Loading... Please wait...

पितृपक्ष में विदेशी भी पहुंच रहे गया

गया। एक ओर जहां आधुनिकता की अंधी दौड़ में आम तौर पर भारतीय संस्कृति और सनातन धर्म से लोग दूर हो रहे हैं, वहीं यहां की सनातन परंपरा के आकर्षण ने विदेशियों को भी इस पितृपक्ष में बिहार में मोक्षस्थली माने जाने वाले विष्णु नगरी गया खींच लाया है। पितृपक्ष में पूर्वजों की आत्मा की शांति और मोक्ष प्राप्ति के लिए पिंडदान और तर्पण के लिए रूस, स्पेन और जर्मनी से भी लोग यहां पहुंचे हैं। 
 
विदेशी पर्यटकों ने अपने पितरों की आत्मा की शांति के लिए शुक्रवार को मोक्षदायिनी फल्गु नदी में तर्पण अर्पण करने के बाद विष्णुपद के देव घाट पर श्राद्घ कर्म किया और पिंडदान किया। विदेशी पर्यटक पूर्वजों के पिंडदान और तर्पण के लिए रूस, स्पेन और जर्मनी से 18 विदेशियों का एक जत्था गुरुवार को गया पहुंचा था। 
 
टीम का नेतृत्व कर रहे लोकनाथ गौड़ ने आईएएनएस से कहा, "ये लोग भारतीय संस्कृति से काफी प्रभावित हैं। यहां आने के बाद सभी ने गयाजी की पावन भूमि को नमन किया। वे यहां की सनातन परंपरा से काफी प्रभावित हैं। पितृपक्ष में अगले तीन दिनों तक यहां रुक कर अपने पूर्वजों की आत्मा की शांति और उनके मोक्ष के लिए तर्पण एवं पिंडदान करेंगे।"
 
उन्होंने बताया कि वे शनिवार को पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए पिंडदान और रविवार को अक्षयवट में कर्मकांड करेंगे। उसके बाद सभी सदस्य नई दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे।
 
विदेश से आने वाले पिंडदानियों ने कहा कि उन्होंने गया में पिंडदान के बारे में बहुत कुछ सुन रखा है और उससे प्रभावित होकर वे अपने पूर्वजों को सम्मान देने के लिए यहां आए हैं। देवघाट में पिंडदान करने के बाद रूस की क्रिकोव अनंतोलल्ला ने कहा, "मैं यहां अपने पति, परिवार और देश में शांति के लिए आई हूं। गया में पूर्वजों को लेकर होने वाले इस अनुष्ठान के बारे में मैंने सुन रखा था, जिससे यहां आने के लिए प्रेरित हुई।" 
 
जर्मनी से आईं युगेनिया क्रेंच ने आईएएनएस से कहा कि उनके परिवार और घर में कुछ भी ठीक नहीं चल रहा है, इसलिए वह अपने इस दुर्भाग्य से छुटकारा पाने के लिए यहां आई हैं। उन्होंने कहा, "सनातन धर्म के विषय में मैंने काफी कुछ सुना है। इस कर्मकांड से न केवल पूर्वजों को मुक्ति (मोक्ष) मिलती है, बल्कि वर्तमान स्थिति में भी खुशहाली आती है।" 
 
गौरतलब है कि सभी विदेशी भारतीय वेशभूषा में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच पारंपरिक तरीके से इस कर्मकांड में शामिल हो रहे हैं। 
 
उल्लेखनीय है कि मंगलवार से प्रारंभ पितृपक्ष मेला 20 सितंबर को समाप्त होगा। आश्विन महीने के कृष्ण पक्ष पितृपक्ष या महालया पक्ष कहलाता है। हिंदू धर्म और वैदिक मान्यताओं में पितृ योनि की स्वीति और आस्था के कारण श्राद्घ का प्रचलन है। 
 
ऐसी मान्यता है कि पितृपक्ष में श्राद्घ कर्म कर पिंडदान और तर्पण करने से पूर्वजों की सोलह पीढ़ियों की आत्मा को शांति और मुक्ति मिल जाती है। इस मौके पर किया गया श्राद्घ पितृऋण से भी मुक्ति दिलाता है। पितृपक्ष में पिंडदान के लिए प्रसिद्घ गयाजी में इस बार 10 लाख श्रद्घालुओं के आने की संभावना है। 

Tags: , , , , , , , , , , , ,

170 Views

बताएं अपनी राय!

हिंदी-अंग्रेजी किसी में भी अपना विचार जरूर लिखे- हम हिंदी भाषियों का लिखने-विचारने का स्वभाव छूटता जा रहा है। इसलिए कोशिश करें। आग्रह है फेसबुकट, टिवट पर भी शेयर करें और LIKE करें।

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

आगे यह भी पढ़े

सर्वाधिक पढ़ी जा रही हालिया पोस्ट

मुख मैथुन से पुरुषों में यह गंभीर बीमारी

धूम्रपान करने और कई साथियों के साथ मुख और पढ़ें...

भारत ने नहीं हटाई सेना!

सिक्किम सेक्टर में भारत, चीन और भूटान और पढ़ें...

पाक सेना प्रमुख करेंगे जाधव पर फैसला!

पाकिस्तान की जेल में बंद भारतीय और पढ़ें...

बेटी को लेकर यमुना में कूदा पिता

उत्तर प्रदेश में हमीरपुर शहर के पत्नी और पढ़ें...

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd