Loading... Please wait...

'कैश फॉर क्वेरी' में 11 पूर्व सांसदों पर चलेगा मुकदमा

नई दिल्ली। दिल्ली की एक अदालत ने 2005 के सवाल के बदले नकद घोटाला मामले में 11 पूर्व सांसदों पर भ्रष्टाचार और आपराधिक षड्यंत्र के आरोप तय किए। यह मुकदमा 12 जनवरी से शुरू होगा।

विशेष न्यायाधीश किरन बंसल ने 11 पूर्व सांसदों और एक अन्य व्यक्ति पर मुकदमा चलाने के आदेश दिए। यह मुकदमा 12 जनवरी से शुरू होगा। इस मामले में तत्कालीन सांसद वाई जी महाजन (भाजपा), छत्रपाल सिंह लोढा (भाजपा), अन्ना साहेब एम के पाटिल (भाजपा), मनोज कुमार (राजद), चंद्र प्रताप सिंह (भाजपा), राम सेवक सिंह (कांग्रेस), नरेन्द्र कुमार कुशवाहा (बसपा), प्रदीप गांधी (भाजपा), सुरेश चंदेल (भाजपा), लाल चंद्र कोल (बसपा) और राजा रामपाल (बसपा) को आरोपी बनाया गया है।

दो पत्रकारों ने तत्कालीन सांसदों के खिलाफ एक स्टिंग ऑपरेशन किया गया था जो 12 दिसंबर 2005 को एक निजी समाचार चैनल पर प्रसारित हुआ था। यह स्टिंग जिसमें संसद में सवाल पूछने के बदले में नकद लेने की बात सामने आई, इसे सवाल के बदले नकद घोटाला के नाम से जाना जाता है।

दिसंबर 2005 में लोकसभा ने 10 सदस्यों को निष्काषित कर दिया था जबकि लोढा को राज्य सभा से हटाया गया था।

अभियोजन पक्ष ने अपनी दलीलों के सर्मथन में सीडी और डीवीडी पेश की जिसमें आरोपियों और अन्य के बीच हुई बातचीत कैद है।

विशेष लोक अधिवक्ता अतुल श्रीवास्तव ने बताया कि अदालत ने रामपाल के तत्कालीन निजी सहायक रविंद्र कुमार के खिलाफ भी आरोप तय किए हैं। एक अन्य आरोपी विजय फोगाट के खिलाफ कार्वाई नहीं हुई क्योंकि उसकी मौत हो चुकी है। फोगाट ने इस मामले में कथित तौर पर एक बिचौलिए की भूमिका निभाई थी।

अदालत ने आरोपियों के खिलाफ भारतीय दंड संहिता (आईपीसी) के तहत आपराधिक षड्यंत्र रचने और भ्रष्टाचार निरोधक अधिनियम के प्रावधानों के तहत आरोप तय किए हैं। दिल्ली पुलिस ने इस मामले में वर्ष 2009 में आरोप पत्र दाखिल किया था।

पूर्व सांसदों के अलावा दो पत्रकारों का भी नाम आरोप पत्र में शामिल किया गया था जिनपर भ्रष्टाचार निरोधी कानून के तहत कथित रूप से अपराध को बढावा देने के आरोप थे। निचली अदालत ने उन्हें समन भेजा था। लेकिन दिल्ली उच्च न्यायालय ने उनके खिलाफ जांच को रद्द कर दिया था।

673 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech