लोगों पर भी फोड़ेंगे ठीकरा

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, एम्स के रणदीप गुलेरिया ने गुरुवार को कई बातें ऐसी कहीं, जिनसे भविष्य का अंदाजा लग रहा है। इसमें खासतौर से गौर करने वाली एक बात उन्होंने कही। गुलेरिया ने कहा कि लॉकडाउन से भारत को फायदा हुआ है, इससे संक्रमण की रफ्तार कम हुई और मेडिकल तैयारियों के लिए वक्त मिला। इसके आगे उन्होंने कहा कि लॉकडाउन का ज्यादा फायदा मिला होता, अगर लोग ज्यादा नियंत्रण में रहते। वैसा न होने का नतीजा है कि आज देश में 56 हजार मामले हैं। गुलेरिया ने यह बात अनायास नहीं कही है। यह आगे की तैयारी का हिस्सा है। मोदी सरकार के लंगूरों में आगे आम जनता को बलि का बकरा बनाने की तैयारी चल रही है।

अगर आप ध्यान से देखेंगे तो ऐसा प्रयास पहले दिन से होता दिखाई देगा। याद करें कैसे मार्च के आखिरी हफ्ते में प्रशासन से लेकर सोशल मीडिया के लंगूरों ने तबलीगी जमात को जिम्मेदार ठहराया था। यह नैरेटिव बनाया कि सारी गलती तबलीगी जमात की है। अगर वे नहीं होते तो देश में कोरोना वायरस फैलता ही नहीं। इसका नतीजा यह हुआ कि पूरे देश में नफरत और हिंसा का माहौल बना। अस्पतालों में मारपीट की झूठी-सच्ची खबरें आईं और डॉक्टरों, स्वास्थ्यकर्मियों और पुलिस के ऊपर हमले की भी खूब कहानियां दिखाई गईं। धीरे धीरे उनका मामला थम गया। करीब चार हजार तबलीगी जमात के लोग इलाज के लिए अस्पताल भेजे गए थे या क्वरैंटाइन किए गए थे। वे अब ठीक हो गए हैं और उनको छोड़ा जा रह है। इसके बावजूद देश में बड़ी तेजी से मामले बढ़ रहे हैं तो किसे जिम्मेदार ठहराया जाएगा?

उसके लिए आम जनता को बकरा बनाया जा रहा है और इसलिए लॉकडाउन में छूट दी गई है। नहीं तो क्या कारण था कि जब मामले कम थे तब प्रधानमंत्री हाथ जोड़ कर लोगों से घरों में रहने की अपील कर रहे थे या ट्विट करके राज्य सरकारों को निर्देश दे रहे थे कि वे लॉकडाउन सख्ती से लागू करें और अब अचानक लॉकडाउन हटाया जाने लगा, जबकि मामले बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं? कोरोना संक्रमण की संख्या बढ़ने के बावजूद लॉकडाउन खोलने का एक कारण तो यह हो सकता है कि आर्थिकी संकट में है। पर सिर्फ यहीं कारण नहीं है।

यह भी सोचने की बात है कि पहले जब दो बार लॉकडाउन के बारे में घोषणा खुद प्रधानमंत्री ने की तो तीसरी बार वे घोषणा करने क्यों नहीं आए। उन्होंने दो हफ्ते लॉकडाउन बढ़ाने की घोषणा नहीं की। सिर्फ गृह मंत्रालय ने एक आदेश जारी कर दिया। इसमें दो हफ्ते लॉकडाउन बढ़ाने का ऐलान था पर साथ ही देश को तीन जोन में बांट कर लॉकडाउन की शर्तों में छूट देने की भी बात थी। अब लोग लॉकडाउन में छूट के मजे ले रहे हैं। बिना यह सोचे समझे कि उनके बाहर निकलने का क्या दुष्परिणाम हो सकता है। लेकिन देश की मेडिकल रणनीति बनाने वालों और राजनीतिक नेतृत्व को पता है कि इस समय जबकि संक्रमण का मामला तेजी से बढ़ रहा है, अगर लॉकडाउन में छूट दी गई तो उसका क्या दुष्परिणाम हो सकता है। इसके बावजूद जान-बूझकर छूट दी गई है तो यह किसी साजिश का हिस्सा लगता है।

वैसे भी इस समय देश में रमजान का महीना चल रही है। ऊपर से सरकारों ने लॉकडाउन में कई तरह की छूट दे दी है और कई किस्म की दुकानें भी खोल दी हैं। सो, ईद आते आते बड़ी संख्य में लोग खरीदारी के लिए निकलेंगे। अल्पसंख्यकों के अलावा दूसरे लोगों को भी कार्यालय जाना है या खरीदारी करनी है। ध्यान रहे सरकारी दफ्तर सौ फीसदी खुल गए हैं और निजी दफ्तरों में भी 33 फीसदी उपस्थिति के साथ कामकाज हो रहा है। सो, तय मानें कि इन सब जगहों पर नए मामले आएंगे। उसके बाद जब सरकार के हाथ खड़े करने की बारी आएगी तो कह दिया जाएगा कि लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का पालन नहीं किया, लॉकडाउन का उल्लंघन किया या ईद की खरीदारी में भीड़ जुटाई, जिसकी वजह से मामले बढ़ गए हैं।

One thought on “लोगों पर भी फोड़ेंगे ठीकरा

  1. एकबात तो शत प्रतिशत सही है कि आमतौर पर लाकडाउन का पालन जैसे करना चाहिए था वैसा नहीं हो पाया है और इस ढिलाई का परिणाम भी लाकडाउन का उपहास उडाने वाले लोगों को ही भोगना होगा आप भी उचित ढंग से मामले को गंभीरता से नहीं रख रहे हैं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares