Loading... Please wait...

एक ही दिन में तैयार हो रही है सब्जियां बेहद खतरनाक!

झुंझुनू। आप जो सब्जियां खा रहे है। उन्हें लेकर पहले सुनिश्चित कर लें कि कहीं एक ही दिन में तैयार की गई सब्जी तो आप नहीं खा रहे हैं। क्योंकि यह खतरनाक है। इन सब्जियों को एक ही दिन में तैयार करने के लिए बड़ी मात्रा में केमिकल का उपयोग किया जा रहा है। जो शरीर को खतरा पैदा कर रही है। मंगलवार को जब यह मामला जिला परिषद की प्रशासन एवं स्थापना समिति की बैठक में जिला परिषद सदस्य दिनेश सुंडा ने उठाया तो सभी अचरज में पड़ गए। दरअसल सुंडा ने बैठक के आरंभ में ही कृषि विभाग के अधिकारियों को बताया कि जिले में दूसरे प्रदेशों से आए किसान तीन साल के किराए पर खेतों को ले रहे हैं। उसमें वे हानिकारक केमिकलों का उपयोग कर सब्जियां पैदा कर रहे है। यह सब्जियां रातों-रात अकल्पनीय रूप से बढ़ रही है। जिन्हें बाजार में बेचा जा रहा है। 

ऐसी सब्जियों से स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ की संभावना बनी रहती है। लेकिन ना तो कृषि विभाग इस तरह की सब्जियों की जांच कर रहा है और ना ही चिकित्सा विभाग ध्यान दे रहा है। संभवतया दोनों ही विभाग बड़े हादसों को आमंत्रण दे रहे है। जिस पर कृषि विभाग के अधिकारियों ने आश्वस्त किया कि इस तरह की सब्जी पैदा करने वालों की जांच होगी। साथ ही आमजन को भी इसके लिए जागरूक किया जाएगा। इस मौके पर सुंडा ने चिकित्सा विभाग द्वारा गत दिनों चलाए गए ड्राई डे अभियान के बारे में जानकारी प्राप्त की और कहा कागजों में तो लाखों घरों में जाकर जागरूकता फैलाई गई। कई जगहों पर जमा पानी भी हटवाया गया। लेकिन शहर की ही बात करें तो पुलिस लाइन से लेकर गुढ़ा फाटक तक रेलवे लाइन के दोनों तरफ आज भी पानी जमा है। यहां के लोग कई बार प्रशासन को अवगत करवा चुके। लेकिन इस अभियान में भी इस क्षेत्र की ओर देखा तक नहीं गया। इसके अलावा सुंडा ने विधवा पेंशन के लिए सालाना होने वाले सत्यापन की प्रक्रिया के सरलीकरण का मुद्दा उठाया। जिस पर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक पवन पूनियां ने विभाग को सुझाव भिजवाने की बात कही। बैठक में इंजी. प्यारेलाल ढूकिया ने भी प्रारंभिक शिक्षा के अधिकारियों से पंचायत सहायकों की भर्ती के बारे में सवाल किया। लेकिन संतुष्टिपूर्ण जवाब अधिकारी नहीं दे पाए। बैठक की अध्यक्षता जिला प्रमुख ने की। जबकि इसमें सीईओ जेेपी बुनकर, सदस्य सुमित्रादेवी, सुलोचनादेवी, सांवरमल धानिया, ताराचंद गुप्ता के अलावा चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग के डिप्टी सीएमएचओ डॉ. नरोत्तम जांगिड़, महिला अधिकारिता विभाग के सहायक निदेशक विप्लव न्यौला भी मौजूद थे। बैठक में चिकित्सा विभाग के तीन और कृषि विभाग के दो कर्मचारियों के भी तबादले किए गए। 

277 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech