Loading... Please wait...

मंगल, शुक्र ग्रह अभियान के लिए भारत-फ्रांस साथ!

नई दिल्ली। भारत और फ्रांस की अंतरिक्ष एजेंसियां मंगल और शुक्र के लिए अंतर - ग्रहीय अभियानों पर काम करने को लेकर चर्चा कर रही हैं। गौरतलब है कि दोनों देशों के बीच बढ़े हुए अंतरिक्ष सहयोग के लिए एक संयुक्त बयान पर सहमति बनने के करीब महीने भर बाद यह चर्चा हो रही है। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन ( इसरो ) और फ्रांसीसी राष्ट्रीय अंतरिक्ष एजेंसी ( सीएनईसी ) चंद्रमा , मंगल और अन्य ग्रहों पर रोवर के स्वतंत्र रूप से परिचालन के लिए साथ मिल कर काम करने पर राजी हुए हैं। दोनों देश ग्रहीय खोज के लिए एयरोब्रेकिंग प्रौद्योगिकी पर भी सहमत हुए हैं। 

सीएनईएस के एक अधिकारी ने बताया , ‘‘ मंगल की तुलना में शुक्र पर ज्यादा खोज नहीं की गयी है। यही कारण है कि हम शुक्र पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं। इसरो ने अपने लिए इस प्राथमिकता की पुष्टि की है। भारत के भविष्य के मंगल अभियान के लिए भी चर्चा हो रही है। ’’ 

भारत ने दो अंतर ग्रहीय अभियान - चंद्रयान 1 और मंगलयान - सफलतापूर्वक पूरा किया है। इस महीने इसके चंद्रयान 2 भेजने की संभावना है , जिसके जरिए चंद्रमा पर एक रोवर उतारा जाएगा। खासतौर पर सीएनईएस इसरो को भविष्य के चंद्र रोवर के परिचालन में मदद कर सकता है जबकि दोनों देश मंगल और शुक्र के वायुमंडल के बारे में जानकारी जुटाने के लिए संयुक्त रूप से काम करेंगे। 

गौरतलब है कि शुक्र भी मंगल की तरह पृथ्वी का करीबी ग्रह है। लेकिन शुक्र अब तक वैज्ञानिकों के लिए एक पहेली बना हुआ है। भारत -- फ्रांस सहयोग बहुत मजबूत है और यह छह दशक पुराना है। भारत अपने उपग्रहों को उसकी कक्षा में भेजने के लिए फ्रांसीसी प्रक्षेपण स्थलों का इस्तेमाल करता रहा है। 

897 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech