आजादी ने भय पैदा किया

बड़ी बिडंबना है कि साहस और निर्भयता के साथ अंग्रेजों से लड़ कर आजाद हुए भारत के लोग आजादी के सबसे चरम सुख- निर्भयता या साहस का बहुत कम समय तक आनंद ले सके। बहुत जल्दी देश के नाम पर, लोकतंत्र के नाम पर, नेता के नाम पर, विकास के नाम पर उनकी आजादी को और उनकी निर्भयता को सीमित किया जाने लगा। संभवतः इस बात को समझ कर ही आजादी के तुरंत बाद देश के समाजवादी नेता जुलूस निकालते थे और नारे लगाते थे कि ‘यह आजादी झूठी है’।

आजादी के तुरंत बाद का एक किस्सा कई जगह पढ़ने को मिलता है कि एक सभा में किसी ने प्रधानमंत्री नेहरू को पकड़ लिया और पूछा कि इस आजादी से उसे क्या मिला? इस पर नेहरू का जवाब था कि आप मुझे पकड़ कर यह सवाल पूछ रहे हैं यह अपने आप में बड़ा हासिल है। नेहरू ने सही कहा था कि यह आजादी का बहुत बड़ा हासिल था कि लोग अपने चुने हुए सर्वोच्च प्रतिनिधि से सवाल पूछ सकते थे। अंग्रेजों के राज में और उससे पहले सैकड़ों वर्षों तक मुगलों, तुर्कों के राज में या उससे भी पहले हिंदू राजाओं के शासन में भी प्रजा को यह अधिकार नहीं था कि वह राजा से सवाल पूछे।

यह अधिकार आजादी और लोकतंत्र ने भारत को दिया। पर कितने समय तक? कितने समय तक लोगों को यह अधिकार रहा कि वे साहस के साथ सवाल पूछ सकें और जवाब भी हासिल कर सकें? बहुत जल्दी लोगों का यह अधिकार या तो सीमित कर दिया गया या छीन लिया गया और आज यह स्थिति यह है कि सवाल पूछना देशद्रोह की श्रेणी में आ गया है। प्रधानमंत्री को छोड़िए किसी छोटे-मोटे लोक सेवक से आप सवाल नहीं पूछ सकते हैं। थाने का मामूली सिपाही किसी भी व्यक्ति को अपनी मर्जी से पकड़ सकता है और अगर पकड़े जाने वाले गलती से पूछ दिया कि उसे क्यों पकड़ा गया तो यह उस सिपाही की शान में गुस्ताखी हो जाती है। वह इस गुस्ताखी के लिए इस आजाद देश की किसी भी नागरिक को सरेराह पीट सकता है।

दुनिया के दूसरे सभ्य और विकसित देशों में लोग बाहर निकलते हैं तो उनके दिमाग में यह बात होती है कि बाहर पुलिस उनकी रक्षा करेगी। वहां किसी भी मुसीबत के समय लोग पुलिस के पास जाते हैं पर भारत में बचपन से सिखाया जाता है कि पुलिस से दूर रहना है। लोग थाने में जाते हुए डरते हैं कि कहीं पुलिस उसे ही किसी आरोप में न बंद कर दे। भारत दुनिया का संभवतः इकलौता देश होगा, जहां किसी हादसे के बाद घायलों को अस्पताल पहुंचाने वाले को पुलिस घंटों पूछताछ के बहाने बैठाए रखती है। लोग डर के मारे घायलों की मदद नहीं करते हैं। लोगों का डर खत्म करने के लिए पुलिस को और सरकारों को यह प्रचार करना पड़ा है कि घायलों को अस्पताल पहुंचाने वालों को परेशान नहीं किया जाएगा। किसी सभ्य समाज में डर का ऐसा माहौल हो सकता है कि लोग घायलों को अस्पताल न पहुंचाएं या लोग अपनी शिकायत लेकर पुलिस के पास न जाएं? यह कैसी आजादी मिली, जो हर आदमी डरा हुआ है। अपनी ही पुलिस से, अपनी ही अदालतों से, अपनी ही सरकार और चुने हुए प्रतिनिधियों से!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares