Loading... Please wait...

खालसा पंथ की स्थापना

नई दिल्ली। देश की आजादी के इतिहास में 13 अप्रैल का दिन एक दुखद घटना के साथ दर्ज है। 100 बरस पहले 13 अप्रैल के ही दिन जलियांवाला बाग में अंग्रेज हुक्मरान ने शांतिपूर्ण सभा के लिए एकत्रित हुए निहत्थे भारतीयों पर अंधाधुंध गोलियां बरसाई थीं। इसके अलावा खालसा पंथ की नींव भी 13 अप्रैल के दिन ही रखी गई थी। 13 अप्रैल का दिन वर्ष का 103वां दिन है और अब साल के 262 दिन बाकी हैं। देश दुनिया के इतिहास में 13 अप्रैल की प्रमुख घटनाएं इस प्रकार हैं।

1699 : सिखों के दसवें गुरू गोविंद सिंह ने खालसा पंथ की स्थापना की। हर साल इसी दिन बैसाखी का त्यौहार बनाया जाता है।

1796 : इटली की जंग में नेपोलियन ने आस्ट्रिया को हराया।

1890 : भारत की पहली फिंल्म 'श्रीपुंडलीक' का निर्माण करने वाले फिल्मकार दादासाहब तोरणे का जन्म।

1919 : पंजाब के अमृतसर में जलियांवाला बाग में ब्रिटिश जनरल डायर ने सभा कर रहे निहत्थे लोगों पर गोलियां चलाकर सैकड़ों लोगों की जानें ली।

1941: तत्कालीन सोवियत संघ और जापान ने तटस्थता संधि पर हस्ताक्षर किये।

1944: तत्कालीन सोवियत संघ और न्यूजीलैंड के बीच राजनयिक संबंध स्थापित हुए।

1947 : भारत और पाकिस्तान के बीच राजनयिक संबंध स्थापित हुए।

1960: फ्रांस सहारा मरूस्थल में परमाणु बम का परीक्षण करने वाला चौथा देश बना।

1970: चन्द्रमा की यात्रा पर रवाना हुए अमेरिकी अंतरिक्ष यान अपोलो 13 के र्इंधन टैंक में विस्फोट।

1980: अमेरिका ने मास्को में हो रहे ग्रीष्मकालीन ओलंपिक खेलों का बहिष्कार किया।

1984 : भारतीय क्रिकेट टीम ने शारजाह में पाकिस्तान को 58 रन से हराकर पहली बार एशिया कप जीता।

1997: अमेरिका के गोल्फ़ खिलाड़ी एल्ड्रिक टाइगर वुड्स 21 साल की उम्र में यूएस मास्टर्स चैंपियनशिप जीतने वाले सबसे कम उम्र के खिलाड़ी बने।

2013: पाकिस्तान के पेशावर में एक बस में धमाके से आठ लोगों की मौत। 13 अप्रैल का दिन एक्वाडोर में शिक्षक दिवस के रूप में मनाया जाता है।

 

501 Views

बताएं अपनी राय!

नीचे नजर आ रहे कॉमेंट अपने आप साइट पर लाइव हो रहे है। हमने फिल्टर लगा रखे है ताकि कोई आपत्तिजनक शब्द, कॉमेंट लाइव न हो पाए। यदि ऐसा कोई कॉमेंट- टिप्पणी लाइव हुई और लगी हुई है जिसमें अर्नगल और आपत्तिजनक बात लगती है, गाली या गंदी-अभर्द भाषा है या व्यक्तिगत आक्षेप है तो उस कॉमेंट के साथ लगे ‘ आपत्तिजनक’ लिंक पर क्लिक करें। उसके बाद आपत्ति का कारण चुने और सबमिट करें। हम उस पर कार्रवाई करते उसे जल्द से जल्द हटा देगें। अपनी टिप्पणी खोजने के लिए अपने कीबोर्ड पर एकसाथ crtl और F दबाएं व अपना नाम टाइप करें।

आपका कॉमेट लाइव होते ही इसकी सूचना ईमेल से आपको जाएगी।

© 2018 ANF Foundation
Maintained by Quantumsoftech