nayaindia new twist in mahakal महाकाल में नया मोड़
हरिशंकर व्यास कॉलम | गपशप | बेबाक विचार| नया इंडिया| new twist in mahakal महाकाल में नया मोड़

महाकाल में नया मोड़

उफ! उदयपुर में सर कलम की बर्बरता। राजस्थान और उसमें भी गुजरात से सटे मेवाड़ का उदयपुर! मै इस इलाके का पोर-पोर जानता हूं। इसलिए कह सकता हूं कि मेवाड़ शांति और सांप्रदायिक सौहार्द में बेजोड़ है। बावजूद इसके उदयपुर से जुनून की वैश्विक खबर बनना। तय मानें अब भारत उस स्पेस के बिना है, जिसमें दो समुदाय आपसी विश्वास से बैठ कर समझदारी की बातें कर पाएं। 27 जून 2022 की घटना महाबुरे वक्त का वह मोड़ है, जिससे भारत में विकल्पहीनता बढ़ेगी। आर-पार की राजनीति होगी। लोकतंत्र पंगु होगा। देश का नैरेटिव और जाहिल बनेगा। जिस जहालत-काहिली में दो मुसलमानों ने कन्हैया की गला काट कर हत्या की है वह आम मनोदशा का मुख्य व्यवहार होगा।

यों मैं लगातार लिखता आ रहा हूं कि भारत अब हिंदू बनाम मुस्लिम की इतिहास ग्रंथि में ऑटो मोड पर है। राजा और प्रजा दोनों ऑटो मोड में स्वयंस्फूर्त पानीपत की लड़ाई का मैदान तैयार करते हुए हैं। आखिर जब लड़ाई से ही वोट, सत्ता और विचारधारा विशेष की एक पार्टी की एकछत्रता का संकल्प है तो अपने आप वह सब बढ़ता हुआ होगा जो हालिया होता आया है।

पर अब खौफनाक मोड़ जहालत-काहिली का है। इसका असर क्या होगा? भाजपा का हिंदू वोट प्रतिशत जंप मारेगा। देश का नैरिटव और जाहिल बनेगा। हिंदू-मुस्लिम को छोड़ कर बाकी तमाम हालातों, मुद्दों और समस्याओं की राजनीति खत्म है। आगे के विधानसभा चुनाव हों या लोकसभा चुनाव, वे विरोधी दलों के लिए लड़ सकना और मुश्किल हैं।

मोटी बात नफरत, भय, आतंक और बदले की मनोदशा घर-घर बन रही है। इस मौन मानसिक परिवर्तन में दिमाग जहालत-काहिली की बातें करता हुआ है। यह सिलसिला रूक या खत्म इसलिए नहीं हो सकता है क्योंकि इसे हवा देने वाले नेताओं, फ्रिंज तत्वों और राजनीति की कमी नहीं है। क्या यह सब किसी ग्रैंड डिजाइन में है या इस नाते अपने आप है कि जो लड़ाई, जो संघर्ष 25-50 साल बाद होना था वह जल्द हो तो डिजाइन का होना या न होना बेमतलब है। भारत का इतिहास ही ऐसा है, जिसमें हिंदू बनाम मुस्लिम का द्वंद्व स्थायी है और उसके कारण प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा उसके स्वाभाविक लाभार्थी हैं। वे वक्त के बादशाह हैं!

सवाल है क्या उदयपुर की घटना से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा नेता और संघ परिवार में कोई विचार मंथन होगा? अवश्य हो रहा होगा। घटना ही ऐसी है, जिससे प्रधानमंत्री और सरकार के स्तर पर मुस्लिम देशों और पश्चिमी देशों के साथ निजी कूटनीति में बहुत कुछ कहा जा सकता है तो पार्टी और संघ परिवार के लिए नैरेटिव का नया मसाला बनता है। उस नाते प्रधानमंत्री मोदी की यूएई की यात्रा और वहा के शेख को भाईजान का संबोधन मामूली बात नहीं है। उधर महाराष्ट्र में एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बना कर उद्धव ठाकरे के हिंदू पार्टी स्पेस को खत्म करना भी भारी दांव है।

Tags :

By हरिशंकर व्यास

भारत की हिंदी पत्रकारिता में मौलिक चिंतन, बेबाक-बेधड़क लेखन का इकलौता सशक्त नाम। मौलिक चिंतक-बेबाक लेखक-बहुप्रयोगी पत्रकार और संपादक। सन् 1977 से अब तक के पत्रकारीय सफर के सर्वाधिक अनुभवी और लगातार लिखने वाले संपादक।  ‘जनसत्ता’ में लेखन के साथ राजनीति की अंतरकथा, खुलासे वाले ‘गपशप’ कॉलम को 1983 में लिखना शुरू किया तो ‘जनसत्ता’, ‘पंजाब केसरी’, ‘द पॉयनियर’ आदि से ‘नया इंडिया’ में लगातार कोई चालीस साल से चला आ रहा कॉलम लेखन। नई सदी के पहले दशक में ईटीवी चैनल पर ‘सेंट्रल हॉल’ प्रोग्राम शुरू किया तो सप्ताह में पांच दिन के सिलसिले में कोई नौ साल चला! प्रोग्राम की लोकप्रियता-तटस्थ प्रतिष्ठा थी जो 2014 में चुनाव प्रचार के प्रारंभ में नरेंद्र मोदी का सर्वप्रथम इंटरव्यू सेंट्रल हॉल प्रोग्राम में था। आजाद भारत के 14 में से 11 प्रधानमंत्रियों की सरकारों को बारीकी-बेबाकी से कवर करते हुए हर सरकार के सच्चाई से खुलासे में हरिशंकर व्यास ने नियंताओं-सत्तावानों के इंटरव्यू, विश्लेषण और विचार लेखन के अलावा राष्ट्र, समाज, धर्म, आर्थिकी, यात्रा संस्मरण, कला, फिल्म, संगीत आदि पर जो लिखा है उनके संकलन में कई पुस्तकें जल्द प्रकाश्य। संवाद परिक्रमा फीचर एजेंसी, ‘जनसत्ता’, ‘कंप्यूटर संचार सूचना’, ‘राजनीति संवाद परिक्रमा’, ‘नया इंडिया’ समाचार पत्र-पत्रिकाओं में नींव से निर्माण में अहम भूमिका व लेखन-संपादन का चालीस साला कर्मयोग। इलेक्ट्रोनिक मीडिया में नब्बे के दशक की एटीएन, दूरदर्शन चैनलों पर ‘कारोबारनामा’, ढेरों डॉक्यूमेंटरी के बाद इंटरनेट पर हिंदी को स्थापित करने के लिए नब्बे के दशक में भारतीय भाषाओं के बहुभाषी ‘नेटजॉल.काम’ पोर्टल की परिकल्पना और लांच।

Leave a comment

Your email address will not be published.

four × 4 =

ट्रेंडिंग खबरें arrow
x
न्यूज़ फ़्लैश
सोनिया फिर संक्रमित, कोरोना बढ़ा
सोनिया फिर संक्रमित, कोरोना बढ़ा