉयल दैन द किंग’ का मुहावरा भी पहले सुना था लेकिन अब चैनलों में दिख रहा है। चैनल और उनके पत्रकार भाजपा नेताओं से ज्यादा समर्पित हो गए हैं। इसकी क्या कीमत चुकाई गई होगी? थोड़े से विज्ञापन और केंद्रीय एजेंसियों से राहत!

Tags :

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published.

twenty + 3 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
अकाली और जेडीएस का द्रौपदी मुर्मू को समर्थन
अकाली और जेडीएस का द्रौपदी मुर्मू को समर्थन