बीएचयू में राहुल एवं शिवपूजन सहाय की 125वीं जयंती मनेगी

नई दिल्ली। आज़ादी की लड़ाई में चार बार जेल जानेवाले मशहूर लेखक महापण्डित राहुल सांकृत्यायन और तेरह पत्र पत्रिकाओं के प्रख्यात संपादक तथा हिंदी सेवी आचार्य शिवपूजन सहाय की 125 वीं जयंती के अवसर पर बनारस हिंदू विश्वविद्यालय 19 फरवरी से तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी आयोजित कर रहा है। 

महात्मा गांधी अंतर राष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय वर्धा और उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित इस संगोष्ठी में देश भर से करीब 75 लेखक भाग ले रहे हैंगोष्ठी की संयोजक एवं बी एच यू में हिंदी की प्रोफेसर चंद्रकला त्रिपाठी ने यूनीवार्ता को बताया कि हिंदी साहित्य एवं भाषा के निर्माण में ऐतिहासिक भूमिका निभाने वाले इन दो महान विभूतियों के योगदान पर लेखकगण करीब दस सत्रों में नवजागरण के परिप्रेक्ष्य में विचार करेंगे। 
  उन्होंने बताया कि संगोष्ठी में शिवपूजन सहाय के पुत्र डॉ मंगल मूर्ति, गंगा प्रसाद विमल, उषाकिरण खान, सूर्यबाला, अच्युतानंद मिश्र, अवधेश प्रधान, डॉ ओमप्रकाश सिंह, आशीष त्रिपाठी, रामाज्ञा शशिधर, कृपाशंकर चौबे जैसे लोग भाग लेंगे। इस बीच संस्कृति मंत्री डॉ महेश चंद्र शर्मा ने कहा है कि इन दोनों लेखकों की 125 वीं जयंती मनाने का प्रस्ताव उनके पास लंबित है और वे इस प्रस्ताव को सरकार के सामने रखेंगे। 

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय जन्मशती समारोह समिति की बैठक में इस पर विचार होगा जिसमें प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी गृह मंत्री राजनाथ सिंह वित्त मंत्री अरुण जेटली शामिल है। गौरतलब है कि गत दिनों भारतीय ज्ञानपीठ और साहित्य अकादमी ने इन दोनों लेखकों की 125 वीं जयंती पर कार्यक्रम आयोजित किये हैं। इसके अलावा कोलकत्ता में भी हिंदी मेला के दौरान एक कार्यक्रम हुआ है। 

इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र भी राहुल जी पर एकबड़ा कार्यक्रम करने जा रहा है। नौ अप्रैल 1893 को उत्तरप्रदेश के आज़मगढ़ जिले में जन्मे राहुल जी और नौ अगस्त 1893 को बिहार के बक्सर जिले में जन्मे शिवपूजन जी को लोकनायक जयप्रकाश नारायण के साथ मानद डी लिट् की उपाधि मिली थी।

दोनों को भारत सरकार ने पद्मभूषण प्रदान किया था और उनकी जन्मशती पर एक डाक टिकट भी जारी किया था।
702 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।