वैक्सीन के असर के सवाल

वैक्सीन के असर को लेकर अलग रहस्य है। भारत सरकार के स्वास्थ्य मंत्रालय, नोडल एजेंसी आईसीएमआर और ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के अधिकारी प्रेस कांफ्रेंस करके बता चुके हैं वैक्सीन प्रभावी है, पूरी तरह से सुरक्षित है और इसका साइड इफेक्ट नगण्य है। हालांकि वैक्सीन बनाने वाली दोनों कंपनियों के बीच जुबानी जंग छिड़ी थी तब दोनों ने एक दूसरे की पोल खोली थी। अब खुद सीरम इंस्टीच्यूट ने एक फैक्ट शीट जारी की है, जिसमें उसने इसके साइड इफेक्ट्स की जानकारी दी है। उसने बताया है कि 10 फीसदी लोगों को साइड इफेक्ट महसूस हो सकता है। हालांकि भारत बायोटेक के प्रमुख कृष्णा एल्ला ने प्रेस कांफ्रेंस करके कहा था कि 10 फीसदी साइड इफेक्ट उनकी वैक्सीन में है और दूसरों की यानी सीरम की वैक्सीन में साइड इफेक्ट 60-70 फीसदी है। बाद में आनन-फानन में चमत्कारिक अंदाज में दोनों में सुलह हो गई, लेकिन उनकी बात तो अपनी जगह है!

बहरहाल, सीरम की ओर से फैक्ट शीट के मुताबिक 10 फीसदी लोगों को ठंड, बुखार, तेज बुखार सरदर्द, जोड़ों में दर्द, गले में खराश, थकान, वैक्सीन लगाने की जगह पर दर्द, सूजन आदि हो  सकता है। इसी फैक्ट शीट के मुताबिक एक फीसदी लोगों को असामान्य लक्षण दिख सकते हैं। जैसे वैक्सीन लगाने की जगह पर गांठ पड़ना, पेट दर्द, चक्कर आना, भूख नहीं लगना, शरीर पर चकत्ता या दाग होना आदि। अब सवाल है कि परीक्षण के दौरान इन साइड इफेक्ट्स पर क्यों नहीं चर्चा हुई? अगर इतने साइड इफेक्ट्स हैं तो भारत सरकार के अधिकारी इसे नगण्य कैसे बता रहे हैं?

सोचें, इसी ऑक्सफोर्ड-एस्ट्राजेनेका की वैक्सीन का जब ब्रिटेन में ट्रायल चल रहा था और एक वालंटियर ने किसी समस्या की शिकायत की थी तो इसका ट्रायल रोक दिया गया था। लेकिन भारत में क्या हुआ? भारत में एक वालंटियर ने मानसिक समस्या होने की शिकायत की तो कंपनी ने उसके खिलाफ करोड़ों रुपए का दावा ठोक दिया और चुप करा दिया। इसी तरह भारत बायोटेक की एक वैक्सीन से जुड़ा वालंटियर वैक्सीन लेने के नौ दिन बाद मर गया तो तीन घंटे में जांच करके कंपनी को क्लीन चिट दे दी गई। कहा गया कि उसकी मौत का वैक्सीन से कोई संबंध नहीं है। यह वैक्सीन, जिसे लगाने वाले वालंटियर की मौत हुई है, उसे भी भारत में इस्तेमाल की मंजूरी दे दी गई है, जबकि इसके तीसरे चरण के परीक्षण का डाटा ही नहीं आया है। यह भारत में ही संभव है। इसका असर कितना होगा यह भी रहस्य है। इसकी सीमा 70 से 94 फीसदी तक बताई जा रही है। वैसे भारत में 99 फीसदी से ज्यादा लोगों को कोरोना नहीं हुआ है और जिन एक फीसदी को हुआ उसमें भी 98 फीसदी लोग ठीक हो गए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Shares