Loading... Please wait...

सुंदरता के लिए आईस क्यूब

शहनाज हुसैन

आईस क्यूब को ज्यादातर गर्मियों में तपती धूप में ठंडक प्रदान करने के लिए उपयोग किया जाता है। गर्मियों में आईस-क्यूब रोजमर्रा जिन्दगी का अहम हिस्सा बन जाती है। आईस क्यूब को सोडा, शरबत, फलों, कोल्ड ड्रिंक तथा पानी की बोतलो को ठण्डा करने के लिए कई तरीकों से प्रयोग किया जाता है। लेकिन आईस क्यूब का उपयोग महज खाने, पीने तक ही सीमित नहीं है बल्कि आईस क्यूब गार्मियों में चेहरे की रंगत निखारने तथा सनबर्न, काले दाग, कील मुंहासो तथा सौन्दर्य से जुड़ी अनेक समस्याओं का सरल तथा सस्ता उपचार साबित होते है।

आईस क्यूब से जहां सौन्दर्य समस्याओं के प्राकृतिक उपचार में मदद मिलती है वही आईस क्यूब, फेशियल स्पा तथा सैलून जैसे मंहगे सौंदर्य उपचारो के मुकाबलें कहीं ज्यादा प्रभावी साबित होते है। चेहरे पर आईस क्यूब की मसाज से त्वचा में खिंचाव आता है तथा छिद्रों से गंदगी बाहर निकलती है। लेकिन आईस-क्यूब को सीधे कभी चेहरे पर कतई न मलें क्येांकि इससे चेहरे की कोशिकाओं को नुकसान पहुंच सकता है। आईस-क्यूब को हमेशा साफ कॉटन के कपड़े में लपेटकर ही चेहरे की हल्के-हल्के उपर से नीचे तथा दाऐ से बाएं ओर मसाज करे। हल्के-हल्के मसाज करने से त्वचा में ताजगी तथा रंगत में निखार का साफ अहसास देखा जा सकता है।

गर्मियों के आर्द्रता भरें मौसम में फांउडेशन को ज्यादा देर तक बनाए रखने के लिए सबसे पहले त्वचा को धोकर साफ करें तथा काटन वूल की मदद से एस्ट्रीजैन्ट टोनर अप्लाई करें। कुछ मिन्टों के बाद साफ कपड़े में आईस-क्यूब को चेहरे पर अहिस्ता से रगड़िए। इससे त्वचा के छिद्रों को बन्द करने में मदद मिलेगी। वैकल्पिक तौर पर आईस क्यूब के ठण्डे़ पानी में काटन वूल को भिगोकर इसे त्वचा पर अहिस्ता-अहिस्ता मलिए। इससे त्वचा की रंगत में निखार आएगा तथा त्वचा के छिद्रो को बन्द करने में मदद मिलेगी।

अगर त्वचा में चोट की वजह से सूजन आ जाए तो आईस-पैक्स से त्वचा की जलन तथा सूजन को राहत प्रदान करने में मदद मिलती है। आईस-क्यूब आंखों में सूजन के लिए भी रामबाण का काम करती है। एक साफ काटन के वस्त्र में आईस-क्यूब को लपेट कर कुछ सैकंड तक आंखों से लगाइए लेकिन याद रखिए कि आंखों के नीचे की त्वचा अत्यन्त पतली तथा संवेदनशील होती है तथा अगर आपने आईस क्यूब ज्यादा देर तक आंखेां के नीचे रखें तो आंखों की कोशिकाओं को नुकसान हो सकता है। थ्रेडिंग तथा वैक्सिंग के बाद भी आईस-क्यूब ठण्डक तथा राहत प्रदान करने में अति सहायक साबित होती है।

कई बार थ्रेडिंग के बाद त्वचा में सूजन तथा लालगी आ जाती है जिसे आईस-क्यूब को नैपकिन में लपेटकर मलने से दूर किया जा सकता है।

घर में जब आप आईब्रोज करती है तो वैक्सिंग के बाद लालगी तथा सूजन के लिए आईस-क्यूब का उपयोग किया जा सकता है।

त्वचा पर चकते, फोडे़, फुन्सियों में भी आईस-क्यूब काफी लाभकारी माने जाते है। अगर फोडे़, फुन्सियों की वजह से चेहरे पर जलन तथा सूजन महसूस हो रही हो तो आईस-क्यूब के उपयोग से काफी राहत मिलती है।

आईस-क्यूब के लगातार उपयोग से छिद्र बन्द हो जाते है जिससे कील मुंहासे निकलने बन्द हो जाते है।

यदि आप किसी पार्टी में जाने की जल्दी में है तथा आप मेकअप के लिए समय नहीं निकाल पा रहे है तो भी साफ कपड़े या नैपकिन में आई क्यूब लपेटकर चेहरे तथा त्वचा पर रगड़ने से त्वचा में निखार आएगा तथा चेहरे की आभा बढ़ेगी।

चेहरे पर आईस क्यूब से चेहरे की झुर्रियों को रोकने में मदद मिलती है। मुटठी भर आईस क्यूब में लवैंडर, जैस्मिन तेल की बूंदे डालकर कपड़े में लपेटकर चेहरे की मसाज करने से त्वचा की यौवनता लौट आती हे। आईस क्यूब में संतरा, नींबू, स्ट्राबेरी का रस मिलाकर नैपकिन में डालकर चेहरे की मसाज करने से चेहरे के छिद्रो को टाईट करेन में मदद मिलती है जिससे आप युवा लगते है।

(लेखिका अन्र्तराष्ट्रीय सौन्दर्य विशेषज्ञ)

219 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2016 nayaindia digital pvt.ltd.
Maintained by Netleon Technologies Pvt Ltd