Loading... Please wait...

मुस्लिम औरतों का आकर्षक और चुस्त बुर्का पहनना ठीक नहीं

सहारनपुर । फतवों के लिए सदैव ही चर्चा में रहने वाली देवबंद की इस्लामिक शिक्षण संस्था दारूल उलूम ने मुस्लिम औरतों के आकर्षक और चुस्त बुर्का पहनने एवं सैर सपाटे की नीयत से घर से निकलने पर घोर आपत्ति जताई है।दारूल उलूम के फतवा देने वाले दारूल इफ्ता विभाग के अध्यक्ष मुफ्ती हबीबुर्रहमान खैराबादी ने आज यहां बताया कि देवबंद के एक व्यक्ति ने दारूल उलूम से सवाल किया था कि मुस्लिम औरतों को क्या चुस्त और आकर्षक बुर्का पहनना चाहिये। खैराबादी ने बताया कि मुफ्तियों की चार सदस्यीय पीठ ने इस सवाल पर विचार करते हुए कहा कि मुस्लिम औरतों को बहुत जरूरी होने पर ही घर से बाहर निकलना चाहिए और वे घर से बाहर जाते वक्त ढीले-ढाले कपड़े पहनें। चुस्त तंग और आकर्षक बुर्का पहनकर निकलना उचित नहीं है।

उन्होंने कहा कि हजरत पैगम्बर साहब ने फरमाया था कि औरतों को बिना जरूरत के घर से बाहर नहीं निकलने देना चाहिए। मुफ्तियों का कहना था कि आकर्षक और तंग लिबास में जब औरतें घर से बाहर निकलती हैं तो शैतान उन्हें घूरता है। इसलिए दारूल उलूम का फतवा विभाग औरतों द्वारा ऐसे लिबास पहनकर बाहर निकलने को नाजायज मानता है।वहीं,इस्लामिक विद्वान और लेखक बदर काजमी ने मुस्लिम औरतों की स्वतंत्रता और निजी पसंद पर रोक लगाने संबंधी इस फतवे की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि यह उन्नत साइंस और टेक्नोलाजी का युग है और पूरी दुनिया में औरतें स्वावलंबी एवं मर्दों की बराबरी कर रही हैं। काजमी ने कहा कि मौलवियों की जहालत के कारण उनकी जमीन खिसक रही है। इसलिए वे खुद की गढी शरीयत और मनमाने कानूनों की बातें कर रहे हैं। बदर काजमी ने कहा कि सन् 1450 में जर्मनी ने प्रिंटिंग प्रेस इजाद की थी।

तो टर्की के खलीफा सल्तनत के उस्मानी जो वहां के शेखुल इस्लाम ने इस प्रिंटिंग प्रेस को नाजायज करार दिया था। काजमी ने यह भी कहा कि मुस्लिम उलेमा, मुस्लिम औरतों की हलाला के नाम पर तार-तार हो रही इज्जत पर खामोश हैं। उन्होंने कहा कि तीन तलाक जैसी बुराई को खत्म करने का काम करके संसद ने इस्लामिक दुनिया को नई राह दिखाई है, जबकि यह काम इस्लाम के भीतर से होना चाहिए था। 
 

757 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd