हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया| pm modi arvind kejriwal उद्धव और केजरीवाल की पौ बारह!

उद्धव और केजरीवाल की पौ बारह!

arvind kejriwal aap party

गुजरात, कर्नाटक, उत्तराखंड में मुख्यमंत्रियों को ताश के पते की तरह फेंटने से भाजपा के तमाम मुख्यमंत्रियों की इमेज का जैसा भट्ठा बैठा है और कांग्रेस जिस दशा में है उससे अपने आप क्षेत्रीय दलों के मुख्यमंत्री चमकने लगे हैं। इस चर्चा का असर मामूली नहीं हुआ होगा कि सूरत में आप पार्टी के कमाल से नरेंद्र मोदी ने पटेल वोटों की चिंता में विजय रुपाणी को बदलने का फैसला किया। गुजरात में भाजपा सरकार फेल, उसका मुख्यमंत्री नाकारा, अलोकप्रिय नतीजतन प्रधानमंत्री मोदी को फैसला लेना पड़ा। pm modi arvind kejriwal

इसके सियासी अर्थ और असर में तय मानें कि भाजपा में अब सभी प्रदेश नेता निराकार, बिना जनाधार के रहेंगे। मतलब गुजरात में बतौर मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी ने जैसे राष्ट्रीय स्तर पर लोकप्रियता पाई और भविष्य का नेतृत्व बना वैसा भाजपा में कोई मुख्यमंत्री नहीं। इससे राष्ट्रीय राजनीति के मायनों में बाकी पार्टियों के मुख्यमंत्रियों का ग्राफ अपने-आप ऊंचाई पा रहा है। उनका मौका बन रहा है। इसे अरविंद केजरीवाल ने बखूबी समझा है। पंजाब, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, गोवा और इसके आगे के गुजरात चुनाव के लिए केजरीवाल ने जो ताना बाना बनाया है और यदि पंजाब में भाग्य से आप पार्टी जीती तो तय मानें सन् 2024 के चुनाव में अरविंद केजरीवाल की चुनौती भी नरेंद्र मोदी के आगे गंभीर होगी।

यह भी पढ़ें: गुजरात का जुआ हार वाला!

हां, इस आकलन को हल्के में न लें। केजरीवाल ने तिरंगा उठा कर राष्ट्रवादी हिंदू का जो चोगा पहना है, दिल्ली में सस्ती बिजली-पानी की स्थायी पूंजी, अयोध्या से यूपी का चुनाव प्रचार शुरू कराना, उत्तराखंड को देव-अध्यात्म भूमि व सस्ते बिजली-पानी का वादा और पंजाब में सोनू सूद आदि के जरिए प्रचार हल्ले का रोडमैप अरविंद केजरीवाल की संभावनाओं वाला है। केजरीवाल आम हिंदू जन में हिंदू होने का मैसेज पक्का बना दे रहे हैं। उस नाते आप पार्टी को अब ‘हिंदूजन आप’ पार्टी कह सकते हैं। मतलब आम जनता के सस्ते बिजली-पानी के साथ तिरंगा उठाए हिंदुओं की पार्टी। यह ‘हिंदूजन पार्टी’ कांग्रेस के वोट खाते हुए है तो दूसरी ओर उद्धव ठाकरे व शिव सेना खाटी हिंदुओं के पुराने रूप में ‘समावेशी हिंदू पार्टी’ के नाते मोदी-भाजपा विरोधी हिंदुओं के दिल-दिमाग में पैठ रही है। उत्तर भारत के सियासी कार्यकर्ताओं में माना जाने लगा है कि भाजपा के मुख्यमंत्रियों के मुकाबले उद्धव ठाकरे की सरकार कई गुना बेहतर है। गुजरात के ठीक विपरीत कोरोना महामारी और मुंबई जैसे सुपर महानगर में ठाकरे सरकार ने कोरोना महामारी का सामना अधिक संजीदगी, ईमानदारी और पारदर्शिता से किया। झूठ नहीं बोला। फिर सबसे बड़ी बात कि अयोध्या में बाबरी मस्जिद को ढहाने की खुले आम जिम्मेवारी लेते हुए भी उद्धव ठाकरे एनसीपी, कांग्रेस और मुंबई के मुसलमानों का भी विश्वास बनाते हुए समावेशी राज कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें: मोदी के चेहरे पर सारी राजनीति

यह भी पढ़ें: क्षत्रपों के लिए राज्यों में मौका

हां, एक समझदार एक्टिविस्ट से मुझे यह तर्क मिला कि यदि सन् 2024 के चुनाव में प्रशांत किशोर विपक्षी पार्टियों में परोक्ष तालमेल बनवा उसके कई विकल्पों में एक विकल्प उद्धव ठाकरे की चर्चा करवा दें तो नरेंद्र मोदी के आगे अपने आप हिंदुवादियों में भी उद्धव ठाकरे को हताश-निराश हिंदूवादी वोट देंगे। मतलब 2024 के लोकसभा चुनाव में यदि मोदी विरोधी हिंदू वोटों के एकजुट वोट डलवाने हैं तो दिल्ली में ‘हिंदूजन आप पार्टी’ और बाकी जगह उद्धव ठाकरे और उनकी ‘समावेशी हिंदुवादी शिवसेना’ से नरेंद्र मोदी और हिंदुत्ववादी भाजपा को जोरदार टक्कर मिलेगी।

पता नहीं ऐसा होगा या नहीं, इतना तय है कि उद्धव ठाकरे और केजरीवाल को ले कर हिंदू वोटों में कौतुक बढ़ता जा रहा है!

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

View all of हरिशंकर व्यास's posts.

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

देश

विदेश

खेल की दुनिया

फिल्मी दुनिया

लाइफ स्टाइल

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
UP चुनावों से पहले Congress को जोरदार झटका, Priyanka के सलाहकार के साथ प्रदेश उपाध्यक्ष ने पार्टी से तोड़ा नाता